समाचार
|| आधारशिला के समापन पर मलिक बंधुओं के ध्रुपद गायन ने बांधा समां राग जोग, महाकाल पद के साथ ही अन्य रचनाओं की दी सुरमयी प्रस्तुति श्रोता हुये मंत्रगुग्ध || विद्यालयों में सभी कक्षाएँ 50% क्षमता के साथ संचालित होगी :राज्य मंत्री श्री परमार || बनेगी बसई से भैरेश्वर तक सड़क - मंत्री डॉ. मिश्रा || स्वतंत्रता के बाद राष्ट्रीय पुनर्निर्माण के उद्देश्य से हुई एनसीसी की स्थापना-राज्य मंत्री श्री परमार || भोपाल को देश के प्रमुख शहरों की विमान सेवाओं से जोड़ने की माँग || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महात्मा फुले को पुण्य-तिथि पर किया नमन || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने उर्वरक वितरण की समीक्षा की || प्रधानमंत्री श्री मोदी ने जनजातीय समुदाय के योगदान का किया स्मरण || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्मार्ट उद्यान में लगाया पिंकेशिया और पीपल का पौधा || कोरोना के नए वेरिएंट से सिर्फ चिंतित नहीं सावधान भी रहें
अन्य ख़बरें
किसानों को सिंचाई के लिए बिजली की कमी नहीं आने देंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान
77 लाख किसानों के खातों में 1540 करोड़ रूपये की किसान सम्मान निधि राशि अंतरित, म.प्र. में सिंचाई क्षमता साढ़े 7 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 42 लाख हेक्टेयर हुई, वर्ष 2025 तक 65 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई क्षमता करने का लक्ष्य, भगवान के बाद मेरे लिए श्रद्धा के केन्द्र हैं किसान, प्रधानमंत्री श्री मोदी किसान कल्याण और किसान की आय दुगनी करने के लिए प्रतिबद्ध, किसान से किया आव्हान, अपने खेतों में सोलर प्लांट लगाएँ, सरकार सर प्लस बिजली खरीदेगी, किसानों के हित के लिए सरकारी खजाने में धन की कोई कमी नहीं, प्रदेश के अन्नदाता 6 करोड़ मेट्रिक टन अनाज का उत्पादन कर रहे हैं, किसानों के परिश्रम से आज अन्न के भंडार भरे पड़े हैं, किसान अन्नदाता भी हैं और प्रदेश के भाग्य विधाता भी, देश आपका ऋणी है, कोरोना काल में किसानों के खाते में फसल बीमा योजना की 9 हजार करोड़ की राशि पहुँचाई, मैं फसल का एक-एक दाना खरीदूंगा, किसानों की मेहनत और राज्य सरकार की योजनाओं से कृषि विकास की दर बढ़कर 18 प्रतिशत हुई, किसानों के प्रयास और सिंचाई क्षमता में हुई वृद्धि से म.प्र. को 7 बार मिला कृषि कर्मण अवार्ड, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों को कृषि के विविधीकरण के लिए प्रेरित किया, असंभव को संभव बनाकर प्रदेश के कई क्षेत्रों में किसानों के खेतों तक पहुँचाया नर्मदा मैया का पानी, बिजली की बढ़ती खपत और कोयला महंगा होने के बावजूद किसान को सस्ती दरों पर दी बिजली, सस्ती बिजली देने के लिए 21 हजार करोड़ रुपए की सब्सिडी देने का लिया निर्णय, एक नवम्बर से आरंभ होगा भू-अभिलेख शुद्धिकरण पखवाड़ा, डी.ए.पी. खाद के विकल्प के रूप में एन.पी.के. उर्वरक के उपयोग की सलाह, किसानों के लिए उपयोगी है इथनॉल पॉलिसी, खाद की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले जाएंगे जेल, कुछ दिन बाद फसल बीमा का पैसा भी किसानों के खातों में डाला जाएगा, अगले माह से आरंभ होगी “आपका राशन आपके द्वार योजना”, आदर्श आचरण संहिता वाले जिलो में नहीं हुई राशि जारी
भिण्ड | 24-अक्तूबर-2021
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश की हरियाली और खुशहाली के लिए जो दिन-रात काम करता है, ऐसे किसानों को मैं शीश झुका कर प्रणाम करता हूँ। भगवान के बाद मेरे लिए श्रद्धा के केन्द्र हैं किसान। किसानों के श्रम से आज अन्न के भंडार भरे पड़े हैं। किसान अन्नदाता भी हैं और प्रदेश के भाग्य विधाता भी। देश आपका ऋणी है। मैं किसानों की जिंदगी में सुख, शांति, सुकून और समृद्धि लाने और आपकी जिंदगी बदलने के लिए मुख्यमंत्री बना हूँ। किसानों के लिए सरकार के खजाने में पैसों की कभी कमी नहीं होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना में प्रदेश के ४४ जिलों के किसानों के खातों में किसान सम्मान निधि की राशि अंतरित की। मिंटो हॉल भोपाल में आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम कन्या पूजन से आरंभ हुआ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दीप भी प्रज्वलित किया। राजस्व मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत कार्यक्रम में झाबुआ से वर्चुअली शामिल हुए।
मिंटो हॉल में आयोजित कार्यक्रम में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेंद्र सिंह तथा विधायक एवं पूर्व प्रोटेम स्पीकर श्री रामेश्वर शर्मा तथा अधिकारी और कृषक सम्मिलित हुए। मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना के इस कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबंधित जिलों के किसान, जन-प्रतिनिधि एवं अधिकारी वर्चुअली शामिल हुए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ७७ लाख किसानों के खातों में १५४० करोड़ रूपये सिंगल क्लिक से अंतरित किए। राज्य शासन द्वारा दी जा रही यह राशि वित्तीय वर्ष २०२१-२२ की है। इस कार्यक्रम में आदर्श आचरण संहिता वाले जिलों को शामिल नहीं किया गया है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी किसानों के कल्याण और उनकी आय दोगनी करने के लिए  प्रतिबद्ध हैं। इसी के परिणामस्वरूप साल में तीन बार दो-दो हजार रूपए की तीन किस्त कुल छह हजार रूपए प्रधानमंत्री श्री मोदी की ओर से किसानों के खाते में जारी किए जाते हैं। इसी को आगे बढ़ाते हुए राज्य सरकार द्वारा चार हजार रूपए प्रतिवर्ष मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना के अंतर्गत किसानों के लिए जारी करने का निर्णय कोरोना काल में लिया गया।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि २००३ से पहले तक प्रदेश का कुल कृषि उत्पादन केवल दो करोड़ १४ लाख मीट्रिक टन था। अब प्रदेश के अन्नदता ६ करोड़ मीट्रिक टन अनाज का उत्पादन कर रहे हैं। अन्न उत्पादन में तीन गुना की वृद्धि हुई है। कृषि विकास दर की औसत दर २००३ से पहले लगभग २ से ३ प्रतिशत हुआ करती थी। किसानों की मेहनत और राज्य सरकार की योजनाओं से कृषि विकास की दर बढ़कर अब १८ प्रतिशत हो गई है। किसानों के प्रयासों और सिंचाई क्षमता में हुई वृद्धि से प्रदेश को ७ सात बार कृषि कर्मण पुरस्कार प्राप्त हुआ है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह उपलब्धियाँ सिंचाई बढ़ने से संभव हुई हैं। पूर्व में सिंचाई की कोई पुख्ता योजना नहीं होने से प्रदेश का सिचिंत रकबा केवल ७ लाख ५० हजार हेक्टेयर हुआ करता था, जो पिछले १७ सालों में बढ़कर ४२ लाख हेक्टेयर तक पहुँचा है। यह छह गुना वृद्धि दिन-रात काम करने के परिणामस्वरूप संभव हुई है। नदी जोड़ो योजना में प्रदेश में ऐतिहासिक काम हुआ है। असंभव को संभव बनाकर प्रदेश के कई क्षेत्रों में किसानों के खेत तक नर्मदा मैया का पानी पहुँचाया गया। इसके लिए नर्मदा मैया का पानी क्षिप्रा जी में पाईप से लाया गया। गंभीर नदी, कालीसिंध और पार्वती नदी को भी जोड़ा गया है। बरगी का पानी सतना तक टनल के माध्यम से पहुंचाने के लिए भी सरकार प्रोजेक्ट मोड में काम कर रही है। हाल ही में राज्य सरकार ने १३८७ करोड़ की झिरन्या माइक्रो उद्ववहन सिंचाई योजना को स्वीकृति प्रदान की है। इस योजना के निर्माण से खरगोन जिले के  झिरन्या  तहसील के  ८६  ग्रामों  के लिए ३९ हजार ५२० हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। इसी प्रकार देवास जिले में हाटपिपल्या माइक्रो उद्ववहन सिंचाई परियोजना स्वीकृत की गई है, इससे ४६२ गाँव लाभान्वित होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश की सम्पूर्ण कृषि भूमि को सिंचाई सुविधा देने के लिए हरसंभव कोशिश जारी है। हमारा प्रयास है कि २०२५ तक ६५ लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पूरी दुनिया में बिजली का संकट है, पर हम सिंचाई के लिए बिजली की कमी नहीं आने देंगे। बिजली की बढ़ती खपत और कोयल महँगा होने के बावजूद किसान को सस्ती दरों पर बिजली दी जाएगी।  हमारी सरकार ने किसानों को सस्ती बिजली देने के लिए २१ हजार करोड़ रूपए की सब्सिडी देने का निर्णय लिया। एक युग था जब प्रदेश में बिजली की उपलब्धता केवल ५ हजार मेगावॉट थी, जिसे हमने बढ़ाकर २२ हजार मेगावॉट किया।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बिजली की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सभी संसाधनों का उपयोग किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों से अपने खेतों में सोलर प्लांट लगाने का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भरपूर सौर ऊर्जा उपलब्ध है। अतरू राज्य सरकार द्वारा सोलर पॉवर प्लांट लगाने की योजना आरंभ की गई है। इस योजना में किसान दो मेगावॉट तक सोलर प्लांट लगाकर बिजली ग्रिड में बिजली दे सकते हैं। किसानों से सरप्लस बिजली प्रति यूनिट लगभग ३ रूपए ५ पैसे की दर से ली जाएगी। इससे स्वयं की जरूरतों को पूरा करने के बाद जरूरत से अधिक विद्युत को बेचकर किसान अतिरिक्त आय प्राप्त कर सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों से बिजली बचाने का अनुरोध भी किया है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सरकार के प्रयासों और किसान की मेहनत के परिणामस्वरूप प्रदेश में फसल का बम्पर उत्पादन हो रहा है। मैं किसानों से आव्हान करता हूँ कि वे फसलों का भरपूर उत्पादन लें, मैं फसल का एक-एक दाना खरीदूंगा। खेती को फायदे का धंधा बनाना प्रधानमंत्री श्री मोदी की चिंता है। प्रधानमंत्री श्री मोदी की पहल पर राज्य सकार इथनॉल पॉलिसी ला रही है। अनाज से भी इथनॉल बनता है और इथनॉल का उपयोग पेट्रोल-डीजल के साथ किया जा सकता है। अतरू बम्पर फसल उत्पादन का उपयोग इथनॉल उत्पादन में हो सकेगा। इससे किसानों की आय बढ़ाने में मदद मिलेगी।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारी सरकार ने किसानों की चिंता करते हुए सबसे पहले पुराने वर्षों का बकाया २२०० करोड़ प्रीमियम का भुगतान किया। इस कारण किसानों को ३ हजार २०० करोड़ रूपए की दावा राशि का भुगतान संभव हुआ। कोरोना काल में  किसानों के खातों में फसल बीमा योजना की ९ हजार करोड़ से अधिक की राशि पहुँचाई गई। कुछ दिन बाद फसल बीमा का पैसा भी किसानों के खातों में डाला जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा जीरो प्रतिशत दर पर ऋण की व्यवस्था की गई है। फसलों के नुकसान पर राहत देने के लिए भी राज्य सरकार द्वारा पर्याप्त व्यवस्था की गई है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों से खेती के विविधीकरण को अपनाने की अपील की। उन्होंने कहा कि कई वर्षों से लगातार ले रहे परम्परागत फसलों के फसल चक्र को बदलना आवश्यक है। अतरू परम्परागत फसलों के साथ फल, फूल और औषधियों की खेती को भी अपनाना आवश्यक है। साथ ही स्थानीय स्तर पर हो रहे उत्पादों की प्रोसेसिंग और ष्एक जिला एक उत्पादष् योजना फसलों की ब्रांडिंग और मार्केटिंग के लिए राज्य शासन द्वारा चलाई जा रही योजनाओं से जुड़ने के लिए भी मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों को प्रेरित किया।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि खाद की ब्लैक मार्केटिंग करने वालों को सीधे जेल भेजा जाएगा। खाद की विदेशों से आपूर्ति होती है। राज्य सरकार खाद आपूर्ति के संबंध में वितरण व्यवस्था में किसी भी प्रकार की कठिनाई न हो, इसके लिए लगातार निगरानी रखी जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कृषि वैज्ञानिकों की सलाह के अनुरूप डी.ए.पी. के विकल्प के रूप में एन.पी.के. उर्वरकों का उपयोग भी किया जा सकता है।  
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भू-अभिलेखों में विभिन्न प्रकार की त्रुटियाँ दूर करने के लिए एक नवम्बर से भू-अभिलेख शुद्धिकरण पखवाड़ा मनाया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वामित्व योजना आरंभ करने के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी का आभार माना। योजना में गाँव में बने घरों का मालिकाना हक ग्रामवासियों को प्रदान किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जल जीवन मिशन, संबल योजना, छात्र-छात्राओं की बेहतर शिक्षा के लिए जारी व्यवस्थाओं के संबंध में किसान भाइयों से चर्चा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कृषि की उत्पादन लागत कम करने, उत्पादन बढ़ाने, किसानों को उत्पादन का सही मूल्य दिलाने और किसान को होने वाले नुकसान की भरपाई से ही किसान की आय दोगनी करने का मार्ग प्रशस्त होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार धान की खरीद के लिए तैयारियाँ कर रही है।  
झाबुआ से वर्चुअली जुड़े राजस्व मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों की खुशहाली के लिए मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना लागू की। योजना में पिछले वर्ष तक प्रदेश के किसानों के खातों में १४९१ करोड़ रुपये अंतरित किये जा चुका है। इस वर्ष १५०० करोड़ रूपये अंतरित किये गए और आज ७७ लाख किसानों के खातों में पुनरू १५४० करोड़ रूपये अंतरित किये जा रहे है। मुख्यमंत्री श्री चौहान की मंशा के अनुसार अगले माह से आपका राशन आपके द्वार योजना आरंभ की जा रही है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रतीकस्वरूप सीहोर जिले के ग्राम पचामा के श्री नंदकिशोर परमार, विदिशा जिले की श्रीमती सावित्री बाई, रायसेन जिले के ग्राम रतनपुर के श्री मचल सिंह मीणा, भोपाल जिले के बरखेड़ी अब्दुल्ला के श्री धर्मेंद्र मैथिल, भोपाल की ईटखेड़ी सड़क तहसील हुजूर की श्रीमती द्रौपदी सैनी, भोपाल जिले के तहसील हुजूर के ग्राम सेवानिया ओमकार के श्री सीताराम नरवरिया को दो-दो हजार रूपए के चेक प्रदान किए।
(36 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2021दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer