समाचार
|| आधारशिला के समापन पर मलिक बंधुओं के ध्रुपद गायन ने बांधा समां राग जोग, महाकाल पद के साथ ही अन्य रचनाओं की दी सुरमयी प्रस्तुति श्रोता हुये मंत्रगुग्ध || विद्यालयों में सभी कक्षाएँ 50% क्षमता के साथ संचालित होगी :राज्य मंत्री श्री परमार || बनेगी बसई से भैरेश्वर तक सड़क - मंत्री डॉ. मिश्रा || स्वतंत्रता के बाद राष्ट्रीय पुनर्निर्माण के उद्देश्य से हुई एनसीसी की स्थापना-राज्य मंत्री श्री परमार || भोपाल को देश के प्रमुख शहरों की विमान सेवाओं से जोड़ने की माँग || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महात्मा फुले को पुण्य-तिथि पर किया नमन || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने उर्वरक वितरण की समीक्षा की || प्रधानमंत्री श्री मोदी ने जनजातीय समुदाय के योगदान का किया स्मरण || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्मार्ट उद्यान में लगाया पिंकेशिया और पीपल का पौधा || कोरोना के नए वेरिएंट से सिर्फ चिंतित नहीं सावधान भी रहें
अन्य ख़बरें
पुरानी जल संरचनाओं को सहेजकर ग्रामीणों की आमदनी का जरिया बनाया जाएगा - जिला पंचायत सीईओ श्री तिवारी
-
ग्वालियर | 24-अक्तूबर-2021
     जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित पुरानी जल संरचनाएं मसलन तालाब, चेकडैम व स्टॉपडेम इत्यादि की जलभराव क्षमता बढ़ाई जाएगी। ऐसी जल संरचनाओं को चिन्हित कर जरूरत के मुताबिक जीर्णोद्धार और मरम्मत कार्य कराए जायेंगे। प्रयास ऐसे होंगे, जिससे इन जल संरचनाओं में सिंघाडा व मछली पालन के साथ-साथ सिंचाई सुविधा भी बढ़े और ग्रामीणों की आमदनी में इजाफा हो।
इसके लिए हर ग्राम पंचायत में एक  तकनीकी सलाहकार समिति का गठन किया जा रहा है। जिसमें उस ग्राम पंचायत के सरपंच, सचिव , ग्राम रोजगार सहायक,  क्षेत्रीय पटवारी , क्षेत्रीय कृषि विस्तार विकास अधिकारी और क्षेत्रीय उपयंत्री सदस्य होंगे।
इसी कड़ी में जिले के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री आशीष तिवारी ने प्रत्येक जनपद पंचायत के सीईओ जनपद पंचायत , सहायक यंत्री , उपयंत्री सहित तकनीकी सलाहकार समिति के सदस्यों को क्षेत्र में जाकर पुरानी , अनुपयोगी जल संरचनाओं जो कि  वर्तमान में उपयोगी नहीं रहीं है उनके चिन्हांकन के लिए ताकीद कर दिया है । श्री तिवारी ने जिले के अधिकारियों के साथ डबरा क्षेत्र का भ्रमण कर पुरानी जल संरचनाओं के चिन्हाकंन का काम जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिए।
सीईओ श्री तिवारीने बताया कि इन जल संरचनाओं के चिन्हांकन के बाद जल संरचनाओं के जीर्णोद्धार और मरम्मत का काम कराया जाएगा। इससे संबंधित ग्रामीण क्षेत्र में जल स्तर में वृद्धि होगी। साथ ही जल संरचनायें अतिक्रमण से मुक्त होंगीं। इन संरचनाओं के लिए उपयोगकर्ता समूह बनाए जायेंगे। जल संरचनाओं में 3 से 5 साल तक सिंघाड़ा उत्पादन और मत्स्य पालन के लिए भी ग्रामीणों को अधिकार दिये जाएंगे।  
श्री तिवारी ने ग्रामीणों से अपील की है कि यदि उनके क्षेत्र में ऐसी कोई पुरानी जल संरचना है जिसके जीर्णोद्धार , मरम्मत या अतिक्रमण मुक्त कराते हुए उसे एक उपयोगी संरचना बनाकर मत्स्य पालन,  सिंघाड़ा उत्पादन या सिंचाई के लिए उपयोगी बनाया जा सकता है तो वे अपने ग्राम पंचायत के प्रधान, सचिव, रोजगार सहायक या क्षेत्रीय  उपयंत्री या कृषि विस्तार विकास अधिकारी, पटवारी या सीईओ जनपद पंचायत में से किसी  को भी अवगत कराएं । यदि वे उस जल संरचना में मत्स्य पालन या सिंघाड़ा उत्पादन करके  आय अर्जित करने के इच्छुक हैं तो अपनी सहमति भी प्रदान करें ।

 
(36 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अक्तूबरनवम्बर 2021दिसम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer