समाचार
|| महाअभियान के तहत 16 हजार 806 लोगों ने लगवाया कोविड टीका || महाविद्यालय में वैक्सीनेशन कार्यक्रम आयोजित || मुख्यमंत्री श्री चौहान का दौरा कार्यक्रम || हेलिकॉप्टर क्रेश में जिले के जवान श्री जितेंद्र कुमार वर्मा का दुखद निधन || मंत्री गोपाल भार्गव आज जिले के भ्रमण पर || “भारत ने खो दिया एक हीरो” मुख्यमंत्री श्री चौहान ने हेलीकॉप्टर दुर्घटना में सीडीएस श्री बिपिन रावत और अन्य लोगों के निधन पर दु:ख व्यक्त || केन्द्रीय मंत्री-मंडल ने केन-बेतवा नदियों को आपस में जोड़ने की परियोजना को दी मंजूरी || राष्ट्रीय गुणवत्ता मानक सर्वेक्षण में पीएचसी वीरपुरडेम प्रथम || एक दिवसीय लैंगिक उत्पीड़न अधिनियम विषयक || जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला
अन्य ख़बरें
ग्राम पंचायत अख्त्यारपुर में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन
-
शाजापुर | 24-अक्तूबर-2021
राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली एवं मध्यप्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार ‘आजादी का अमृत महोत्सव‘ के अंतर्गत श्री सुरेन्द्र श्रीवास्तव प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शाजापुर के मार्गदर्शन में तहसील विधिक सेवा समिति शुजालपुर के तत्वाधान में आज 24 अक्टूबर 2021 रविवार को न्यायाधीश श्री शरद कुमार गुप्त द्वारा ग्राम अख्त्यारपुर, शुजालपुर में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया।
            न्यायाधीश श्री शरद कुमार गुप्त ने उपस्थित ग्रामीणजनों को संबोधित करते हुए कहा कि आज राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर आधुनिक युग के अनुसार मानवता की रक्षा करने के लिए जो भी कदम उठाए गए है वे उन महान व्यक्तियों के व्यापक दृष्टिकोण का परिणाम है, जिन्होंने सभी भेद-भाव से परे रहते हुए उनके लिए भी सोचा जो उनसे बिलकुल अपरिचित है और इस उद्देष्य के लिए आधुनिक युग का सबसे बड़ा कदम 24 अक्टूबर 1945 को उठाया गया है और वर्तमान संयुक्त राष्ट्रसंघ की स्थापना भी और तब से अब तक इंस संस्था द्वारा मानवता को युद्ध की विभीषिका से बचाने में सफल हुए और इसके बाद जो सबसे बड़ा कदम उठाया गया वह विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत का संविधान है, जो इस योजना पर 26 नवंबर 1949 से अग्रसर है की पहले नागरिकों का व्यक्तिगत उत्थान हो, वह उत्थान सामूहिक उत्थान में परिवर्तित हो और उस उत्थान से राष्ट्रीय समृद्धि के शेष लक्ष्यों पर पहुंच जा सके। न्यायाधीश ने उपस्थित ग्रामीणजन से अपील की कि वे भी अपने सोच के दायरे का विस्तार करें और उनके हित के बारे में भी सोचे जिनसे न तो उनका खून का रिस्ता हो और न ही कोई रिस्तेदार हो। उन्होंने ने संविधान के अंतर्गत व्यक्तियों और नागरिकों को प्रदत्त मूलभूत अधिकार उनसे अपेक्षित कर्तव्य और बालश्रम के विरूद्ध कानून, मजदूरी भुगतान से संबंधित कानून, कर्मचारी प्रतिगत से संबंधित कानून, न्यूनतम मजदूरी से संबंधित कानून और कानून मानवाधिकार, और विवादों में मीडिएषन की भूमिका के संबंध में सार्वजनिक जानकारी दी।
इस अवसर पर एकीकृत शासकीय हाई स्कूल अख्त्यारपुर की छात्राओं द्वारा अतिथि न्यायाधीश को इस आशय का एक ज्ञापन सौंपा गया कि उनके द्वारा अपने शिक्षकों के सानिध्य में स्वच्छ रहे स्वस्थ रहे, नशामुक्ति अभियान, वैक्सीनेशन एवं बेटी पढ़ाओं बेटी बचाओं आदि अभियानों में उनके द्वारा जगारूकता अभियान चालाकर सभी ग्रामवासियों को जागरूक किया गया है किंतु उनके उक्त विद्यालय के छत के उपर से विद्युत लाइन का नंगा तार गुजरता है, जिसके नीचे टकराने की स्थिति बनी हुई है, जो उनके जीवन के लिए बहुत खतरनाक है। इसके बारे में संबंधित विभागों को कई बार लिखित और मौखिक सूचना दी गई है, लेकिन अभी तक संबंधित प्राधिकारीयों द्वारा उक्त बिजली के तार को उक्त विद्यालय के छात्रों, शिक्षकों और कर्मचारियों के लिए सुरक्षित नहीं किया गया है, इसलिए इसे अविलंब सुरक्षित कराया जाए। इसी प्रकार गांव के भूमिहीन व्यक्तियों में से 10 व्यक्तियों द्वारा करीब 8 माह पूर्व संबंधित प्राधिकारीगणों को दिए गए आवेदन की हस्ताक्षरित प्रतिलिपि इस आषय का दिया गया कि वे गरीबी रेखा का राशन-कार्ड, जॉब-कार्ड धारक है। मजूदर और हरिजन व्यक्ति ने कई विभाजन व्यक्त किए है लेकिन उनको शासन की योजना के तहत अभी तक सुनवाई नहीं की गई है। वे जहां रहते है वहां आसपास बड़े पैमाने पर गंदगी फैली रहती है। गांव में जो लोग सम्पन्न है, उनकी कुटी बन गई है, इसलिए उन्हें भी अविलंब कुटी दिलाई जाए और सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।
इसी प्रकार ग्राम अख्त्यारपुर की ओर से समस्त ग्रामवासियों द्वारा हस्ताक्षरित ज्ञापन इस आशय पर दिया गया कि गांव में अपात्र लोगों के राषन कार्ड बने है लेकिन वे पात्र है किंतु भेदभाव के कारण उनके राषनकार्ड अभी तक नहीं बन सके। इस संबंध में बार-बार लिखित और मौखिक निवेदन करने पर भी उनके राषनकार्ड नहीं बन पाए है। अतिथि न्यायाधीश द्वारा उक्त सभी ज्ञापन देने के बाद ग्रामवासियों को आश्वस्त किया गया कि वे उनकी शिकायतों का सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर कार्यवाही करके उनके कष्टों का निवारण कराएंगे। उपस्थित अभिभाषक संघ से श्री जय प्रकाश मीणा एवं श्री शेलेंद्र शर्मा अधिवक्ता ने मानवधिकार एवं मीडिएशन प्रक्रिया के बारे में अवगत कराया।
       उक्त कार्यक्रम का संचालन श्री बद्री प्रसाद बारोड़ ने किया एवं आभार अधिवक्ता श्री मुकेश मेवाड़ा ने व्यक्त किया। इस अवसर पर कार्यक्रम में प्रचार्य श्री देवेंद्र परमार, सरपंच प्रतिनिधी हेमराज सिंह सूर्यवंषी, अभिभाषक संघ से अधिवक्ता श्री जितेंद्र राजपूत एवं तहसील विधिक सेवा समिति का स्टाफ सहित बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।
(45 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2021जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer