समाचार
|| फोटो निर्वाचक नामावली का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2022 दावे, आपत्ति प्राप्त करने की अवधि में वृद्धि, अब 5 दिसम्बर, 2021 || आर्थिक सहायता स्वीकृत || प्रशासकीय स्वीकृति जारी || कोविड वैक्सीन के दुसरे डोज के लक्ष्यपूर्ति हेतु बैठक संपन्न || विश्व दिव्यांगता दिवस के अवसर पर विभिन्न प्रकार की खेल गतिविधियों का आयोजन || एनएफडीबी हैदराबाद की मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. सी. सुवर्णा द्वारा जिले में मत्स्य पालन गतिविधियों का किया अवलोकन || देवास जिले के किसान भाई समर्थन मूल्य पर फसल के पंजीयन एवं विक्रय के लिए अपना बैंक खाता एवं मोबाईल नम्बर आधार से लिंक कराये || जिले मे यूरिया की वैकल्पिक व्यवस्था इफको नैनो यूरिया || नेहरू युवा केंद्र देवास द्वारा "स्वच्छ गांव-हरित गांव" पर कार्यशाला आयोजित || 07 दिसंबर को सशस्त्र सेना झण्डा दिवस
अन्य ख़बरें
परिवार में खुशियों के रंग भर रही हैं शैली "खुशियों की दास्तां"
-
ग्वालियर | 25-नवम्बर-2021
    कोरोना संकट की वजह से आई कठिनाईयों से उबरकर शैली वर्मा अब अपने परिवार की खुशहाली की चादर में नए-नए रंग बुन रही हैं। खुशियों के रंग भरने में सरकार द्वारा पथ विक्रेताओं के कल्याण के लिये संचालित योजना ने भी उनकी मदद की है।
    हजीरा क्षेत्र की निवासी श्रीमती शैली वर्मा सिलाई - कढ़ाई कर अपने परिवार का भरण पोषण करती हैं। इस काम में उनके पति भी हाथ बटाते थे। थोड़ी आमदनी बढ़ी तो उन्होंने अपने छोटे से व्यवसाय को आगे बढ़ाने की सोची। इसी दौरान वैश्विक महामारी कोरोना ने पाँव पसारे और उनका काम धंधा लगभग टप्प हो गया। थोड़ी सी जमा पूँजी भी घर के खर्चे में धीरे-धीरे खत्म होने लगी। परिवार का गुजारा चलाने की चिंता शैली को खाए जा रही थी। कहीं से कोई आसरा नहीं दिख रहा था। पर उन्हें सरकार से मदद की आस जरूर थी, सो पहले की तरह इस बार भी उनकी आशा निरमूल साबित नहीं हुई।
    शैली वर्मा बताती हैं मुझे एक दिन पता चला कि प्रधानमंत्री स्व-निधि योजना के तहत सरकार पथ विक्रेताओं को अपना व्यवसाय फिर से खड़ा करने के लिये आर्थिक मदद देती है, सो मैंने भी अपना फार्म भर दिया। एक दिन नगर निगम से फोन आया कि तानसेन नगर के स्टेट बैंक जाओ, आपका लोन मंजूर हो गया है। मुझे बैंक से स्वनिधि योजना के तहत आसान शर्तों पर 10 हजार रूपए का ऋण मिला है। वे कहती हैं कि इससे हम एक और सिलाई मशीन खरीदेंगे और अपने सिलाई-कढ़ाई के कारोबार को ऊँचाईयों तक ले जायेंगे।
   शैली बताती हैं कि मेरी बिटिया जब पढ़ने लायक हुई थी तब भी हमने एक अच्छे प्राइवेट स्कूल में दाखिला कराने की सोची। लेकिन फीस के पैसे हमारे पास नहीं थे। उस समय भी सरकार ने हमारी मदद की थी। शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत मेरी बिटिया का दाखिला विद्या विहार स्कूल में हो गया था। वह  अब चौथी कक्षा में पहुँच गई है।
   दूसरी सिलाई की मशीन खरीदने के लिये बाजार जा रहीं शैली बहुत खुश थीं। उनका कहना था कि सरकार ने संकट के समय हम जैसे पथ विक्रेताओं की मदद कर पुण्य का काम किया है।

हितेन्द्र सिंह भदौरिया

 
(9 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
नवम्बरदिसम्बर 2021जनवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer