समाचार
|| कोविड 19 टीकाकरण अभियान सतत जारी || पीएम किसान सम्मान निधि की 10 वीं किस्त होगी जारी || बनखेडी के 21 ग्रामों में ड्रोन फ्लाई का कार्य पूर्ण || 12 जनवरी को व्यापक स्तर आयोजित होगा रोजगार मेला || आज का न्यूनतम तापमान 7 डि.से. || वन विहार राष्ट्रीय उद्यान एवं जू वन, वन्य-जीव, पर्यावरण संरक्षण एवं संवर्धन के सफल प्रयास || औद्योगिक मजबूती के लिए हर माह साठ करोड़ की मदद || कोरोना के बढ़ते प्रकरणों को देखते हुए पुख्ता रहे नियंत्रण की व्यवस्थाएँ - मुख्यमंत्री श्री चौहान || भारतमाला परियोजना में म.प्र. के लिए 876 करोड़ की स्वीकृति पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने माना केन्द्र का आभार || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जल जीवन मिशन में राशि स्वीकृति के लिए केन्द्र का आभार माना
अन्य ख़बरें
क्रांतिसूर्य जननायक टंट्या भील गौरव यात्रा को लेकर मालवा और निमाड़ अंचल में उत्साह
जहां जन्में और जहां चूमा फांसी का फंदा, वहां की माटी आएगी पातालपानी
खण्डवा | 26-नवम्बर-2021
     क्रांति सूर्य जननायक टंट्या भील गौरव यात्रा को लेकर समूचे मालवा और निमाड़ अंचल में उत्साह देखा जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 27 नवंबर को खंडवा जि़ले के पंधाना तहसील के गाँव बड़ोदा अहीर पहुँचेंगे। जहां उनकी जन्मस्थली की पावन माटी को कलश में भरकर उसका पूजन करेंगे। यही कलश मालवा और निमाड़ के विभिन्न जनजातीय क्षेत्रों से आदर और श्रद्धापूर्वक यात्रा के रूप में निकलेगा। इसी तरह 27 नवम्बर को ही रतलाम जि़ले के बाजना से भी एक कलश यात्रा निकलेगी। आस्था और श्रद्धा रूपी इन यात्राओं का मिलन तीन दिसंबर को धार में होगा। जहां से यात्रा इन्दौर आएगी। इंदौर में यह यात्रा राजबाड़ा से होते हुए चार दिसंबर की सुबह पातालपानी की उस माटी में विराम पाएगी, जहाँ जननायक टंट्या मामा भी माटी में मिल गए थे। एक कलश यात्रा महाकौशल अंचल में जबलपुर से उस धरा की पावन माटी को लेकर भी आएगी, जहां फिरंगियों ने जननायक टंट्या मामा को फांसी पर लटकाया था।
गौरव यात्रा के सफल आयोजन हेतु जनप्रतिनिधियों और प्रशासन ने किये पुख्ता इंतजाम
    जननायक टंट्या भील गौरव यात्रा इंदौर और उज्जैन संभाग के विभिन्न जिलों से होती हुई धार में तीन दिसम्बर को आकर मिलेंगी। यह यात्राएं 4 दिसम्बर को पातालपानी आयेंगी। यात्रा मार्ग पर सभा एवं अन्य कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। इस भव्य कार्यक्रम में जन भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए आगामी सप्ताह में नियमित रूप से विभिन्न गतिविधियां संचालित की जाएंगी। संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने बताया कि जननायक टंट्या मामा को श्रद्धा सुमन अर्पित करने के उद्देश्य से आयोजित किए जा रहे इस कार्यक्रम में शामिल हो रहे लोगों के खानपान, विश्राम एवं अन्य सभी मूलभूत व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएंगी। कलश यात्रा के दौरान ट्रैफिक व्यवस्था का पूर्ण ध्यान रखा जाएगा एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पर्याप्त दल नियुक्त किया जाएंगे। कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने बताया है कि कार्यक्रम स्थल पातालपानी में बस एवं अन्य माध्यम से आ रहे लोगों के लिए पर्याप्त पार्किंग व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाएगी।
    संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा द्वारा सभी संबंधित जिलों के कलेक्टरों से चर्चा कर यात्रा के सुव्यवस्थित आयोजन के संबंध में निर्देश दिये गये है। उन्होंने बताया है कि जिलों के कलेक्टर और विभिन्न संगठनों से समन्वय कर आवश्यक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जा रही हैं। संभागायुक्त डॉ. शर्मा ने यात्रा के सफल संचालक एवं इससे जुड़ी समस्त आवश्यक कार्यवाही के संपादन हेतु संभाग स्तर पर नोडल अधिकारी नियुक्त किये है एवं संभाग स्तरीय कंट्रोल रूम भी स्थापित किया गया है। यह कंट्रोल रूम 26 नवम्बर से कार्य समाप्ति तक प्रभावशील रहेगा।
इंदौर संभाग के विभिन्न क्षेत्रों से होते हुये गुजरेगी गौरव कलश यात्रा
   टंट्या मामा गौरव यात्रा दो मार्ग से प्रारंभ होगी। पहले मार्ग की यात्रा 27 नवम्बर को टंट्या मामा के जन्मस्थल पंधाना विधानसभा क्षेत्र के बड़ोदा अहीर से प्रारंभ होगी तथा दूसरे मार्ग की यात्रा रतलाम के बाजना से प्रारंभ होगी। इंदौर संभाग के आलीराजपुर जिले में एक दिसम्बर को यात्रा का झाबुआ के रानापुर मार्ग से प्रवेश होगा। जिले में प्रवेश होने पर उदयगढ़, काकानाकड़, आंबुआ में यात्रा का स्वागत किया जायेगा। उक्त यात्रा के आलीराजपुर आगमन पर टंट्या मामा की दाहोद नाका स्थित प्रतिमा पर माल्यार्पण किया जायेगा। यह यात्रा दो दिसम्बर को आलीराजपुर से टांडा मार्ग से धार जिले के लिये प्रस्थान करेगी। यात्रा मार्ग में जननायक टंट्या मामा की गाथा का गायन, सभा स्थल पर सांस्कृतिक प्रस्तुति, नृत्य लोक गायन एवं आजादी के तरानों का प्रदर्शन आदि का आयोजन किया जायेगा।
    इसी तरह 28 नवम्बर को भातलपुरा से यात्रा का खरगोन जिले में प्रवेश होगा। 29 नवम्बर को यात्रा भीकनगांव से गोराडिया, शिवना, आभापुरी से होकर झिरन्या पहुंचेगी। झिरन्या से यात्रा सामरपाट होकर बिस्टान पहुंचेगी। शाम 6 बजे यात्रा खरगोन आयेगी और अगले दिन 30 नवम्बर को बड़वानी के लिये प्रस्थान करेगी। 30 नवम्बर को यह यात्रा सेगांव, नागरवाड़ी, सेंधवा तथा निवाली, एक दिसम्बर को पलसूद, सिलावद, बड़वानी तथा कुक्षी, दो दिसम्बर को गंधवानी, मनावर तथा धरमपुरी, तीन दिसम्बर को नालछा होते हुये धार पहुंचेगी और 4 दिसम्बर को पातालपानी आकर मुख्य कार्यक्रम में शामिल होगी।
    इसी तरह दूसरी यात्रा जो 29 नवम्बर को रतलाम जिले के सैलाना विधानसभा क्षेत्र के बाजना से शुरू होकर सैलाना तथा रतलाम पहुंचेगी, 30 नवम्बर को पेटलावद, थांदला, मेघनगर तथा झाबुआ एक दिसम्बर को रानापुर तथा आलीराजपुर, दो दिसम्बर को जोबट, टाण्डा तथा राजगढ़ और तीन दिसम्बर को बदनावर होते हुये धार पहुंचेगी तथा 4 दिसम्बर को पातालपानी आयेगी।


गौरव यात्रा मार्ग पर आयोजित होंगी विभिन्न सांस्कृतिक गतिविधियां
   जननायक टंट्या मामा गौरव यात्रा मार्ग में अनेक स्थलों पर घुमन्तू गायकों द्वारा जननायक टंट्या मामा की गाथा का गायन एवं बहुरूपिया प्रदर्शन किया जायेगा। सभा स्थलों पर सांस्कृतिक प्रस्तुति अन्तर्गत नृत्य, लोक गायन एवं आज़ादी के तराने प्रस्तुत किये जायेंगे। जननायकों पर केन्द्रित फिल्मों का प्रदर्शन एवं चित्र प्रदर्शनी यात्रा मार्ग पर लगाई जायेगी। विकासात्मक प्रदर्शनी एवं फिल्में भी यात्रा में शामिल लोगों को दिखाई जायेंगी। मध्यप्रदेश शासन के संस्कृति विभाग द्वारा तैयार कराई गयी जनजातीय जननायकों केन्द्रित फिल्मों के प्रदर्शन एवं चित्रों की प्रदर्शनी चलित वाहन पर स्थापित एल.ई.डी. के माध्यम से कराई जायेगी। इस प्रयोजन से विशेष रूप से आकल्पित वाहन तैयार किया गया है। सांस्कृतिक प्रस्तुति के लिये मंचीय सुविधा से युक्त वाहन तैयार कराया जा रहा है, जिसमें ध्वनि एवं प्रकाश उपकरणों की व्यवस्था की जायेगी। घुमन्तू समुदायों (हरबोला, पोवाड़ा, गोंधल, ढंडार और भोपा) द्वारा गायी जाने वाली जननायकों केन्द्रित गाथाओं का गायन कराये जाने के लिये 12 सदस्यीय दल यात्रा से सम्बध्द किये जा रहे हैं। उल्लेखित व्यवस्थाएँ यात्रा के लिये प्रस्तावित दोनों मार्ग के लिये की गयी है। सांस्कृतिक समारोह के लिये अस्थाई मंच का निर्माण एवं एलईडी स्क्रीन की व्यवस्था भी की जायेगी। इन सभी गतिविधियों में क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि भी अपनी हिस्सेदारी निभायेंगे।
चार दिसम्बर के मुख्य कार्यक्रम हेतु इंदौर में की गई व्यापक तैयारियां
   चार दिसम्बर को इंदौर जिले के पातालपानी में आयोजित टंट्या मामा स्मृति समारोह के लिये जिला प्रशासन द्वारा व्यापक तैयारियां कर ली गई है। मध्यप्रदेश शासन जनजातीय कार्य विभाग द्वारा बलिदान दिवस पर आयोजित मुख्य कार्यक्रम के लिये इंदौर कलेक्टर श्री मनीष सिंह को नोडल अधिकारी के रूप में नियुक्त किया गया है। कलेक्टर श्री सिंह के निर्देशन में मुख्य कार्यक्रम हेतु मंचीय प्रकाश एवं ध्वनि, अस्थाई विद्युत कनेक्शन तथा दर्शकों के लिये बैठक-बिछायत की सम्पूर्ण व्यवस्था कर ली गई है। इसी तरह समारोह में शामिल होने वाले सभी नागरिकों के लिये पेयजल, शौचालय एवं अन्य मूलभूत व्यवस्था कर ली गई है। समारोह में  टंट्या मामा के जीवन और अवदान पर केन्द्रित चित्रों की प्रदर्शनी भी लगाई जायेगी तथा जनजातीय कलाकारों द्वारा समवेत नृत्य नाट्य श्टंट्या मामाश् की प्रस्तुति भी दी जायेगी। कलेक्टर श्री सिंह ने बताया है कि पातालपानी में जननायक टंट्या मामा की कांस्य की मूर्ति स्थापित की जाएगी। उन्होंने बताया कि यहां के स्थानीय लोगों को कार्यक्रम स्थल तक पहुंचाने के लिए बसों की व्यवस्था भी कर दी गई है। 3 दिसंबर को रथयात्रा धार रोड से राजवाड़ा पहुंचेगी जहां इसका इंदौर शहर वासियों द्वारा स्वागत सत्कार किया जाएगा तत्पश्चात यह रथयात्रा स्टेडियम पहुंचेगी जहां पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि अमर क्रांतिकारी टंट्या मामा के व्यक्तित्व और कृतित्व को जन जन तक पहुंचाने के लिए जिले भर में 1 दिसंबर से सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन शुरू कर दिया जाएगा।
(53 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2022फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer