समाचार
|| कोविड 19 टीकाकरण अभियान सतत जारी || पीएम किसान सम्मान निधि की 10 वीं किस्त होगी जारी || बनखेडी के 21 ग्रामों में ड्रोन फ्लाई का कार्य पूर्ण || 12 जनवरी को व्यापक स्तर आयोजित होगा रोजगार मेला || आज का न्यूनतम तापमान 7 डि.से. || वन विहार राष्ट्रीय उद्यान एवं जू वन, वन्य-जीव, पर्यावरण संरक्षण एवं संवर्धन के सफल प्रयास || औद्योगिक मजबूती के लिए हर माह साठ करोड़ की मदद || कोरोना के बढ़ते प्रकरणों को देखते हुए पुख्ता रहे नियंत्रण की व्यवस्थाएँ - मुख्यमंत्री श्री चौहान || भारतमाला परियोजना में म.प्र. के लिए 876 करोड़ की स्वीकृति पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने माना केन्द्र का आभार || मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जल जीवन मिशन में राशि स्वीकृति के लिए केन्द्र का आभार माना
अन्य ख़बरें
सुशासन राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की राजस्व प्रकरणों एवं हितग्राहीमूलक योजनाओं की समीक्षा, कलेक्टर्स-कमिश्नर्स-आईजी-एसपी कान्फ्रेंस
दमोह | 29-नवम्बर-2021
   मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में सुशासन की दिशा में कार्य करना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। लोगों को बिना लिये- दिये सेवा समय पर मिले, यह सुशासन है। पात्रों को सुविधाजनक ढंग से लाभ दिलाना सुनिश्चित किया जाये। हितग्राहीमूलक योजनाओं का लाभ बिना किसी असुविधा के लोगों को मिल सके, इसके लिए दढ़-संकल्पित होकर कार्य करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में कलेक्टर्स, कमिश्नर, पुलिस अधीक्षक और आईजी की वीडियो कांन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लाभ स्वीकृति के बाद हितलाभ वितरण की प्रक्रिया को आधार से जोड़कर आसान और पारदर्शी बनाने के निर्देश दिए। सभी स्तरों पर टेक्नॉलॉजी का ऑटोमेशन करने के निर्देश दिए। उन्होंने 15 नवंबर से चलाये जा रहे सुशासन अभियान में जन-प्रतिनिधियों और क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों का भी सहयोग लेने को कहा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रत्येक ग्राम और प्रत्येक वार्ड में हितग्राही मूलक योजना की पात्रता के आधार पर छूटे हुए हितग्राहियों से आवेदन प्राप्त कर आवेदन प्राप्ति के अधिकतम 15 दिन बाद शिविर लगाकर जन-प्रतिनिधियों की उपस्थिति में हितग्राहियों को हित लाभ के स्वीकृति पत्र वितरित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने हर हाल में शिकायतों का समय-सीमा में निराकरण के निर्देश दिए।
भू-माफियाओं से मुक्त करायें जमीन
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिन दबंगों एवं भू- माफियाओं ने जमीनों पर अतिक्रमण कर रखा है उसे मुक्त करायें। भू- माफिया से मुक्त कराई गई जमीन गरीबों को दें, जिससे उनके आवास बन सकें। हितग्राहीमूलक योजनाओं का लाभ पहुँचाने के लिए पूरी ताकत से अभियान चलायें। पात्र हितग्राही लाभ से वंचित नहीं रहे। सीएम हेल्पलाइन, जन-सुनवाई, मुख्यमंत्री के भ्रमण और जनदर्शन में मिले आवेदनों का प्राथमिकता से निराकरण किया जाये। सभी कलेक्टर्स ध्यान देकर मुख्यमंत्री को प्राप्त आवेदनों का संवेदनशीलता के साथ संतुष्टिपूर्ण निराकरण करें। उन्होंने कहा कि सीएम हेल्पलाइन की शिकायतें अधिक समय तक लंबित न रहें।
पारदर्शी हो हितग्राहियों को हितलाभ वितरण
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हितग्राहियों को लाभ स्वीकृत करने के बाद वितरण की व्यवस्था पारदर्शी ढंग से हो। जन-प्रतिनिधियों, समाज-सेवियों, क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की उपस्थिति में स्वीकृति पत्र बाँटे जाएँ। पात्र लोगों को योजनाओं का लाभ व्यापक प्रचार- प्रसार कर तेजी से पहुँचायें। हितग्राहियों को लाभ पहुँचाना सबसे महत्वपूर्ण अभियान है।
तीसरी लहर नहीं आने दी जाए
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना की समीक्षा करते हुए कहा कि ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए जहाँ भी पीएसए प्लांट की स्थापना हो रही है उन्हें चालू कराने की कार्यवाही क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की उपस्थिति में करें। इसके लिए पहले से ट्रायल रन कर लिया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जिलों में 90 प्रतिशत से अधिक प्रथम डोज लगाने का लक्ष्य प्राप्त कर लिया जाए। अलीराजपुर और बड़वानी जिले मेहनत कर कोरोना वेक्सीन की द्वितीय डोज का प्रतिशत बढ़ायें। अन्य जिले जहाँ द्वितीय डोज लगने का प्रतिशत कम है, ध्यान दें।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना के नए वेरिएंट की दुनिया भर में चर्चा है। इसलिए तीसरी लहर रोकने का हरसंभव उपाय करें। उन्होंने कहा कि जो लोग मास्क नहीं पहन रहे हैं उन्हें रोकना-टोकना शुरू करें। आवश्यक व्यवस्थाओं की समीक्षा कर चुस्त-दुरुस्त रहें। लापरवाही नहीं करें।
   मुख्यमंत्री ने सिकल सेल एनीमिया मिशन की समीक्षा करते हुए कहा कि यह लाल रक्त कोशिकाओं का अनुवांशिक रोग है। हीमोग्लोबिन की संरचना में बदलाव के कारण खून की कमी हो जाती है। इस रोग की जागरूकता के लिए जन-भागीदारी सुनिश्चित करें। जन-अभियान परिषद के माध्यम से मिशन को क्रियान्वित करें।
मुख्यमंत्री आवासीय भू-अधिकार योजना
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिनके पास रहने की जमीन नहीं है, उन्हें प्लाट देना अत्यंत महत्वपूर्ण अभियान है। रहने की जमीन का टुकड़ा बुनियादी अधिकार है। व्यवस्थित प्लाटों का आवंटन सुनिश्चित किया जाए। पात्र आवेदकों को चिन्हित कर सामूहिक रूप से पट्टे दिए जाएँ। धारणाधिकार योजना में भी समय-सीमा निर्धारित कर पट्टे दिये जायें। अविवादित नामांतरण और बँटवारा के प्रकरणों के निराकरण में छतरपुर, दतिया सहित अन्य जिलों के कलेक्टर ध्यान दें। एक्ट में प्रावधान के तहत एक महीने से ज्यादा लंबित नहीं रहें।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भूमि के रिकॉर्ड से जुड़ी सभी सेवाएँ अत्यंत महत्त्वपूर्ण हैं। इन सेवाओं की डिलीवरी में और काम करने की आवश्यकता है। अविवादित नामांतरण, अविवादित बँटवारा प्रकरणों के निराकरण में भी गति लाने की आवश्यकता है। अभिलेख शुद्धिकरण अभियान के द्वारा लोगों को और जागरूक किया जाएँ। अभियान में जन-प्रतिनिधियों को भी जोड़े। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राजस्व विभाग से जुड़ी सभी सेवाएँ विधि और नियमों से बंधी होती हैं, इनमें किसानों के लिए किए गए परिवर्तनों और नियमों के सरलीकरण की जानकारी किसानों के संगठनों को होनी चाहिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आवासीय भू-अधिकार योजना का क्रियान्यवन स्वमित्व योजना के सामान करने के निर्देश दिए। धारणधिकार योजना में और अधिक ध्यान दिया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि ऋण पुस्तिका अब किसी भी समय ऑनलाइन निकाली जा सकेगी। इसे लोक सेवा केंद्र, एमपी ऑनलाइन केंद्र से प्राप्त किया जा सकेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने साइबर तहसील की अवधारणा को 4-5 माह में मूर्त रूप देने के निर्देश दिए। जिससे अधिक से अधिक लोगों को इसका लाभ मिल सकें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देशित किया कि भू-अभिलेखों में रिकॉर्ड किये जाने वाले ट्रांजेक्शंस में ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग सुनिश्चित किया जाए।
रोजगार-स्वरोजगार के हों विशेष प्रयास
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि रोजगार के लिए नौकरी ही नहीं अन्य काम-धंधों पर ध्यान दिया जाए। स्व-रोजगार के लिए शिविर लगाकर हितग्राहियों को लाभ पहुँचायें। रोजगार-स्वरोजगार मेला लगाने का प्लान तैयार करें। कलेक्टर ध्यान देकर समय-सीमा में स्व-रोजगार के लिए पात्र हितग्राहियों को लोन दिलायें। स्व-सहायता समूहों के लिये क्रेडिट लिंकेज का कार्य प्राथमिकता से करें। निर्धारित लक्ष्य को सर्वोच्च प्राथमिकता से प्राप्त करें। महिला स्व-सहायता समूहों के सशक्तिकरण के तेजी से प्रयास हों।  एक जिला- एक उत्पाद योजना के तहत तेजी से कार्य करें। इसकी रिपोर्ट सभी जिले भेजना सुनिश्चित करें।
रोजगार दिवस मनाया जाए
मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना में स्वामी विवेकानंद जी की जयंती पर रोजगार दिवस मनाया जाए। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम में रोजगार देने के कार्य में तेजी लायें। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में लोगों की मदद कर लाभान्वित करें। योजनाओं का लाभ दिलाकर मध्यप्रदेश का परिदृश्य बदला जा सकता है। रोजगार संबंधी योजनाओं को एक प्लेटफॉर्म पर लाकर लाभ दिलायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना प्रधानमंत्री स्व-रोजगार सृजन कार्यक्रम, स्व-सहायता समूह, मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना, पीएम स्वनिधि, मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना, स्व-रोजगार ऋणों एवं निजी क्षेत्रों में रोजगार के माध्यम से प्रति माह 2 लाख तक रोजगार, स्व-रोजगार के अवसर उपलब्ध करा सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी संबंधित विभागों को समन्वयपूर्वक जिलों में प्रत्येक माह रोजगार दिवस आयोजित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जिलों में डीएलसीसी की बैठकें नियमित रूप से आयोजित करने एवं इनमें सभी योजनाओं की प्रभावी समीक्षा करने के निर्देश दिए। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
(50 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2022फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31123456

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer