समाचार
|| घर से ही करा सकते हैं मोबाइल को आधार से लिंक || अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस 29 जुलाई को || हज यात्रियों को विशेष प्रशिक्षण 25 जुलाई तक || समाज कार्य स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम लेखन की समीक्षा 26 जुलाई को || पशुधन संजीवनी हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर ‘‘1962’’ प्रारंभ || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य || स्कूलों की मान्यता के नवीनीकरण के लिए आयुक्त के पास अपील 20 से 26 जुलाई तक होगी || दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम में 21 प्रकार की दिव्यांगताएं शामिल || उर्दू में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा पुरस्कार || सुदामा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
अन्य ख़बरें
कलेक्टर ने विभागीय कार्यो में लापरवाही बरतने पर 5 पर्यवेक्षक को किया निलंबित
महिला एवं बालविकास विभाग की जिला स्तरीय समीक्षा बैठक सम्पन्न
डिंडोरी | 10-अगस्त-2017
 
  
   कलेक्टर श्री अमित तोमर ने शासकीय कार्यो में लापरवाही बरतने एवं बिना आवकाश स्वीकृत कराए अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित रहने तथा एमआईएस पोर्टल में भ्रामक और त्रुटि पूर्ण आंकडे प्रविष्टि करने और विभागीय एमआईएस की समीक्षा ना करने पर मध्यप्रदेश सिविल सेवा आचरण का उल्लंघन करने के फलस्वरूप पर्यवेक्षक श्रीमति रेखा सोनवानी बजाग, श्रीमति लीला ठाकुर करंजिया, सुश्री कंचन तिवारी शहपुरा, श्रीमति सरिता इनवाती समनापुर एवं श्रीमति चैनकली खाण्डे बजाग को निलंबित कर दिया है। कलेक्टर गुरूवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में महिला एवं बालविकास विभाग की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री मनोज लारोकर सहित सभी बाल विकास परियोजना अधिकारी एवं पर्यवेक्षक उपस्थित थे।
   कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित जिला स्तरीय विभागीय समीक्षा बैठक में गर्भवती माताओ एवं बच्चों के स्वास्थ्य के संबंध में जानकारी ली गई। कुपोषित बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए उन्हे नियमित रूप से पोषण आहार देने को कहा गया। कलेक्टर ने कहा कि आंगनबाडी केन्द्रों में पंजीयन गर्भवती माताओ एवं बच्चों को नियमित रूप से पोषण आहार दिया जाए। उन्होने कहा कि सेक्टर सुपरवाइजर नियमित रूप से दस-दस आंगनबाडी केन्द्रो का निरीक्षण करें। इसी प्रकार से एकीकृत बाल विकास परियोजना अधिकारी को भी आंगनबाडी केन्द्रो का निरीक्षण कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने को कहा गया। कलेक्टर ने आंगनबाडी केन्द्रो में कम वजन के बच्चों का परीक्षण कर उन्हें नियमित रूप से पोषण आहार एवं स्वास्थ्य परीक्षण कराने के निर्देष दिए।
   कलेक्टर ने इसी प्रकार से परियोजनावार स्नेह सरोकर, प्रोजेक्ट उदिता, विशेष पोषण अभियान, पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती किए गए कुपोषित बच्चों की स्थिति के संबंध में समीक्षा की। उन्होने सांझा चूल्हा कार्यक्रम एवं मध्यान्ह् भोजन की समीक्षा की और उक्त कार्यक्रम को सफलतापूर्वक संचालित करने के लिए नियमित रूप से आंगनबाडी केन्द्रो से खाद्यान उठाव के संबंध में जानकारी लेने को कहा गया। उन्होने कहा कि सभी आंगनबाडी केन्द्रो के लिए खाद्यान का उठाव नियमित रूप से होना चाहिए। जिससे आंगनबाडी केन्द्रों में नियमित रूप से भोजन मिल सके। कलेक्टर ने बैठक में जनसुनवाई के प्रकरणों की समीक्षा की और इन प्रकरणों का नियमित रूप से निराकरण करने को कहा। कलेक्टर इसी प्रकार से सुपोषण शिविर एवं लाडली लक्ष्मी योजना, एनआईएस पोर्टल की भी समीक्षा की।
(345 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer