समाचार
|| घर से ही करा सकते हैं मोबाइल को आधार से लिंक || अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस 29 जुलाई को || हज यात्रियों को विशेष प्रशिक्षण 25 जुलाई तक || समाज कार्य स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम लेखन की समीक्षा 26 जुलाई को || पशुधन संजीवनी हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर ‘‘1962’’ प्रारंभ || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य || स्कूलों की मान्यता के नवीनीकरण के लिए आयुक्त के पास अपील 20 से 26 जुलाई तक होगी || दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम में 21 प्रकार की दिव्यांगताएं शामिल || उर्दू में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा पुरस्कार || सुदामा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
अन्य ख़बरें
किसानों की खेती को और अधिक लाभकारी बनाया जावेगा - मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री ने दिल से कार्यक्रम में की किसानों से मन की बात, किसानो ने किया दूरदर्शन/रेडियों पर अनुश्रवण
भिण्ड | 13-अगस्त-2017
 
       
     मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह ने कहा है कि किसानों की खेती को और अधिक लाभकारी बनाने की दिशा में निरंतर कदम उठाए जा रहे है। जिससे किसान विभिन्न लाभकारी योजनाओं का लाभ उठाकर अपनी खेती का उत्पादन बढाने में सहायक हो सकते है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज प्रदेश के किसानों से दिल से पहली बार आकाशवाणी, दूरदर्शन एवं सोशल मीडिया के माध्यम से आयोजित कार्यक्रम में कहीं।
    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कह कि म.प्र. की अर्थ व्यवस्था कृषि पर आधारित है। यहां की लगभग 65 फीसदी आवादी अपनी आजीविका के लिए कृषि और उससे जुडे कार्यो पर निर्भर है। उन्होंने कहा कि कृषि को लाभकारी व्यावसाय बनाने के लिए लगातार एक के बाद एक प्रभावी निर्णय लिए गए है। साथ ही उन पर कारगर अमल किया है। विश्व में सबसे ज्यादा कृषि विकास दर बीते चार बर्ष से औषत 19.3 प्रतिशत कृषि विकास दर 4 वर्ष से प्रदेश को भारत सरकार का कृषि कर्मठ अवार्ड वर्ष 2016-17 में कृषि विकास दर 25.8 प्रतिशत अपेक्षित है।
    कृषि उत्पादन में 11 वर्ष में लगभग 113 प्रतिशत की वृद्वि हुई है। जिसके कारण कृषि उत्पादन में 4 करोड 23 लाख मैट्रिक टन पहुंच गया है। दलहन, तिलहन, सोयाबीन, चना, मटर, लहसुन, अमरूद और औसदी तथा सुगंधित फूलो में देश में प्रथम स्थान पर म.प्र. को लाया गया है। इस दिशा में उत्पादन बडकर 58.15 लाख मैट्रिक टन हो गया है। म.प्र. कृषि उत्पादन में दूसरे स्थान पर है। गेहूं उत्पादन अब 185 लाख मैट्रिक टन बढकर पहुंचकर गया है। प्राकृतिक आपदा से फसलो को होने वाले नुकसान की पूरी भरपाई करने और किसानों को आश्वस्त आमदनी के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना लागू की गई है। इस वर्ष इसमें लगभग 40 लाख किसानों के शामिल होने की संभावना है।
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि म.प्र. ने देश में सोया, चना एवं दाल, तिलहन, लहसुन, सुंगधित पुष्प में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। गेहूं, संतरा, प्याज, धनिया में म.प्र.द्वितीय स्थान पर है। टमाटर, गुलाब, खरबूजा, सरसो, सीताफल में म.प्र.को तृतीय स्थान पर लाने के प्रयास किए गए है। उन्होंने कहा कि म.प्र. जैविक खेती के उत्पादन में देश में प्रथम स्थान पर पहुंचाने के प्रयास किए है। जिसमें भारत में होने वाले कुल जैविक उत्पादन का 40 प्रतिशत म.प्र. में होता है।
    खेती को उर्वरकता को बनाए रखने के लिए प्रदेश मे स्वाईल हैल्थ कार्ड वितरण काम तेजी से चल रह है। अभी तक 15 लाख किसानों को ये कार्ड वितरित किए जा चुके है। उन्होंने कहा कि किसानों को 2 करोड 91 लाख 46 हजार 236 निःशुल्क खसरा एवं बी-1 की प्रति प्रदान की गई है। आगामी 15 अगस्त से किसानों को निःशुल्क खसरा-खतौनी की नकल प्रदान करने की कार्यवाही प्रारंभ की जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों के कृषि उत्पादन को बढाने की दिशा में योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठाने की बात दिल से कार्यक्रम में मन की बात की।
    कलेक्टर डॉ इलैया राजा टी के निर्देशन में जिले के किसानों द्वारा रेडियों और दूरदर्शन पर आयोजित मुख्यमंत्री ने दिल से मन की बात कार्यक्रम का आयोजन कई क्षेत्रों में किया गया। इसी दिशा में एसडीएम श्री संतोष तिवारी की उपस्थिति में पिडौरा पंचायत के कार्यक्रम में दूरदर्शन पर मुख्यमंत्री जी के कार्यक्रम का किसानों ने अनुश्रवण किया। इस अवसर पर ग्राम पंचायत पिडोरा के सरपंच श्रीमती गिरजा-राजेश समाधिया, विभागीय अधिकारी, गांव की पटवारी श्रीमती पूर्वा शर्मा, ग्राम पंचायत सचिव श्री प्रमोद शर्मा सहित क्षेत्र के सैकडो किसानों ने मुख्यमंत्री जी के दिल से मन की बात कार्यक्रम को सुना। साथ ही कार्यक्रम की सराहना की। इस अवसर पर जनसंपर्क विभाग की ओर से किसानों को ’’निरंतर प्रयास चहुंमुखी विकास म.प्र.’’ पुस्तिका का भी वितरण किया।
(342 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer