समाचार
|| जिला स्तरीय कौशल विकास एवं रोजगार मेला सम्पन्न || वोटर लिस्ट में एक से अधिक प्रविष्टि की शिकायत प्रमाणित नहीं पाई गई || न्यूटन चिखली के राजू डेहरिया के पक्के आवास का सपना हुआ पूरा (कहानी सच्ची है) || चिकित्सा महाविद्यालयों में स्नातक पाठ्यक्रम के प्रवेश में संशोधन प्रक्रिया 25 जून तक || स्वरोजगार योजनाओं के तहत स्व-सहायता समूहों को ऋण की पात्रता || 22वें भगवान महावीर पुरस्कार के लिये नामांकन आमंत्रित || नेशनल लोक अदालत में लंबित प्रकरणों के निराकरण के लिये 29 खंडपीठें गठित एवं पीठासीन अधिकारी नियुक्त || विद्यार्थियों को गणवेश के लिये 7.95 करोड रूपये से अधिक की राशि प्रदाय || 5 हजार रूपये के पुरस्कार की उद्घोषणा || मुख्यमंत्री कृषक जीवन कल्याण योजना के अंतर्गत सहायता राशि के आहरण/वितरण की कार्यवाही पूर्वानुसार ही करने के निर्देश
अन्य ख़बरें
अल्प वर्षा के कारण जिले में विभिन्न विभागों द्वारा बनाई गई कार्य योजना की की समीक्षा
-
शिवपुरी | 06-सितम्बर-2017
 
  
   कलेक्टर श्री तरूण राठी ने जिले में अल्प वर्षा के कारण सूखे पूर्वानुमान के देखते हुए आगामी माहों के लिए विभिन्न विभागों द्वारा बनाई गई सूखा राहत कार्य योजना की समीक्षा की। जिलाधीश कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती नीतू माथुर सहित कृषि, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, जलसंसाधन, खाद्य, स्वास्थ्य, पशुपालन, विद्युत महिला एवं बाल विकास आदि विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।
    कलेक्टर श्री राठी ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी द्वारा बनाई गई कार्य योजना की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि जिले के ऐसे जल स्त्रोत जिनमें पर्याप्त मात्रा में पानी रहता है, उन जल स्त्रोतों को चिन्हित कर पेयजल हेतु अधिग्रहण की कार्यवाही हेतु प्रस्तावित करें। श्री राठी ने कृषि विभाग के उपसंचालक को निर्देश दिए कि खरीफ फसलों के पकने के उपरांत कृषि एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों द्वारा संयुक्त रूप से क्रॉप कटिंग करें। रवी फसलों की बोनी हेतु किसानों को कृषि संगोष्ठियों के माध्यम से ऐसी फसलो की सलाह दें जो कम पानी एवं कम समय में पकने वाली फसलें हो। उन्होंने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिले में स्थित बांधो में पानी पेयजल एवं निस्तारी कार्य के लिए सुरक्षित रखा जाए। उन्होंने पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे नदी, नालों पर बने स्टॉपडेमों जिनमें पानी बह रहा है, उनमें तत्काल प्रभाव से शटर लगाने की कार्यवाही करें। श्री राठी ने पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि जिला पशु संवर्धन बोर्ड की बैठक शीघ्र आहुत कर जिले से चारा परिवहन पर भी प्रतिबंध लगाने की कार्यवाही सुनिश्चित करें। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए कि कुएं, बावड़ी जैसे जल स्त्रोतो में क्लोरीन एवं बिलीचिंग पाउडर डालने की कार्यवाही करे और ग्राम आरोग्य केन्द्रों पर जीवन रक्षक औषधियों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने महिला एवं बाल विकास को आंगनवाड़ी केन्द्रों पर भी पोषण आहार की समूचित व्यवस्था करने के निर्देश दिए। बैठक में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री एस.एल.बाथम ने बताया कि जिले में अल्प वर्षा होने के कारण कई स्थानों पर जल स्तर काफी नीचे चला गया है। 532 बसाहटों में से 300 से अधिक बसाहटों में सिंगल फेस मोटर के प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजे गए है। उन्होंने बताया कि 1248 हेण्डपंपों में 4 हजार 88 मीटर राइजर पाईप बढ़ाने, 414 नए ट्यूबवेल खनन हेतु भी प्रस्ताव भेजे गए है। जिले में 273 नलजल योजनाओं में से 22 योजनाए बंद है। जिसमें 12 योजनाएं विद्युत आपूर्ति के कारण संचालित नहीं हो रही है। जिन्हें शीघ्र शुरू कराए। उन्होंने बताया कि हाइड्रो फेक्चर द्वारा भी ट्यूबवेल खनन हेतु टेंडर लगाए जा चुके है।
    उल्लेखनीय है कि जिले में अभी तक 347.06 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज हुई है। जबकि जिले की औसत सामान्य वर्षा 816.3 मि.मी. है।
(289 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2018जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer