समाचार
|| घर से ही करा सकते हैं मोबाइल को आधार से लिंक || अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस 29 जुलाई को || हज यात्रियों को विशेष प्रशिक्षण 25 जुलाई तक || समाज कार्य स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम लेखन की समीक्षा 26 जुलाई को || पशुधन संजीवनी हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर ‘‘1962’’ प्रारंभ || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य || स्कूलों की मान्यता के नवीनीकरण के लिए आयुक्त के पास अपील 20 से 26 जुलाई तक होगी || दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम में 21 प्रकार की दिव्यांगताएं शामिल || उर्दू में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा पुरस्कार || सुदामा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
अन्य ख़बरें
दिल से नेतृत्व करें, हर सम्भव मदद करेंगे - कलेक्टर श्रीमती सुन्द्रियाल
भारत खुले में शौच मुक्त था, जब दुनिया खुले में शौच करती थी - अजय सिन्हा, समुदाय आधारित स्वच्छता विधि पर पॉच दिवसीय प्रेरक प्रशिक्षण कार्यशाला का शुभारम्भ हुआ
रतलाम | 09-सितम्बर-2017
 
  
   जिले को खुले से शौच मुक्त बनाने के लिये कलेक्टर श्रीमती तन्वी सुन्द्रियाल के मार्गदर्शन एवं नेतृत्व में निरंतर प्रयास किये जा रहे है। इसी कड़ी में आज ग्रामीण विकास ट्रस्ट धौंसवास में समुदाय आधारित स्वच्छता विधि पर नवीन प्रेरकों की पॉच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का शुभारम्भ हुआ। प्रशिक्षार्थी नवीन प्रेरकों को सम्बोधित करते हुए कलेक्टर श्रीमती सुन्द्रियाल ने कहा कि सभी जिम्मेदारी पूर्वक दिल से स्वच्छता अभियान का नेतृत्व करें। उन्हें हर सम्भव मदद प्रशासनिक तौर पर दी जायेगी। फीड बैक फाउडेंशन के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अजय सिन्हा ने कहा कि हमारा देश हजारों साल पहले जब सारी दुनिया खुले में शौच करती थी तब भी खुले में शौच से मुक्त हुआ करता था। उन्होने अपेक्षा जतायी कि प्रेरक गाँव में जाकर आमजन को समझायेगें और अपने उद्देश्य में सफल होगें।
   जब आम आदमी को स्वच्छता का महत्व समझ में आ जाता हैं तो धीरे-धीरे उसकी आदतों और व्यवहार में स्वत: ही परिवर्तन होने लगता है। यही आगे चलकर सामाजिक परिवर्तन का वाहक बन जाता है। उक्त उदगार कलेक्टर श्रीमती सुन्द्रियाल ने नवीन प्रेरकों को बेहतर कार्य करने और उद्देश्यों की सफल प्राप्ति हेतु अपनी और से शुभकामनाऐं देते हुए व्यक्त किये। उन्होने कहा कि प्रेरक पाँच दिन के प्रशिक्षण में जो सीख कर जायेगें उसे जिम्मेदारी पूर्वक नेतृत्व करते हुए खुले में शौच करने वालों के व्यवहार में परिवर्तन लाने के लिये ब्रह्मास्त्र के रूप में प्रयोग करेंगे। कलेक्टर ने कहा कि गाँव में अलग-अलग लोगों को अलग-अलग तरीके से बातों को समझाना पड़ेगा कि वे किस प्रकार से जिले को खुले से शौच मुक्त बनाने में अपना योगदान देकर न केवल घर परिवार की महिलाओं के मान सम्मान की रक्षा कर सकते हैं अपितु शौचालय का निर्माण और उसका उपयोग सुनिश्चित करवाकर महिलाओं को कितने प्रकार की समस्याओं से मुक्ति दिला सकते है। क्योकि कई बार महिलाऐं शिकायत न करते हुए विभिन्न प्रकार की तकलीफे स्वयं सहती रहती है।
   कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए फीड बैक फाउंडेशन के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने संसार की सबसे प्राचीन सभ्यता हड्प्पा एवं मोहनजोदड़ो के अवशेषों में घरों में शौचालय और स्नानागार होने, देश के अतिप्राचीनतम किलो में भी शौचालय और स्नानागार होने के उदाहरण देते हुए बताया कि प्राचीन समय में जिन घरों में शौचालय नहीं हुआ करते थे वे भी अपने गाँव को खुले में शौच से मुक्त बनाये रखने के लिये शौच के लिये जाते समय एक हाथ में लोटा और एक हाथ में खुरपा लेकर जाते थे ताकि शौच के पहले गढ्डा करें और शौच के बाद उस गढ्डे को मिट्टी से ढक दे। इस प्रकार से गाँव में गंदगी से होने वाली बिमारियों का पूर्व से ही रोकथाम के इंतजाम हो सकें। श्री सिन्हा ने प्रेरकों से कहा कि वे ग्रामीणों को समझाये कि घर परिवारों में शौचालय कितना आवश्यक है। सरकार के द्वारा दी जाने वाले राशि तो मात्र उनके सहयोग के लिये है। जब हम हमारे घर के विभिन्न समारोह और कार्यक्रम बगैर सरकार की सहायता के खुशी-खुशी करते हैं तो शौचालय बनाने के लिये जिसका सीधा संबंध हमारे परिवार की मान सम्मान और परिवार से जुड़ा हुआ हैं। क्यों कर सरकार से सहायता, प्रोत्साहन या सब्सीडी की अपेक्षा रखे।
जिले की प्रथम प्रेरक कलेक्टर हैं - श्री सिन्हा
   श्री अजय सिन्हा ने प्रेरकों से कहा कि कलेक्टर श्रीमती सुन्द्रियाल जिले की प्रथम प्रेरक है। वे आप सभी की मदद से जिले को खुले से शौच मुक्त बनाने के लिये निरंतर प्रयास कर रही है। उनके प्रयासों में अपेक्षित सफलता तभी मिलेगी जब सभी प्रेरक सम्पूर्ण निष्ठा से गाँव को खुले से शौच मुक्त बनाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगें।
87 नवीन प्रेरक प्रशिक्षण में हुए सम्मिलित
   जिले को खुले से शौच मुक्त बनाने के लिये आज से प्रारम्भ हुई पाँच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला में 87 प्रेरक सम्मिलित हुए है। इन सभी को खुले से शौच मुक्त बनाने के लिये किये जाने वाले प्रयासों, आवश्यकताओं और उससे होने वाले प्रेरणों के संबंध में यूनीसेफ की सहयोगी फीड बैक फाउंडेशन के पाँच सदस्यों के द्वारा प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। दो दिन के प्रशिक्षण के बाद उन्हें फिल्ड में ले जाकर प्रशिक्षण दिया जायेगा कि किस प्रकार से खुले में शौच करने वालों को शौचालय बनाने और उनका उपयोग सुनिश्चित कराने के लिये प्रोत्साहित करना है। उल्लेखनीय हैं कि जिले में पूर्व से ही लगभग सौ प्रेरक इस दिशा में निरंतर कार्य कर रहे है।
   प्रशिक्षण कार्यशाला में अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत दिनेश वर्मा, जिला समन्वयक स्वच्छ भारत मिशन अवधसिंह आहिरवार एवं सभी विकासखण्डों के समन्वयक भी मौजूद थे।
(316 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer