समाचार
|| ग्रामीण क्षेत्रों में 806 करोड़ के 217 पुलों का निर्माण कार्य पूर्ण || सामूहिक योग कार्यक्रम में मंत्रीगण भी भागीदारी दर्ज करायेंगे || गौ-संरक्षण के लिये गौ-शालाओं को 17 रुपये प्रति गाय अनुदान दिया जायेगा || दुर्घटना से विकृत हुये हाथ की समस्‍या से प्रियंका ने पाई मुक्ति (सफलता की कहानी) || परिवहन और भण्डारण कार्य में लापरवाही बर्दाश्त नहीं- कलेक्टर डॉ. जे विजय कुमार || कलेक्टर डॉ. कुमार ने सुनी ग्रामीणों की बुनियादी समस्याएं || श्रमिक वर्ग की प्रसूता को मिलेगी 16 हजार की राशि || मध्यप्रदेश राज्य खाद्य आयोग का दो दिवसीय भ्रमण कार्यक्रम || अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर 21 को वित्तमंत्री श्री मलैया होंगे मुख्य अतिथि || ग्रामों का भ्रमण कर संभागायुक्त श्री आशुतोष अवस्‍थी ने जानी योजनाओं की मैदानी स्थिति
अन्य ख़बरें
महिलाओं की जिद और जुनून से घर-घर बने शौचालय (सफलता की कहानी)
-
ग्वालियर | 06-अक्तूबर-2017
 
   
   जीवन की आखिरी दहलीज पर खड़ीं जेबो बाई ने शौचालय बनवाने के लिये बकरियाँ बेच दीं तो विधवा महिला पाँचो बाई ने अपनी भैंस। गीता बघेल की शौचालय बनाने की जिद जब पिता ने पूरी नहीं की तो वह खुद फावड़ा लेकर गड्डा खोदने जुट गई और पिता को शौचालय बनवाने के लिये विवश होना पड़ा। इन सभी से और आगे सपना परिहार की पहल है, जिन्होंने न केवल खुद की ग्राम पंचायत बल्कि समीपवर्ती आधा दर्जन से अधिक ग्राम पंचायतों को खुले में शौच मुक्त कराया है। ग्वालियर जिले की ऐसी ही अन्य महिलाओं ने स्वच्छता प्रेरक बनकर सम्पूर्ण जिले को खुले में शौचमुक्त जिला बनाने में अहम भूमिका निभाई है।
   ग्वालियर जिले की जनपद पंचायत भितरवार के ग्राम किशोरगढ़ निवासी श्रीमती जेबो बाई जीवन के लगभग 100 बसंत देख चुकीं हैं। उन्होंने गाँव में सबसे पहले स्वच्छता मिशन के तहत शौचालय का निर्माण कराया। शौचालय का काम शुरू करने के लिये उन्होंने अपनी बकरियाँ तक बेच दीं। इस मिशन में उनके पति श्री बच्चू सिंह का भी उन्हें पूरा सहयोग मिला। इसी तरह बागवाला गाँव में जब शौचालय बनवाने पर चर्चा चल रही थी, तब गाँव की एक विधवा महिला श्रीमती पाँचो बाई खड़ी हो गईं और बोली आप सब बहस करो, हम अपनी भैंस बेचकर शौचालय बनवायेंगे। उन्होंने ऐसा किया भी। इन दोनों महिलाओं के प्रोत्साहन से उनके गाँव के हर घर में शौचालय बन गए हैं।
   ग्राम देवगढ़ की कु. गीता बघेल ने भी शौचालय बनवाने की जिद पकड़ ली। मगर उसके पिता इस ओर ध्यान नहीं दे रहे थे। गीता यहीं नहीं रूकीं, उसने स्वयं फावड़ा उठाया और शौचालय के लिये धीरे-धीरे गड्डा खोद डाला और पिता को पक्का शौचालय बनवाने के मजबूर होना पड़ा।
   ग्राम ररूआ निवासी कु. सपना परिहार की कहानी सबसे अधिक प्रेरणादायक है। गाँव की इस बालिका ने “स्वच्छता समग्र जागृति” नाम से एक प्रेरक दल बनाया और हर घर में शौचालय की सफल कहानी लिख दी। सपना ने पहले अपनी ग्राम पंचायत को शौच मुक्त किया। फिर उसके बाद समीपवर्ती चीनौर, किशोरगढ़, पुरी व ररूआ सहित लगभग एक दर्जन ग्राम पंचायतों को खुले में शौच मुक्त करा दिया। शौचालयों का उपयोग भी हो, इसके लिये सपना समय-समय पर तड़के 4 बजे से अपनी सहेलियों के साथ गाँव में फोलोअप के लिये भी निकलती हैं। इन जागरूक महिलाओं के चर्चे ग्वालियर जिले के ग्रामीण अंचल की चौपालों में प्रमुखता से छाए रहते हैं।
   ऐसे प्रेरकों के समर्पण और अथक मेहनत की बदौलत ही ग्रामीण स्वच्छता में ग्वालियर जिला देश के अव्वल जिलों में चयनित हुआ है। स्त्री-पुरूष अनुपात में पिछड़े जिलों में शुमार ग्वालियर जिले में इन महिला प्रेरकों ने महिला सशक्तिकरण की नई इबारत लिखी है। श्रीमती जेबोबाई को जिले के मुख्य स्वतंत्रता दिवस समारोह में कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया द्वारा सम्मानित किया जा चुका है।
   प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा स्वच्छता का संदेश दिए जाने के बाद ग्वालियर जिले के गाँव-गाँव की चौपाल पर भी शौचालय बनवाने की चर्चा आम थी। कोई कहता फसल बिके तब घर में शौचालय बनवाऊँ तो किसी का कहना था कि सरकार की आर्थिक मदद आए तब शौचालय का निर्माण शुरू करूँ। घर में शौचालय न होने से सबसे ज्यादा कष्ट जाहिर तौर पर महिलाओं को उठाना पड़ता है। जब हर घर में शौचालय की बातें गाँव की महिलाओं ने सुनीं तो उनके मन में उम्मीद की किरण जागी। गाँव के पुरूष अभी इसी उधेड़बुन में थे कि शौचालय का निर्माण कैसे शुरू करूँ, तभी गाँव की कुछ महिलाओं ने ऐसी मिसाल कायम कर दी कि एक घर में क्या गाँव के सभी घरों में शौचालय बन गए और ग्वालियर जिला अब खुले में शौचमुक्त जिला है।
(256 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2018जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer