समाचार
|| युवा को राष्ट्रीय सभ्यता, संस्कृति, परम्पराओं के प्रति जागरूक बनायें || भारतीय प्रेस परिषद की जाँच समिति की बैठक 23-24 जुलाई को || निर्वाचन सम्बन्धी प्रशिक्षण आज || बाल अधिकार सम्बन्धी शिकायतों की सुनवाई आज || चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री जैन आज सिवनी जाएंगे || क्षय रोग से पीड़ित बच्ची रोशनी चौधरी से मिली राज्यपाल || राज्यपाल ने की क्षय रोग से पीड़ित बच्चों को गोद लेने की मुहिम की सराहना || वायुनगर कॉलोनी का प्रवेश द्वार 7 लाख 80 हजार रूपए की लागत से बनेगा || विकास पर्व के तहत आयोजित भूमिपूजन एवं लोकार्पण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि होंगीं श्रीमती माया सिंह || द्वार दाहिकेपुरा में खनन माफ़िया के विरुद्ध बड़ी कार्यवाही दो जे.सी.बी और एक पोकलेन मशीन जप्त
अन्य ख़बरें
किसानों के लिए फायदेमंद है भावांतर भुगतान योजना - कलेक्टर
सभी 6 जनपद पंचायतों में प्रशिक्षण सम्पन्न
नरसिंहपुर | 11-अक्तूबर-2017
 
 
    मध्यप्रदेश में किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाने के लिए किसान कल्याण तथा कृषि विभाग ने खरीफ 2017 से भावांतर भुगतान योजना लागू की है। योजना के अंतर्गत लाभ लेने के लिए किसानों का पंजीयन किया जा रहा है। इस सिलसिले में नरसिंहपुर जिले में सभी ग्राम पंचायतों में 12 अक्टूबर को ग्राम सभाओं के मद्देनजर सभी 6 जनपद पंचायतों में ग्राम सभाओं के नोडल अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया गया। इन ग्राम सभाओं में खरीफ फसल लगाने वाले किसानों का पंजीयन किया जायेगा, ताकि उन्हें भावांतर योजना का लाभ मिल सके।
       कलेक्टर डॉ. आरआर भोंसले ने जनपद पंचायत गोटेगांव के सभाकक्ष में भावांतर योजना के पंजीयन के लिए आयोजित की जा रही ग्राम सभाओं के नोडल अधिकारियों के प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भावांतर भुगतान योजना किसानों के लिए फायदेमंद है। उन्होंने कहा कि भावांतर भुगतान योजना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। राज्य सरकार की मंशा है कि किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य मिले। कलेक्टर ने नोडल अधिकारियों से कहा कि शासन द्वारा तुअर, उड़द, मूंग, सोयाबीन, मक्का, मूंगफली, तिल और रामतिल के लिए इस वर्ष से यह योजना लागू की गई है। इन फसलों के लिए किसानों को पंजीयन किया जाना है। उन्होंने कहा कि खरीफ की फसल लगाने वाले कोई भी किसान इस योजना के लाभ से वंचित न रहे। अत: खरीफ फसल लगाने वाले सभी किसानों का पंजीयन करवायें।
   कलेक्टर ने कहा कि 12 अक्टूबर को आयोजित होने वाली विशेष ग्राम सभाओं में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के उद्बोधन का प्रसारण प्रात: 11 बजे से किया जायेगा। उन्होंने सभी ग्राम सभा स्थल पर प्रसारण देखने व सुनने के लिए आवश्यक व्यवस्थायें बनाने के निर्देश अधिकारियों को दिये।
       प्रशिक्षण कार्यक्रम में नोडल अधिकारियों द्वारा भावांतर भुगतान योजना के संबंध में पूछे गये प्रश्नों के उत्तर दिये गये। एक प्रशिक्षणार्थी द्वारा पूछे गये प्रश्न के जबाव में बताया गया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना और भावांतर भुगतान योजना दोनों ही अलग- अलग योजनायें हैं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का संबंध फसल क्षति होने पर किसानों को क्षतिपूर्ति दिलाना है और वहीं भावांतर भुगतान योजना का संबंध पैदा हुई फसल का उचित मूल्य दिलाने से है।
       अनुविभागीय राजस्व अधिकारी गोटेगांव मो. शाहिद खान ने प्रशिक्षण कार्यक्रम में नोडल अधिकारियों को भावांतर भुगतान योजना के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पंजीयन के लिए किसान को आधार नम्बर, परिवार की समग्र आईडी, बैंक का खाता नम्बर, आईएफएस कोड, मोबाइल नम्बर, भू- अधिकार ऋण पुस्तिका की स्वप्रमाणित प्रति आदि दस्तावेज देने होंगे।
       प्रशिक्षण कार्यक्रम में तहसीलदार धर्मेन्द्र चौकसे, जनपद पंचायत गोटेगांव के मुख्य कार्यपालन अधिकारी केके रैकवार, सहायक संचालक कृषि अभिषेक दुबे, जिला परियोजना प्रबंधक आजीविका मिशन आरके मालवीय, अन्य अधिकारी और ग्राम सभाओं के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी मौजूद थे।
 
(284 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer