समाचार
|| मुख्यमंत्री युवा उद्यमीयोजना से लाभान्वित होंगे महिला स्व-सहायता समूह || 29 अगस्त को सभी स्कूलों में होगा "आ-खेलें जरा" कार्यक्रम || आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की अनंतिम चयन सूची जारी || मुख्यमंत्री कल्याणी पेंशन योजना में बीपीएल का बंधन आवश्यक नहीं || 23 जुलाई को कृषि मंत्री श्री बिसेन घोटी में || 24 जुलाई तक जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा मनाया जाएगा || स्कूल स्पोर्ट्स प्रमोशन फाउंडेशन में किया जा रहा है शासकीय व अशासकीय विद्यालयों का पंजीयन || लेखा प्रशिक्षण सत्र 1 अगस्त से प्रारंभ होगा || जिले में 502 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य
अन्य ख़बरें
प्रमुख सचिव श्री बंदोपाध्याय द्वारा जिले की 3 मंडियों का किया निरीक्षण और किसान हित में दिये गये दिशा निर्देश
-
छिन्दवाड़ा | 04-नवम्बर-2017
 
  
   राज्य शासन ने जिले में मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना के अंतर्गत अधिसूचित मंडियों और उप मंडियों की समीक्षा करने के लिये प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास श्री संजय बंदोपाध्याय को प्रभारी बनाकर भेजा गया है। इस तारतम्य में आज श्री बंदोपाध्याय ने सर्किट हाउस छिन्दवाडा में सभी संबंधित अधिकारियों और व्यापारियों की बैठक लेकर अधिसूचित फसलों की खरीदी की जानकारी लेकर और मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना के मूल उद्देश्य को बताया। बैठक में कृषि उपज मंडी अध्यक्ष श्री शेषराव यादव, कलेक्टर श्री जे.के.जैन, अतिरिक्त कलेक्टर श्री आलोक श्रीवास्तव और अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे। बैठक के बाद प्रमुख सचिव श्री बंदोपाध्याय ने आई.टी.आई. छिन्दवाडा का दौरा भी किया।  
   प्रमुख सचिव श्री बंदोपाध्याय ने मंडियों के निरीक्षण के क्रम में आज सौंसर, पिपलानारायणवार और पांढुर्णा मंडी का निरीक्षण किया तथा किसानों से चर्चा कर उनकी समस्याओं की जानकारी ली। उन्होंने व्यापारियों की बैठक लेकर भी किसानों की समस्या के साथ ही राज्य शासन की मंशा को रखा। पिपलानारायणवार में मंडी अध्यक्ष द्वारा बताया गया कि अधिकांश किसान फसल की बुआई के समय व्यापारियों से राशि उधार लेते है और जब फसल तैयार हो जाती है तब किसान स्वयं उनके घर में ले जाकर फसल बेचते है और किसान ऐसी परिस्थितियों में घाटे में रहते है। श्री बंदोपाध्याय ने कहा कि किसान मंडी में ही अपनी उपज को विक्रय के लिये लाये। कपास के मामले पर यदि जिनिंग यूनिटस द्वारा कम दर पर खरीदी की जाती है तो सी.आई.आई. इंदौर व अन्य व्यापारियों को आमंत्रित कर अच्छे दामों में उपज का विक्रय करें। उन्होंने कहा कि बाहर से व्यापारियों को बुलाकर दाम के मामले में प्रतियोगिता कराये ताकि किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य मिल सके।  
   पांढुर्णा में किसानों और व्यापारियों की बैठक में किसानों द्वारा बताया गया कि मूंगफली की खरीदी के लिये मंडी में व्यापारी नहीं आते है और वे मंडी के बाहर खरीदी करते है। मंडी में यदि आये भी तो बहुत कम दाम में नीलामी होती है और इसमें समय का ध्यान नहीं रखा जाता जिससे किसानों को परेशानी होती है। इस पर प्रमुख सचिव श्री बंदोपाध्याय ने कहा कि व्यापारी मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना के उद्देश्यों के साथ किसान हित में मंडी में ही स्वस्थ प्रतियोगिता में अच्छे दामों में समय पर किसानों की फसल खरीदे। बैठक में कलेक्टर श्री जैन ने एस.डी.एम. और अपने प्रतिनिधि अधिकारी के साथ ही मंडी अध्यक्ष को निर्देश दिये कि व्यापारी यदि बाहर फसल खरीदी करते है तो सख्त कार्यवाही करें। आज ही सभी व्यापारियों के गोदामों में छापा मारे और उनके माल का आकलन करें। यदि कहीं गड़बड़ी होती है तो उनका माल जप्त करें, लायसेंस निरस्त करें। उन्होंने निर्देश दिये कि मंडी में मंडी के तौल कांटा से ही नापतौल करें। उन्होंने किसानों के शोषण के मामले में एस.डी.एम. से कहा कि व्यापारियों से बाँड भराये कि वे किसानों के साथ नाइंसाफी नहीं करेंगे, अन्यथा उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी। इस दौरान कृ‍षि अधिकारियों सहित सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित थे। प्रमुख सचिव श्री बंदोपाध्याय 5 नवंबर को प्रात: 11 बजे से चौरई और अमरवाड़ा मंडियों का निरीक्षण करेंगे।                  
(260 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer