समाचार
|| घर से ही करा सकते हैं मोबाइल को आधार से लिंक || अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस 29 जुलाई को || हज यात्रियों को विशेष प्रशिक्षण 25 जुलाई तक || समाज कार्य स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम लेखन की समीक्षा 26 जुलाई को || पशुधन संजीवनी हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर ‘‘1962’’ प्रारंभ || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य || स्कूलों की मान्यता के नवीनीकरण के लिए आयुक्त के पास अपील 20 से 26 जुलाई तक होगी || दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम में 21 प्रकार की दिव्यांगताएं शामिल || उर्दू में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा पुरस्कार || सुदामा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
अन्य ख़बरें
अपात्र व्यक्तियों के नाम सूची से ना काटने पर कमिश्नर ने जिला आपूर्ति अधिकारी को लगाई फटकार
बैतूल के जिला आपूर्ति अधिकारी को दिया कारण बताओ नोटिस, कमिश्नर ने की खाद्य एवं सहकारिता विभाग की योजनाओं की समीक्षा
होशंगाबाद | 25-नवम्बर-2017
 
  
     नर्मदापुरम संभाग कमिश्नर श्री उमाकांत उमराव ने शनिवार को जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग व सहकारिता विभाग की मैराथन समीक्षा बैठक की। कमिश्नर ने अपात्र व्यक्तियों के नाम बी.पी.एल. सूची से ना काटने पर मुख्यमंत्री एवं कमिश्नर द्वारा बार-बार अपात्रों के नाम सूची से हटाने एवं पात्रों के नाम सूची में जोड़ने के निर्देश देने के बावजूद निर्देशों की अवहेलना करने पर होशंगाबाद के जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी श्री बी.एस. तोमर को सख्त हिदायत देते हुए कड़ी फटकार लगाई।
    उल्लेखनिय है कि विभिन्न अभियानों के अंतर्गत तथा खाद्य विक्रय पोर्टल के आधार पर बहुत से हितग्राहियों का प्राथमिक चिन्हांकन किया गया है। जांच होकर नाम ना कटने के कारण बहुत से पात्र हितग्राहियों को बी.पी.एल. एवं अंत्योदय अन्य योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। इस संबंध में बहुत से स्तरों पर भी चिंता व्यक्त की गई है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भी समय-समय पर अपात्रों के नाम काटने के यथोचित निर्देश दिए हैं। नर्मदापुरम संभाग कमिश्नर ने भी सभी संभागीय बैठकों में इस संबंध में निर्देश दिए थे। साथ ही गत दिवस राष्ट्रीय खाद्य आयोग की बैठक में भी अपात्रों के नाम काटने एव पात्रों को राशन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गये थे। इन निर्देशों के पश्चात भी जिला आपूर्ति अधिकारी बी.एस. तोमर ने निर्देशों का पालन नहीं किया। कमिश्नर श्री उमराव ने उन्हें भविष्य के लिए हिदायत देते हुए चेतावनी दी और शासकीय कत्र्तव्य को गंभीरता से लेने के निर्देश दिए।
    कमिश्नर ने समीक्षा के दौरान यह पाया कि वर्ष 2016-17 में ग्रामोदाय से भारत उदय अभियान के अंतर्गत 6 हजार अपात्र व्यक्ति पाये गये थे जिनका नाम नहीं काटा जा सका है। कमिश्नर श्री उमराव ने ग्रामोदय अभियान के अंतर्गत बैतूल जिले में 2 हजार 836 व्यक्तियों के अपात्र पाये जाने पर तथा इस संबंध में अब तक हुई कार्यवाही पर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए बैतूल की जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी रश्मि साहू को कारण बताओ नोटिस देने के निर्देश दिए। कमिश्नर ने उन्हें मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशों को गम्भीरता से लेने के निर्देश दिए।
    उल्लेखनीय है कि बैतूल में 16 हजार परिवार बोगस चिन्हित किए गए है। बैतूल में 6 हजार 900 परिवार 2 सदस्यीय है जिनकी जांच की गई है। कमिश्नर ने सभी जिला आपूर्ति अधिकारी को निर्देश दिए कि वे प्रति सप्ताह इस बात की जानकारी प्रेषित करेगें कि उन्होंने कितने अपात्रों के नाम काटने के लिए एस.डी.एम. के समक्ष प्रस्तुत किए है। साथ ही एक निश्चित फार्मेट में यह जानकारी देगे कि उनके जिले में कितने पात्र एवं कितने अपात्र हितग्राही है। और कितनों के नाम प्रतिदिन काटे जा रहे है। साथ ही जिला आपूर्ति अधिकारी कितने प्रकरणों में अपात्रों की जांच कर लिए है। उसकी भी जानकारी प्रस्तुत करेंगे। बैठक में बताया गया कि बैतूल में 43 हजार 738 लोगों ने 45 दिनों से प्रधानमंत्री उज्जवला योजना अंतर्गत गैस सिलेण्डरों का रिफलिंग नहीं कराया हे। कमिश्नर श्री उमराव ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे दूरस्थ वन ग्रामों में गैस सिलेण्डर पहुंचाने के लिए चार्ट बनाएं। रूट चार्ट में सिलेण्डर पहुंचाने का दिन एवं समय निश्चित किया जाएं। बताया गया कि हरदा एवं बैतूल में रूटचार्ट बनाकर दूरस्थ गांवों में सप्ताह में एक दिन सिलेण्डर पहुंचाने का कार्य संपादित किया जा रहा है। कमिश्नर ने कहा कि गैस एजेंसी जहां रिफलिंग कर रही है उस स्थान की 5 मिनट की विडियो फिल्म भी बनाकर भेजी जाएं तथा तत्संबंध के फोटोग्राफ भी उपलब्ध कराए जांए। कमिश्नर ने रूटचार्ट का अंकन ग्राम पंचायत के सूचना पटल पर अंकित करवाने एवं एक वाट्सऐप गुप्र बनाने के निर्देश दिए  ताकि वाट्सऐप गुप्र के माध्यम से गांव के सरपंच एवं सचिव को गैस सिलेण्डर पहुंचाने के समय का पता चल सके। रूटचार्ट बनाकर बेहतर डिलीवर करने पर कमिश्नर ने हरदा कलेक्टर एवं हरदा के जिला आपूर्ति अधिकारी को प्रशंसा पत्र देने के निर्देश दिए।
    कमिश्नर ने सहकारिता विभाग की भी समीक्षा की। उन्होंने सभी सहकारिता अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे नए नामांतरण बटवारा में पृथक हुए व्यक्तियों की सूची तहसीलदारों से बुलाकर उनके के.सी.सी. बनाए। बताया गया कि नर्मदापुरम संभाग में लगभग 17 हजार ऐसे व्यक्ति है। कमिश्नर ने समीक्षा के दौरान पाया कि होशंगाबाद में 83762 ऋणी कृषक है। हरदा में 42107 एवं बैतूल में इनकी संख्या 87403 है।
    संभागीय समीक्षा बैठक के दौरान संयुक्त उपायुक्त विकास श्री राजेन्द्र सिंह सहित सभी संबंधित अधिकारीगण मौजूद थे।
(238 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer