समाचार
|| घर से ही करा सकते हैं मोबाइल को आधार से लिंक || अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस 29 जुलाई को || हज यात्रियों को विशेष प्रशिक्षण 25 जुलाई तक || समाज कार्य स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम लेखन की समीक्षा 26 जुलाई को || पशुधन संजीवनी हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर ‘‘1962’’ प्रारंभ || सीपीसीटी में हिंदी टाईपिंग अनिवार्य || स्कूलों की मान्यता के नवीनीकरण के लिए आयुक्त के पास अपील 20 से 26 जुलाई तक होगी || दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम में 21 प्रकार की दिव्यांगताएं शामिल || उर्दू में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा पुरस्कार || सुदामा प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना
अन्य ख़बरें
अपनी आय बढ़ाने के लिये देशी गाय पाले ग्रामीण - विधायक श्री शुक्ल
जिला स्तरीय गोपाल पुरस्कार में प्रमाण - पत्र वितरित
सीधी | 26-नवम्बर-2017
 
   
 
   ग्रामीणों को पशुपालन को बढ़ावा देने और इसे प्रोत्साहित करने के लिये प्रदेश सरकार द्वारा गोपालक पुरस्कार योजना प्रांरभ की गयी। ग्रामों में शनैः शनैःकम होते पशुओं और इसमें रूचि कम होने पर इस योजना का प्रांरभ किया गया। ग्रामीण देशी गाय पालना प्रारम्भ करें इससे जहाँ एक ओर उनकी आय बढ़ेगी वही दूसरी ओर परिवार का कल्याण होगा। उनका परिवार समर्थ एवं शक्तिशाली होगा। देशी गाय के पंचगांव्य का उपयोग करें इसके उपयोग से बीमारियां पास नहीं फटकेगी। उक्त आशय का संबोधन सीधी विधानसभा क्षेत्र के विधायक केदारनाथ शुक्ल ने आज ग्राम पंचायत बरम्बाबा में आयोजित जिला स्तरीय गोपाल पुरस्कार का वितरण करते हुये दिया।
         इस अवसर पर जनपद अध्यक्ष श्रीमती शकुंतला सिंह, जनपद सदस्य अनारकली सिंह, सरपंच राममनोहर सिंह, अन्त्योदय समिति के अध्यक्ष पुनीत नारायण शुक्ल, कृषि विभाग के उपसंचालक के.के.पाण्डे, पशु चिकित्सा विभाग के उपसंचालक डॉ. एम.पी.गौतम, पूर्व उपसंचालक कैलाश पति तिवारी, डॉ. रजनीश तिवारी सहित जनप्रतिनिधि एवं विभागीय अधिकारी मौजूद थे।
     विधायक श्री शुक्ल ने कहा कि इस आधुनिकता की दौड़ में हम अपने आस -पास की छोटी-छोटी लेकिन महत्वपूर्ण चीजे खोते जा रहे है। पहले हमारे पूर्वज देशी गाय एवं भैस ही पालते थे और उनकी सेवा करते थे। सुबह उठकर किसान सबसे पहले गाय एवं बछड़े को चारा डालते थे तब दूसरा काम करते थे। महत्व के मान से देखे तो देशी गाय का मूत्र, गोबर, गाय का घी, गाय का दूध और गाय का दही बहुत फायदे मंद और महत्वपूर्ण है। पंचगांव्य का सेवन करने पर बीमारिया हमारे पास भी नहीं फटकती। सुबह चारा भूसा देते समय गाय की सांस बहुत उपयोगी है। एक नगरपालिका परिषद थोक में गाय और सांड का गोबर एकत्रित कर इसके कंडे 5 रूपये की दर से बेच रही है। वही बाबा रामदेव गोमूत्र 40 रूपये पाव बेच रहे है। जानकार लोग गौमूत्र पीकर बीमारियों से दूर रहते है और स्वस्थ रहते है। उन्होने कहा कि जर्सी गाय की अपेक्षा देशी गाय को पालन अधिक उपयोगी है। अतः समस्त ग्रामीण पशुपालन कर अपनी आय दुगनी करें। देशी गाय का दूध खरीदने के लिये शहरो में लाइन लगती है। हम भाग्यशाली है कि हमारे गाव की आबो हवा काफी शुद्ध है अभी हम ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव में नहीं आये है। नहीं तो दिल्ली जैसे शहरवासियों की तरह हमें भी आक्सीजन मास्क पहन कर चलना पड़ता।
   विधायक श्री शुक्ल ने गौवंशीय में प्रथम पुरस्कार सुनील कुमार जायसवाल को 50 हजार रूपये एवं प्रमाण पत्र इनकी साहिवाल गाय ने 11.567 किलो दूध दिया। द्वितीय पुरस्कार अनिल कुमार सिह को  25 हजार रूपये और प्रमाण-पत्र दिया इनकी गाय ने 11.476 किलो तथा तृतीय पुरस्कार विनोद कुमार साहू को 15 हजार रूपये और प्रमाण-पत्र वितरित किये इनकी गाय 8.946 किलो दूध दिया। तथा 5-5  हजार रूपये के सांत्वना पुरस्कार वितरित किये इसमें रणजीत सिंह सतनामी,विष्णु प्रसाद यादव,श्रीमती राजवती सिंह,श्रीमती कुसुमवती सिंह,इन्दवती यादव, घनश्याम जायसवाल, और शशिकान्त पाण्डेय को प्रमाण-पत्र वितरित किया। इसी प्रकार भैसवंशीय में भगवान यादव को प्रथम पुरस्कार राजकुमार रजक को द्वितीय तथा राजबहादुर सिह को तृतीय पुरस्कार वितरित किया। सांत्वना पुरस्कार में सुखलाल साहू, उमाकांत पाण्डेय, फुलेल सिंह, हेमन्तकुमार जायसवाल, भरतलाल तिवारी, शिवराज जायसवाल और भोला गुप्ता को वितरित किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. रजनीश तिवारी ने किया।
(237 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer