समाचार
|| युवा को राष्ट्रीय सभ्यता, संस्कृति, परम्पराओं के प्रति जागरूक बनायें || भारतीय प्रेस परिषद की जाँच समिति की बैठक 23-24 जुलाई को || निर्वाचन सम्बन्धी प्रशिक्षण आज || बाल अधिकार सम्बन्धी शिकायतों की सुनवाई आज || चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री जैन आज सिवनी जाएंगे || क्षय रोग से पीड़ित बच्ची रोशनी चौधरी से मिली राज्यपाल || राज्यपाल ने की क्षय रोग से पीड़ित बच्चों को गोद लेने की मुहिम की सराहना || वायुनगर कॉलोनी का प्रवेश द्वार 7 लाख 80 हजार रूपए की लागत से बनेगा || विकास पर्व के तहत आयोजित भूमिपूजन एवं लोकार्पण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि होंगीं श्रीमती माया सिंह || द्वार दाहिकेपुरा में खनन माफ़िया के विरुद्ध बड़ी कार्यवाही दो जे.सी.बी और एक पोकलेन मशीन जप्त
अन्य ख़बरें
जिला जेल में विधिक साक्षरता शिविर सम्पन्न
-
शहडोल | 13-जनवरी-2018
 
 
   मध्यप्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार तथा जिला एवं सत्र न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शहडोल श्री आर.के. सिंह के निर्देशन में जिला न्यायालय शहडोल में पदस्थ अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री अविनाश चंद्र तिवारी एवं जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री बी.डी. दीक्षित द्वारा जिला जेल शहडोल का निरीक्षण किया गया तत्पश्चात विचाराधीन बंदियों के मध्य बंदियों के अधिकार एवं प्लीबारगेनिंग विषय पर विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में बंदियों को विधिक सहायता प्राप्त करने के अधिकार से अवगत कराते हुये अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वारा प्लीबारगेनिंग की प्रक्रिया विचाराधीन बंदियों को समझाई गई तथा धारा 436 ए के आलोक में प्रकरणों की समीक्षा की गई। बंदीजनों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सभी अभिरक्षा के बंदियों को निःशुल्क विधिक सहायता प्रदान किये जाने का विधि का प्रावधान है तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सदैव विधिक सलाह एवं सहायता प्रदान करने के लिये तत्पर है। प्लीबारगेनिंग दाण्डिक मामले का समझौते के आधार पर अंतिम निराकरण हेतु एक उपबंध है। यदि कोई अभियुक्त जिसके विरूद्ध न्यायालय में कोई मामला चल रहा है और 18 वर्ष की उम्र से अधिक है तथा ऐसा मामला 7 वर्ष से अधिक कारावास से दंडनीय न हो तथा महिलाओं और बच्चों के विरूद्ध न हो देश की सामाजिक और आर्थिक स्थिति को प्रभावित करने वाला न हो। ऐसे मामलों में अभियुक्त प्लीबारगेनिंग प्रक्रिया का लाभ उठा सकता है। इसका लाभ यह है कि अभियुक्त अपराध के लिये निर्धारित दण्ड की अधिकतम सजा में से एक चौथाई सजा से दंडित किया जायेगा। जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री बी.डी. दीक्षित ने बंदियों को विधिक अधिकारों के बारे में जानकारी दी तथा शिविर में उपस्थित लगभग 180 विचाराधीन बंदियों से विधिक सहायता के संबंध में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पैनल अधिवक्ताओं के माध्यम से प्रकरण में पैरवी कराये जाने हेतु जेल में उपस्थित पैरालीगल वालेंटियर के माध्यम से बंदियों के आवेदन जेल अधीक्षक के माध्यम से जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शहडोल को दिये जाने हेतु कहा गया। इस विधिक साक्षरता शिविर में जेल अधीक्षक श्री जी.एल.नेटी, सहायक जेल अधीक्षक श्री एच.एस. राठौर व अन्य जेल के अधिकारी मुख्य प्रहरी श्री रामभरोसे गौतम एवं अन्य जेल स्टाफ तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शहडोल के कर्मचारीगण उपस्थित रहे।
 
(190 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer