समाचार
|| जिला स्तरीय शांति समिति की बैठक आज || तीन व्यक्तियों को उपचार हेतु राशि स्वीकृत || विधानसभा निर्वाचन स्टेडिंग कमेटी की बैठक संपन्न || शासकीय धन का प्रवक्षण करने वालें के जेल सुपुर्द बारंट जारी || रिटर्निंग ऑफिसर एवं सहायक रिटर्निंग ऑफिसर की 18 अगस्त को 5 केन्द्रों पर परीक्षा || विधानसभा निर्वाचन के लिए जिला स्तरीय स्टेडिंग कमेटी गठित || शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने में सहयोग करे सम्पूर्ण समाज || किशोरी बालिका योजना एक दिवसीय उन्मुखीकरण || भू-राजस्व (संशोधन) अधिनियम 25 सितम्बर से होगा प्रभावशील || शिर्डी तीर्थयात्रा 19 अगस्त को
अन्य ख़बरें
ओलावृष्टि से हुई फसलों के नुकसान की भरपाई राहत राशि और फसल बीमा को मिलाकर की जाएगी
प्रभावित फसलों का शीघ्र किया जायेगा सर्वेक्षण, किसान ओलावृष्टि से क्षतिग्रस्त फसलों की सूचना, टोल फ्री नंबर पर 72 घंटे के अंदर दर्ज करायें, कलेक्टर ने दिये निर्देश
टीकमगढ़ | 14-फरवरी-2018
 
 
    कलेक्टर श्री अभिजीत अग्रवाल ने हाल ही में जिले में हुई ओलावृष्टि पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि ओलावृष्टि से जिन किसानों की फसलें प्रभावित हुई है उनका सर्वे नोटिफिकेशन से शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि प्रभावित किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत पूरा मुआवजा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि शासन के निर्देशानुसार जिले में हुई ओलावृष्टि से प्रभावित फसलों के नुकसान की भरपाई राहत राशि और फसल बीमा को मिलाकर की जाएगी। उन्होंने बताया कि शासन के निर्देशानुसार किसानों की मेहनत का पूरा मूल्य दिलाने के लिए मुख्यमंत्री कृषि उत्पादकता योजना लागू की जाएगी। इस योजना में गेहूं-धान का समर्थन मूल्य के अतिरिक्त 200 रुपए प्रति क्विंटल प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। ज्ञातव्य है कि गत दिवस कई स्थानों पर हुई ओलावृष्टि से जिले में गेहूं एवं अन्य फसलों को नुकसान हुआ है।
किसान ओलावृष्टि से क्षतिग्रस्त फसलों की सूचना
टोल फ्री नंबर पर 72 घंटे के अंदर दर्ज करायें
    श्री अग्रवाल ने कहा कि बारिश एवं ओले से खड़ी फसलों में यदि कृषक भाईयों का नुकसान हुआ है तो क्षेत्र के बीमित कृषक अधिकृत बीमा कम्पनी एचडीएफसी इर्गो के टोल फ्री नं. 18002660700 एवं ruralclaims@hdfc.ergo.com पर शिकायत तत्काल दर्ज करायें। दर्ज शिकायत का पंजीयन होने के पश्चात सर्वे कार्य बीमा प्रतिनिधियों के द्वारा भी किया जायेगा। कृषकों द्वारा शिकायत 72 घंटे के अंदर दर्ज कराना आवश्यक है। उन्होंने उप संचालक कृषि एवं सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया है कि कृषि विभाग के समस्त ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों एवं पटवारियों के साथ बीमा कम्पनी के प्रतिनिधि संयुक्त रूप से सर्वे कार्य करने के पश्चात शीघ्र रिर्पोट प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि किसानों को घबराने की जरूरत नहीं हैं, क्योंकि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में उन्हें मुआवजा मिल सकता है। बीमा दावा देने के लिए अब खेत को इकाई बनाया गया है। यानी किसी गांव में एक किसान के खेत में ही नुकसान होता है तो इसके नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी करेगी।
 
(184 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2018सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer