समाचार
|| चयनित पटवारियों के सत्यापन एवं कॉउन्सलिंग 25 जून को || कृषि विज्ञान केन्द्र में हुआ प्रधानमंत्री जी द्वारा कृषकों से वार्तालाप का सीधा प्रसारण || योगाभ्यास शिविर का हुआ समापन || मोहनपुरा योजना से राजगढ़ क्षेत्र की तकदीर और तस्वीर बदलेगी || रोजगार मेले में 463 में से 348 आवेदकों का हुआ चयन || छात्रावासों में रिक्त सीट की पूर्ति हेतु परीक्षा 29 जून को || व्यापार संवर्धन बोर्ड की बैठक 23 को || अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस आज स्थानीय स्टेडियम में || अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन आज || जिले में उमंग शिविर का शुभारंभ
अन्य ख़बरें
50 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति पर मिलेंगे 30 हजार रूपए प्रति हेक्टेयर
राज्य शासन ने जारी किए आदेश
जबलपुर | 04-मार्च-2018
 
   
   फरवरी 2018 में ओला-वृष्टि से 50 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति पर सिंचित फसल के लिए 30 हजार रूपए तथा वर्षा आधारित फसल के लिए 16 हजार रूपए प्रति हेक्टेयर के मान से अनुदान सहायता राशि दी जाएगी। अभी यह राशि क्रमश: 15 हजार और 8 हजार रूपए है। राज्य शासन द्वारा माह फरवरी 2018 में ओला-वृष्टि से कृषकों को हुई फसल नुकसानी के लिए तथा भविष्य में दी जाने वाली सहायता के सम्बन्ध में राजस्व पुस्तक परिपत्र खण्ड 6-4 के अन्तर्गत दी जाने वाली सहायता राशि तथा मानदण्ड में संशोधन किए गए हैं। उल्लेखनीय है कि फरवरी माह में अनुदान सहायता राशि बढ़ाने की घोषणा की थी।
फसल हानि के लिए आर्थिक सहायता
   प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पाण्डेय ने जानकारी दी है कि फलदार पेड़, उन पर लगी फसलें आम, संतरा, नीबू के बगीचे, पपीता, केला, अंगूर, अनार आदि की फसलें तथा पान बरेजे को छोड़कर उगाई जाने वाले फसलों, जिसमें सब्जी की खेती, मसाले, ईसबगोल, तरबूजे, खरबूजे की खेती भी सम्मिलित है, चाहे वह खेतों या नदी के किनरे हों की हानि के लिये नये मानदण्ड निर्धारित किये गये हैं ।
   लघु एवं सीमांत कृषक, जिनके पास 2 हेक्टेयर तक कृषि भूमि है, उनकी 25 से 33 प्रतिशत फसल क्षति पर वर्षा आधारित फसल के लिये 5 हजार, सिंचित फसल के लिये 9 हजार, बारहमासी (छह माह से कम अवधि में क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये 9 हजार, बारहमासी (छह माह से अधिक अवधि के बाद क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये 15 हजार और सब्जी, मसाले तथा ईसबगोल की खेती के लिये 18 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान सहायता राशि दी जायेगी ।
   इतने ही रकबे वाले कृषकों की 33 से 50 प्रतिशत तक फसल क्षति पर वर्षा आधारित फसल के लिये 8 हजार, सिंचित फसल के लिये 15 हजार, बारहमासी (छह माह से कम अवधि में क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये 18 हजार, बारहमासी (छह माह से अधिक अवधि के बाद क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये 20 हजार और सब्जी मसाले तथा ईसबगोल की खेती के लिये 26 हजार और सेरीकल्चर (एरी, शहतूत और टसर) के लिये 6 हजार एवं मूंग के लिये 7 हजार 500 रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान सहायता राशि दी जायेगी ।
   इसी रकबे की 50 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति पर वर्षा आधारित फसल के लिये 16 हजार, सिंचित फसल के लिये 30 हजार, बारहमासी (छह माह से कम अवधि में क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये 30 हजार, बारहमासी (छह माह से अधिक अवधि के बाद क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये भी 30 हजार, सब्जी, मसाले तथा ईसबगोल की खेती के लिये 30 हजार और सेरीकल्चर (एरी, शहतूत और टसर) के लिये 12 हजार एवं मँूग के लिये 15 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान सहायता राशि दी जायेगी ।
   लघु एवं सीमांत कृषक से भिन्न 2 हेक्टेयर से अधिक कृषि भूमि धारित करने वाले कृषक को, उनकी 25 से 33 प्रतिशत फसल क्षति पर वर्षा आधारित फसल के लिये 4 हजार 500, सिंचित फसल के लिये 6 हजार 500, बारहमासी (छह माह से कम अवधि में क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये 6 हजार 500, बारहमासी (छह माह से अधिक अवधि के बाद क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये 12 हजार और सब्जी, मसाले तथा ईसबगोल की खेती के लिये 14 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान सहायता राशि दी जायेगी ।
   इसी रकबे के कृषकों को 33 से 50 प्रतिशत फसल क्षति पर वर्षा आधारित फसल के लिये 6 हजार 800, सिंचित फसल के लिये 13 हजार 500, बारहमासी (छह माह से कम अवधि में क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये 18 हजार, बारहमासी (छह माह से अधिक अवधि के बाद क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये भी 18 हजार और सब्जी, मसाले तथा ईसबगोल की खेती के लिये 18 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान सहायता राशि दी जायेगी ।
   इसी रकबे वाले कृषकों को 50 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति पर वर्षा आधारित फसल के लिये 13 हजार 600, सिंचित फसल के लिये 27 हजार, बारहमासी (छह माह से कम अवधि में क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये 30 हजार, बारहमासी (छह माह से अधिक अवधि के बाद क्षतिग्रस्त होने पर) फसल के लिये भी 30 हजार और सब्जी, मसाले तथा ईसबगोल की खेती के लिये 30 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से अनुदान सहायता राशि दी जायेगी ।
   इन संशोधनों के अलावा राजस्व पुस्तक परिपत्र खण्ड-6 क्रमांक-4 परिशिष्ट-1 के अन्य प्रावधान पहले की तरह लागू रहेंगे ।
(108 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2018जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer