समाचार
|| जिले में 131 बच्चे शिशुगृहों में निवासरत || ग्लोबल इंवेस्टर्स मीट के दिखने लगे परिणाम || लोक अदालत में मिलेगा सबको सस्ता-शीघ्र-सुलभ न्याय || जिला प्रशासन आगामी 29 जून को विधवा, तलाकशुदा को दिलायेगा प्रायवेट नौकरी || आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं को 330 रूपये वार्षिक किस्त देने पर मिलेगा 2 लाख रूपये बीमा का लाभ || अजा/जजा वर्ग के 08 अभ्यर्थी प्रशासनिक सेवा में चयनित || बांधवगढ़ की अनुशंसा पर इलाज हेतु पांच हजार की प्रशासकीय स्वीकृति || विधायक बांधवगढ़ की अनुशंसा पर टैंकर प्रदाय हेतु आठ लाख उन्यासी हजार एक सौ अठानवें रूपये स्वीकृत || स्कूलों के विद्यार्थियों की दक्षता आंकलन के लिये बेसलाइन टेस्ट 25 जून से || सुपर-100 चयन परीक्षा एक जुलाई को
अन्य ख़बरें
स्वरोजगार के लिये युवा-उद्यमी-किसान आधुनिक मधुमक्खी पालन अपनाएं-कलेक्टर श्री खत्री
-
पन्ना | 07-मार्च-2018
 
  
     पन्ना के भारतीय स्टेट बैंक ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण केन्द्र (आरसेटी) में 7 मार्च को मधुमक्खी पालन का 7 दिवसीय प्रशिक्षण का शुभारम्भ कलेक्टर श्री मनोज खत्री द्वारा किया गया। कार्यक्रम में कलेक्टर ने कहा कि युवा खेती के साथ-साथ अन्य उद्योग में मधुमक्खी पालन अपनाकर अच्छा लाभ कमा सकते है। उन्होंने मधुमक्खी के वैज्ञानिक तरीकों को बरीकी से देखा तथा उद्यानिकी विभाग के इस कार्य करने की सराहना करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश देश के मध्य में स्थित है, यहां जलवायु भौगोलिक स्थिति वनस्पतियां प्रचूर मात्रा में वर्ष भर मिलने के कारण उत्तरप्रदेश के किसान मध्यप्रदेश आकर मधुमक्खी से शहद उत्पादन करते हैं। मध्यप्रदेश के किसानों को इस ओर ध्यान देना आवश्यक है। इस अवसर पर बुन्देखण्ड प्राधिकरण के उपाध्याय श्री महेन्द्र प्रताप सिंह यादव ने कहा कि किसानों को स्वप्रेरणा से आगे आने पर ही कार्य सफल होगा।
     इस अवसर पर ज्योति ग्राम उद्योग संस्थान सराहरनपुर (उ.प्र.) एवं मधुमक्खी बोर्ड भारत सरकार कृषि मंत्रालय ने मधुमक्खी विशेषज्ञ श्री रोहित सैनी ने बताया कि यदि 04 साल तक मधुमक्खी न हो तो जीवन-यापन करना मुश्किल होगा। मधुमक्खी पालक केवल शहद व मोम का ही उत्पादन कर रहे है, किन्तु मधुमक्खी पालन से रायल जैली, पराग, परपौलिस एवं मौनविश का भी उत्पादन किया जा सकता है। रायल जैली एक अत्यंत महत्वपूर्ण उत्पाद है, और एनर्जीफूड के रूप में पराग का उपयोग किया जा सकता है। प्राकृर्तिक एंटिवायोटिक के रूप में परपोलिस एवं मौनविश अनेक दवाईयों की आवश्यकता की पूर्ति हो सकेगी। श्री कुंवरपाल सिंह ने बताया कि ज्योति ग्राम उद्योग संस्थान सराहरनपुर एवं मधुमक्खी बोर्ड भारत सरकार कृषि मंत्रालय के सहयोग से 20 से 25 हजार लोग मधुमक्खी पालन कर रोजगार चला रहे है। मधुमक्खी बोर्ड भारत सरकार कृषि मंत्रालय के 50 बक्सें की योजना लेने से एक प्रोजेक्ट पर 2,20,000/- (शब्दों में दो लाख बीस हजार रूपये मात्र) का व्यय होता है। जिस पर भारत सरकार की 40 प्रतिशत अनुदान की योजना है। पूर्व सांसद श्री लोकेन्द्र सिंह ने महिलाओं को प्रशिक्षण देने पर जौर दिया। इस अवसर पर सहायक संचालक उद्यान पन्ना ने कहा कि पन्ना में मधुमक्खी पालन प्रारम्भ करवा कर एक परिवर्तन किया जावेगा। प्रशिक्षण 13 मार्च तक चलेगा, प्रत्येक प्रशिक्षणार्थी को सात दिन प्रशिक्षण के बाद प्रमाण पत्र दिया जावेगा। इस अवसर पर सहायक संचालक उद्यान महेन्द्र मोहन भट्ट, वी.एस. त्रिपाठी, आर.टी. त्रिपाठी, एस.डी. राजपूत, आर.एल. वर्मा, बनवारी कुशवाह, पी.एल. प्रजापति, यमन सिंह कुशरे, आरती सिंह, सोनाली असाटी, दिनेश कुशवाहा प्रताप सिंह यादव आदि उपस्थित रहे। श्री एच.आर. अहिरवार निर्देशक स्टेट बैंक स्वरोजगार प्रशिक्षण पन्ना ने आभार व्यक्त किया।
(107 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2018जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
2526272829301
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer