समाचार
|| संबल योजना ने हसीना बी को आर्थिक चिंताओं से किया मुक्त (सफलता की कहानी) || प्रदेश में संस्कृत भाषा के विकास के लिये भरपूर प्रयास किये जायेंगे || पर्यटन क्विज के लिये प्रत्येक जिले से एक क्विज मास्टर को प्रशिक्षण || प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश सर्वश्रेष्ठ || जिला योजना समिति की बैठक 19 जुलाई को || उर्दू में 90 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा पुरस्कार || सरल बिजली और बिल माफी स्कीम का लाभ संनिर्माण मण्डल के कर्मकारों को भी मिलेगा || पटवारी पद पर नियुक्ति हेतु विशेष आदिम जनजातियों से आवेदन आमंत्रित || सरल बिजली और बिजली बिल माफी स्कीम में 55 लाख से अधिक हितग्राहियों ने कराया पंजीयन || अति वर्षा में नगरीय निकाय का अमला सजग रहे
अन्य ख़बरें
मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना से लीलाबाई का सपना हुआ साकार "सफलता की कहानी"
-
खण्डवा | 20-मार्च-2018
 
  
   प्रदेश सरकार द्वारा प्रारंभ मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना गरीब परिवारों के लिए वरदान सिद्ध हो रही है। इस योजना के माध्यम से गरीब माता पिता भी अपनी बेटियों का विवाह धूमधाम से कर पा रहे है। खण्डवा जिले के हरसूद विकासखण्ड मुख्यालय पर गत दिनों आयोजित सामूहिक विवाह सम्मेलन में ग्राम पिपलानी निवासी कन्हैयालाल व लीलाबाई ने लाड़ली बिटिया राधिका के हाथ पीले करने के बाद अपनी भावना व्यक्त करते हुए बताया कि उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था कि गरीबी के बावजूद उनकी बेटी का विवाह इतनी धूमधाम से होगा और कन्यादान के अवसर पर प्रदेश सरकार के केबिनेट मंत्री उनकी बेटी के विवाह में आशीर्वाद देने आयेंगे। प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. कुंवर विजय शाह ने इस सामूहिक विवाह सम्मेलन में शामिल सभी 29 जोड़ो को अपनी और से तो उपहार दिए ही। साथ ही मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत सभी कन्याओं को ढेरों उपहार सामग्री भी जनपद पंचायत की और से विवाह प्रमाण पत्र के साथ दी गई।
    पिपलानी निवासी कन्हैयालाल ने बताया कि जब से राधिका ने घर में जन्म लिया था तभी से गरीबी की चिंता के साथ साथ एक सपना भी देखा था कि अपनी बिटियां के हाथ पीले करते समय उसे ढेरों उपहार दे सकूं, लेकिन गरीबी के कारण ऐसा संभव नहीं लग रहा था। कन्हैया जब भी अपनी पत्नि लीलाबाई के साथ अकेला बैठता तो लीलाबाई की एक ही चिंता रहती थी कि गरीबी के कारण बेटी की शादी कैसे कर पायेंगे। धीरे-धीरे लीलाबाई बड़ी होने लगी तो लीलाबाई और कन्हैयालाल की चिंता भी बढ़ने लगी। कन्हैयालाल ने सोच रखा था कि चाहे उधार लेकर ही बिटियां के हाथ पीला करना पड़े पर शादी धूमधाम से ही करूंगा। पिछले दिनांे गांव की पंचायत भवन में लगी सूचना से उसे मालूम पड़ा कि हरसूद में सामूहिक विवाह सम्मेलन मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत आयोजित होने वाला है, जिसमें सरकारी खर्चे पर ही गरीबों की बेटियों के विवाह धूमधाम से होंगे। कन्हैयालाल ने अपनी बिटियां राधिका के लिए पहले से ही ग्राम रोहणी निवासी पूनाजी व सूरज बाई का बेटा राहुल पसंद कर रखा था, सो उनसे बातचीत कर हरसूद के सामूहिक विवाह सम्मेलन में अपने बेटा-बेटी की शादी करने की सहमति बना ली। आखिर वो घड़ी आ ही गई जिसका पिछले 20 सालों से कन्हैया व लीलाबाई को इंतजार था। दोनों पक्षों के रिश्तेदार भी खुशी-खुशी शादी के दिन हरसूद आ गए और धूमधाम से राधिका का विवाह सम्पन्न हुआ।
(120 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer