समाचार
|| आचार्य श्री का जीवन-दर्शन जन-कल्याण के लिए अमूल्य : मुख्यमंत्री श्री चौहान || राज्य मंत्री श्री जालम सिंह पटेल 21 जुलाई को दमोह जायेंगे || सांची बौद्ध विश्वविद्यालय परिसर में स्थापित होंगे अन्य देशों के अध्ययन केन्द्र || शिक्षा और स्वास्थ्य में अग्रणी जिलों में शामिल हो बड़वानी || जीवन में एक पौधा जरूर लगाना चाहिए : प्राचार्य || बच्चों के सपनों को साकार करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री श्री चौहान || विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर थाना प्रभारियों की बैठक संपन्न || छात्रावासों और आश्रमों में 23 जुलाई को मनाया जायेगा प्रवेश उत्सव || ग्रामीण महिलायें करेंगी आधुनिक फैशन कपड़ों का प्रदर्शन || उपसंचालक लोक शिक्षण ने किया शालाओं का आकस्मिक निरीक्षण
अन्य ख़बरें
देश को समर नहीं समरसता की जरूरत - राष्ट्रपति श्री कोविंद
आधुनिक भारत के शिल्पी थे डॉ. अम्बेडकर - राज्यपाल श्रीमती पटेल, बाबा साहब की स्मृति से जुड़े पाँच स्थल मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना में शामिल होंगे - मुख्यमंत्री श्री चौहान, बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर का 127वीं जयंती समारोह
इन्दौर | 14-अप्रैल-2018
 
   
     राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने कहा है कि आज देश को समर नहीं समरसता की जरूरत है। उन्होने बाबा साहब के समरसता के संदेश को जीवन में अपनाने का संकल्प लेने का आव्हान किया। श्री कोविंद ने कहा कि बाबा साहब ने हमेशा शांति, करूणा और अंहिसा का रास्ता चुना। उन्होने नागरिकों से बाबा साहब के सपनों का भारत निर्माण करने में अपना योगदान देने का आव्हान किया। राष्ट्रपति ने कहा कि राष्ट्र की अखण्डता के संदर्भ में बाबा साहब कहते थे कि "वे पहले भारतीय हैं, बाद में भी भारतीय हैं और अंत में भी भारतीय हैं।"
    राष्ट्रपति आज यहाँ बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जन्मस्थली महू में आयोजित 127वीं जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे। राष्ट्रपति ने अम्बेडकर जन्म भूमि स्मारक जाकर भारत रत्न डॉ. भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा पर श्रद्धासुमन अर्पित किया और अनुयायियों के बीच बैठकर भोजन ग्रहण किया।
    राष्ट्रपति ने महू में हर साल अम्बेडकर महाकुंभ आयोजित करने के लिये मध्यप्रदेश सरकार की सराहना की। श्री कोविंद ने कहा कि डॉ. अम्बेडकर क जन्म स्थली महू नागरिकों के लिये प्रेरणास्त्रोत है। उन्होने कहा कि नई पीढ़ी को यह समझना होगा कि आधुनिक भारत के निर्माण की नींव बाबा साहब ने रखी थी। दामोदर वैली, हीराकुंड जैसे बांध और वृहद बिजली परियोजनाएं लागू करने जैसे बड़े कामों के पीछे बाबा साहब की प्रगतिशील सोच थी। उन्होने बाबा साहब का योगदान की चर्चा करते हुए कहा कि डॉ. अम्बेडकर ने महिलाओं को मतदान का अधिकार दिलाया। मजदूरों के काम के घंटे बारह से घटाकर आठ किये। महिलाओं को संपत्ति में बराबरी का अधिकार दिलाया। भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना में भी उनका महत्वपूर्ण योगदान है।
 
   श्री कोविंद ने कहा कि बाबा साहब ने हमेशा भगवान बुद्ध के शांति और अंहिसा का मार्ग अपनाया। वे कहते थे कि जब विरोध के संवैधानिक उपकरण उपलब्ध हैं तो हिंसात्मक तरीकों की कोई जरूरत नहीं है। वे महान विधिवेत्ता, विद्वान और समाज सुधारक थे। उनके बनाये संविधान की शक्ति से प्रजातंत्र जीवंत हुआ। कमजोर, वंचित और पिछड़े लोगों को आगे बढ़ने का मौका मिला, जिससे वे देश की प्रगति में योगदान देने में सक्षम बने हैं।
    श्री कोविंद ने कहा कि राष्ट्रपति के रूप में अम्बेडकर जन्मस्थली महू में यह उनकी पहली यात्रा है। उल्लेखनीय है कि अम्बेडकर जयंती पर जन्मस्थली महू में पधारने वाले वे पहले राष्ट्रपति हैं।
    राष्ट्रपति ने कहा कि बाबा साहब ने जो संविधान दिया है, वह समानता का मूल अधिकार देता है। इसके बाद सबसे बड़ा अधिकार मतदान का अधिकार है जो लोकतंत्र का आधार है। वे कहते थे शिक्षित बनो, संगठित रहो और संघर्ष करो। बाबा साहब एक असाधारण विद्यार्थी थे। उन्होंने कहा कि समझदारी के बिना शिक्षा अधूरी है। जब पहला मंत्रिमंडल बना तो डॉ. अम्बेडकर विधि मंत्री के रूप में शामिल हुये। वे उस समय मंत्रिमंडल के सदस्यों में सर्वाधिक डिग्री प्राप्त मंत्री थे। उन्होंने शिक्षा पर पूरा ध्यान केन्द्रित किया। उनका जीवन युवाओं के लिये अत्यंत प्रेरणास्प्रद हैं।
    श्री कोविंद ने बताया कि बाबा साहब ने मात्र 27 साल की उम्र में "स्माल होल्डिंग इन इंडिया एण्ड रेमेडीज" शीर्षक से आलेख लिखकर स्वयं को उच्चकोटि का अर्थशास्त्री साबित कर दिया था। उन्होंने हमेशा अहिंसा और करूणा का मार्ग अपनाया। राष्ट्रपति ने कहा कि जय भीम बोलने का अर्थ है - बाबा साहब के बनाये संविधान का सम्मान करना, उनकी वैचारिक विरासत का सम्मान करना।
 
   राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा कि भारत रत्न डॉ. भीमराव अम्बेडकर न केवल भारतीय संविधान के निर्माता थे बल्कि उनका आधुनिक भारत के निर्माण, कमजोर वर्गों और महिलाओं की उन्नति में तथा सामाजिक समरसता में महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार कमजोर वर्गों और महिलाओं के उत्थान के लिये निरंतर कार्य कर रही है। केन्द्र सरकार भी "सबका साथ, सबका विकास" के मार्ग पर चलते हुये सामाजिक न्याय और कौशल विकास के लिये ठोस कदम उठाये हैं।
    श्रीमती पटेल ने कहा कि बाबा साहब के सपनों को पूरा करने के लिये सरकार समाज के कमजोर वर्गों अनुसूचित जाति और जनजाति के कल्याण, शिक्षा, रोजगार के क्षेत्र में सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। उन्होंने सभी से समाज में एकता, समरसता बनाये रखने तथा देश के नवनिर्माण में सहभागी बनने की अपील की।
    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि डॉ. अम्बेडकर के जीवन और उनके स्मृति से जुड़े पाँच स्थानों को मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना में शामिल किया जायेगा। यह तीर्थ स्थान हैं बाबा साहब की जन्मस्थली महू, लंदन स्थित वह मकान, जहां उन्होंने शिक्षा ग्रहण की थी, दीक्षा भूमि नागपुर, परिनिर्वाण स्थल अलीपुर रोड बंगला नई दिल्ली और चैत्य भूमि मुम्बई जहां उनका अंतिम संस्कार हुआ था। उन्होंने राज्य सरकार डॉ. अम्बेडकर के आदर्शों पर चल रही है। जिन लोगों ने संविधान की धज्जियां उड़ाई, बाबा साहब का असम्मान किया वे लोग आज संविधान की बचाने का स्वांग रच रहे हैं। उन्होंने कहा कि बाबा साहब के संविधान को कोई खतरा नहीं है।
    श्री चौहान ने कहा कि बाबा साहब उच्च कोटि के समाज सुधारक थे। वे सम्पूर्ण समाज के आदर्श थे, जो वंचितों, शोषितों और पीड़ितों के लिये जीवनभर संघर्ष करते रहे। उन्होंने कहा कि बाबा साहब के सिद्धांतों पर चलते हुये असंगठित क्षेत्रों के मजदूरों के लिये अभूतपूर्व निर्णय लिये हैं। अब प्रदेश में कोई भी गरीब बिना मकान और जमीन के नहीं रहेगा। बच्चों को पहली से लेकर पीएचडी तक मुफ्त शिक्षा दी जायेगी। उनका मुफ्त इलाज होगा। बिजली उन्हें फ्लैट रेट पर मिलेगी। मजदूर बहनों को गर्भावस्था के दौरान चार हजार रूपये मिलेंगे और प्रसव के बाद बारह हजार रूपये अपने स्वास्थ्य और बच्चे की देखरेख के लिये दिये जायेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कमजोर वर्गों के सामाजिक, आर्थिक, शैक्षणिक और राजनैतिक उत्थान के लिये प्रतिबद्ध है।
    केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री श्री थावरचंद गेहलोत ने डॉ अम्बेडकर की स्मृति को चिरस्थाई बनाने और उनके बनाये गये संविधान का सम्मान करने में पूर्व की सरकारों ने कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि डॉ. अम्बेडकर की स्मृति को जीवित रखने के लिये सभी महत्वपूर्ण कार्य प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्‍व में सम्पन्न हुये। उन्होंने बताया कि बाबा साहब की शिक्षा स्थली लंदन का घर खरीदने से लेकर परिनिर्वाण स्थल अलीपुर रोड स्थित को राष्ट्रीय स्मारक घोषित करने एवं महू को भव्य स्मारक के रूप में विकसित करने जैसे कार्य हुये हैं। उन्होंने कहा कि बाबा साहब के आदर्शों पर चलते हुये केन्द्र सरकार ने कई अनूठी योजनाएं और परियोजनाएं बनाई है, जिससे कमजोर और वंचित वर्गों को आगे बढ़ने में मदद मिल रही है।
    महू क्षेत्र के विधायक श्री कैलाश विजयवर्गीय ने अपने स्वागत भाषण में डॉ. अम्बेडकर की तुलना भगवान शिव से करते हुये कहा कि जिस प्रकार शिव ने विष पिया और अमृत दिया। उसी प्रकार बाबा साहब अम्बेडकर ने समाज को संविधानरूपी अमृत दिया।
    राज्यपाल ने राष्ट्रपति को इंदौर के प्रसिद्ध राजवाड़े की प्रतिकृति, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शौर्य स्मारक भोपाल की प्रतिकृ‍ति और भंते संघशील ने भगवान बुद्ध की प्रतिमा भेंट की।
    इस अवसर पर वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, अनुसूचित जाति जनजाति कल्याण मंत्री श्री लाल सिंह आर्य, जेल एवं पशुपालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, क्षेत्रीय सांसद श्रीमती सावित्री ठाकुर, राज्य अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री भूपेन्द्र आर्य, अम्बेडकर स्मारक समिति के अध्यक्ष भंते सदानंद और भंते संघशील और विशाल संख्या में देशभर से आये बाबा साहब के अनुयायी उपस्थित थे।

   
  
(98 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer