समाचार
|| भारतीय प्रेस परिषद की जाँच समिति की बैठक 23-24 जुलाई को || निर्वाचन सम्बन्धी प्रशिक्षण आज || बाल अधिकार सम्बन्धी शिकायतों की सुनवाई आज || चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री जैन आज सिवनी जाएंगे || क्षय रोग से पीड़ित बच्ची रोशनी चौधरी से मिली राज्यपाल || राज्यपाल ने की क्षय रोग से पीड़ित बच्चों को गोद लेने की मुहिम की सराहना || वायुनगर कॉलोनी का प्रवेश द्वार 7 लाख 80 हजार रूपए की लागत से बनेगा || विकास पर्व के तहत आयोजित भूमिपूजन एवं लोकार्पण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि होंगीं श्रीमती माया सिंह || द्वार दाहिकेपुरा में खनन माफ़िया के विरुद्ध बड़ी कार्यवाही दो जे.सी.बी और एक पोकलेन मशीन जप्त || पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव आज इंदौर जिले के साँवेर में
अन्य ख़बरें
’’बाल विवाह न रचें अपराध से बचें’’
-
रायसेन | 17-अप्रैल-2018
 
   अक्षय तृतीय 18 अप्रैल को सम्पन्न होने वाले सामूहिक विवाह समारोह में बाल विवाह रोकने के लिए कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। उन्होंने बाल विवाह होने की सूचना प्राप्त होने पर स्थानीय अधिकारियों द्वारा त्वरित कार्यवाही करने तथा पुलिस तथा स्वयं सेवी संस्थाओं को सक्रिय रहने के लिये कहा है। उन्होंने बताया कि विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 के अंतर्गत बाल विवाह रोकने एवं जन जागरूकता हेतु महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा ’’लाडो अभियान’’ का क्रियांवयन किया जा रहा है। बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 के अनुसार 18 वर्ष से कम उम्र की बालिका तथा 21 वर्ष से कम उम्र के बालक का विवाह ’’बाल विवाह’’ की श्रेणी में आता है।
   ऐसे विवाह में शामिल होने वाले सभी पक्ष घराती, बराती, समस्त सेवा प्रदाता प्रिटिंग प्रेस, ब्यूटि पार्लर, टेन्ट वाले, घोडे़ वाले, बैंड वाले, हलवाई, धर्मगुरू आदि सभी आरोपी होते हैं तथा इस अपराध में दो साल की सजा एवं 1 लाख रूपये तक का जुर्माने का प्रावधान है। बाल विवाह एक सामाजिक बुराई है। बाल विवाह करने से बच्चों का बचपन छीनना, पढ़ाई बीच में छूटना, आर्थिक निर्भरता, घरेलू हिंसा, शारीरिक शोषण, जच्चा-बच्चा की मृत्यु, कुपोषण जैसे दुष्परिणाम सामने आते हैं। बाल विवाह रोकने हेतु ब्लॉक स्तर पर समितियों का गठन किया गया है। जो सूचना मिलने पर तत्काल बाल विवाह रूकवाने की कार्यवाही करेगी। बाल विवाह के दौरान बालक बालिका की उम्र संबंधी दस्तावेज के रूप में स्कूल के स्कॉलर पंजी में दर्ज जन्म तिथि, स्कूल की अंकसूची, जन्म प्रमाण पत्र, आँगनवाड़ी केन्द्रों के रिकार्ड में दर्ज जन्म तिथि तथा पंचायत एवं नगरपालिका का रिकार्ड ही मान्य किया जायेगा। उक्त दस्तावेजों के अभाव में किसी सक्षम अधिकारी के लिखित आवेदन पर मेडिकल कराकर चिकित्सा प्रमाण पत्र मान्य होगा।
    आगामी लग्न मुहुर्त तथा अक्षय तृतिया पर आयोजित होने वाले विवाहों, सामूहिक विवाह सम्मेलन आदि में आम जन, आयोजनकर्ता, सेवा प्रदाता, धर्मगुरू, से आग्रह किया गया है कि बाल विवाह जैसी सामाजिक कुरूति के उन्मूलन में सहयोग करें और बच्चों को पढ़ने लिखने हेत आगे बढ़ने में सहयोग करें। जिले में कहीं भी बाल विवाह की जानकारी मिलने पर चाइल्ड हेल्पलाइन नम्बर 1098, 100 डायल, कार्यालय जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी  07482-222784, निकटतम पुलिस थाना, महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी कर्मचारी, अनुविभागीय अधिकारी कार्यालय तथा तहसील कार्यालय में सम्पर्क कर सकते हैं।
(96 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer