समाचार
|| ग्रामवासी ग्राम-सभाओं में भागीदारी करें - मंत्री श्री गोपाल भार्गव || राज्यपाल द्वारा स्वतंत्रता दिवस पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ || शहीदों के माता-पिता को मिलेगी सम्मान निधि की 40 प्रतिशत राशि और 5 हजार रूपये पेंशन || नवीन शासकीय महाविद्यालयों में स्थानांतरित हो सकेंगे पंजीकृत विद्यार्थी || मॉडल हाई स्कूल में स्वाधीनता पर्व का आयोजन आज || बी.एड., एम.एड. में सीट आवंटन का तृतीय चरण 17 को || संभागीय बाल भवन में पुरस्कार वितरण समारोह 17 को वेबसाइट का लोकार्पण भी होगा || कलेक्टर ने नागरिकों से स्वतंत्रता दिवस समारोह में शामिल होने की अपील की || नागपंचमी त्यौहार में सर्पों के विरूद्ध अत्याचार रोकने वन विभाग का अमला चौकस || स्वतंत्रता दिवस पर सार्वजनिक भवनों में रोशनी के निर्देश
अन्य ख़बरें
आर्थिक प्रबंधन एवं नियोजन का उदाहरण बनी अमगवां की महिलाएं "सफलता की कहानी"
-
अनुपपुर | 29-मई-2018
 
   
   मन मे कुछ करने का जज्बा, आत्मविश्वास एवं सही मार्गदर्शन हो तो नए रास्तो का चयन कर सफलता को प्राप्त करना मुश्किल नहीं होता है। अनूपपुर जिले के पुष्पराजगढ़ विकासखंड के संकुल भेजरी की ग्राम पंचायत अमगवा की महिला शक्ति ग्राम संगठन की महिलाओ ने म.प्र.दीनदयाल अंत्योदय योजना राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की सहायता से स्टोन डस्ट से ईट निर्माण का कार्य प्रारम्भ कर नई राह चुनकर सफल होने का उदाहरण प्रस्तुत किया है। इस कार्य मे संगठन से जुड़ी 15 महिलाओं ने भागीदारी की। ईट बनाने के लिए कच्चा माल पास के स्टोन क्रशर से आसानी से प्राप्त हो जाता है। क्षेत्र मे चल रहे निर्माण कार्यों के कारण ईट की मांग भी निरंतर बनी हुई है। क्षेत्र मे उपलब्ध इस अवसर की पहचान एवं उसका उत्कृष्ट क्रियान्वयन कर ये महिलाए आज समूचे जिले के समक्ष आर्थिक प्रबंधन एवं नियोजन का उत्कृष्ट उदाहरण बन गई हैं। समूह की सदस्य लल्ली बाई बताती हैं कि म.प्र.दीनदयाल अंत्योदय योजना राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के पीएफटी द्वारा समूह की सदस्यों को ईट निर्माण कार्य हेतु प्रशिक्षित किया गया था।
   आप बताती हैं कि ईट निर्माण हेतु स्टोन डस्ट नजदीकी दोनिया स्टोन क्रशर से प्राप्त हो जाती है। आप बताई हैं कि अब तक समूह के सदस्यो के द्वारा 12 हजार ईटों का निर्माण किया जा चुका है। जिसके फलस्वरूप 20 हजार की शुद्ध आय हुई है। इन ईटों का प्रयोग क्षेत्र मे  लगभग 45 शौचालयों के निर्माण मे किया गया है। सतत प्रयास से आप सब मिलकर इस उद्यम को और आगे ले जाएगी ऐसा लल्ली बाई, नेमवती, संतवती, दोनिया बाई, खुजिया बाई, मुन्नी बाई, अमरतिया बाई, कमलवती, दुर्गा बाई, चन्द्रवती, रूगी बाई एवं बिसमोतीन बाई का कहना है।
(78 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जुलाईअगस्त 2018सितम्बर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer