समाचार
|| सीएम हेल्प लाईन पोर्टल में दर्ज शिकायतों की मॉनीटरिंग के लिये समिति गठित || जारी हुए 1409 करोड़ की बकाया माफी के प्रमाण-पत्र जारी || लामता में विधायक श्री भगत ने श्रमिक कार्ड का किया वितरण || 27 जुलाई को आखेटपुर में लोक कल्याण शिविर का आयोजन || प्रदेश के 17 जिलों में सामान्य से अधिक, 30 में सामान्य वर्षा दर्ज || एशियन स्कूल फुटबाल चैम्पियनशिप में शहडोल संभाग के अंकित त्रिपाठी का चयन || पर्यटन क्विज हेतु प्रतिभागी विद्यार्थियों का पंजीयन अब 24 जुलाई तक होगा || कॉपरेटिव बैंक अध्यक्ष का मनाया गया 66 वॉ जन्मदिन || कनाड़ी खुर्द में 25 जुलाई को लोक कल्याण शिविर का आयोजन || 07 अगस्त को शालाओं में मिल-बांचे कार्यक्रम का होगा आयोजन
अन्य ख़बरें
चरणपादुका, पानी की कुप्पी और साडी पाकर भितरी बाई हुई प्रसन्न ’’सफलता की कहानी’’
-
डिंडोरी | 02-जुलाई-2018
 
 
   प्रदेश शासन के मंत्री श्री ओमप्रकाश धुर्वे खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण ने सोमवार को ग्राम पंचायत किसलपुरी में आयोजित तेंदूपत्ता श्रमिकों को चरणपादुका, पानी की कुप्पी, साडी और तेंदूपत्ता बोनस राशि वितरण सम्मेलन में श्रीमति भितरी बाई ग्राम-बरगा, ग्राम पंचायत सक्का जिला डिण्डौरी को साडी, पानी की कुप्पी प्रदान कर तथा चरण पादुका पहनाकर उसका सम्मान किया। आयोजित कार्यक्रम में श्रीमति भितरी बाई को चरण पादुका, पानी की कुप्पी और साडी मिलने से वह बहुत प्रसन्न हुई। उसने बताया कि चरणपादुका मिलने से उसके पैर धूप में नही जलेगे और जंगल की पथरीली तथा कटीली रास्तों में कांटे भी नही चुभेगें। श्रीमति भितरी बाई को पानी की कुप्पी भी दी गई है और साडी देकर उसका सम्मान भी किया गया है। श्रीमति भितरी बाई ने बताया कि जब वह जंगल जाती थी, तो उसको पैंरों में कांटे चुभने का भय हमेशा बना रहता था। उसने बताया कि जंगल में उसके पैंरों में कांटे चुभ जाने से बहुत पीडा होती थी और उसे कई दिनों तक घर में रहकर आराम करना पडता था, जिससे उसके घर में रोजी-रोटी का संकट पैदा हो जाता था। श्रीमति भितरी बाई ने बताया कि पहले जब वह जंगल जाती थी तो उसे प्यास लगने पर इधर-उधर भटकना पडता था। उसने कई अवसरों पर जंगल में पानी की झिरिया में अपनी प्यास बुझाई थी। श्रीमति भितरी बाई ने बताया कि चरणपादुका मिलने से उसके पैर धूप में नहीं जलेंगे और जंगल की पथरीली तथा कटीली रास्तों में कांटे भी नही चुभेगें। श्रीमति भितरी बाई अब जंगल जाने पर पानी की कुप्पी में वह ठंडा पानी अपने साथ रख सकेगी। अब उसे जंगल में प्यास लगने पर इधर-उधर नहीं भटकना पडे़गा। उसने बताया कि चरण पादुका और पानी की कुप्पी मिलने से उसे जंगल जाने में किसी प्रकार की कठिनाई नही होगी। श्रीमति भितरी बाई चरण पादुका, पानी की कुप्पी और साडी पाकर बहुत प्रसन्न है।   
 
(21 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer