समाचार
|| एक आदतन अपराधी जिला बदर || स्व. श्री लक्ष्मण सिंह गौढ़ स्मृति पुरस्कार के लिये आवेदन आमंत्रित || विभागीय कार्रवाई से असंतुष्ट हैं, तो जनसुनवाई में आकर बतायें सीएम हेल्पलाइन के शिकायतकर्ता || मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना का लाभ 31 जुलाई तक || मंगलवार को कलेक्ट्रेट में जनसुनवाई का समय 11 से एक बजे तक- आवेदक समय पर पहुंचे || म.प्र. पर्यटन क्विज प्रतियोगिता 31 जुलाई को || कलेक्टर शामिल हुए ग्राम चौपाल में || औद्योगिक क्षेत्र के भूखण्ड आवंटन हेतु ऑनलाईन आवेदन 25 जुलाई तक आमंत्रित || क्रीड़ा परिसर इंदौर में प्रवेश हेतु चयन परीक्षा 23 जुलाई को || बीएलबीसी की बैठक 24 जुलाई को
अन्य ख़बरें
अब आंधी तूफान में नहीं उड़ेगा हमारे घर का छप्पर "प्रधानमंत्री आवास योजना" (कहानी सच्ची है)
प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हमारा अपना होगा पक्का मकान
ग्वालियर | 11-जुलाई-2018
 
 
   अब आँधी तूफान में नहीं उड़ेगा हमारे घर का छप्पर। हमारा भी होगा अपना पक्का मकान। आँधी तूफान और बरसात में अब हमारे बच्चे नहीं होंगे परेशान। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत खुद के मकान के लिये एक लाख रूपए की राशि प्रथम किश्त के रूप में प्राप्त होने पर अपने मकान को खुद बना रहे हैं राजू नाथ।
   ग्वालियर के नाथों का पुरा में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 28 हितग्राहियों को प्रथम किस्त के रूप में एक – एक लाख रूपए की राशि प्रदान की गई है। सभी परिवार अपने मकान को बनाने में जुट गए हैं। इन्हीं परिवारो में राजू नाथ का एक परिवार भी है जो अपने परिवार के सदस्यों के साथ अपने मकान को बनाने में सहयोग कर रहा है। राजू नाथ का कहना है कि कच्चे मकान में अनेक समस्यायें रहती थीं जो अब दूर हो जायेंगीं।
   राजू नाथ एवं उसकी पत्नी ने बताया कि कच्चे छप्पर वाले मकान में रहते थे तो कभी भी आंधी तूफान में छप्पर उड़ जाता था। बरसात में घर का सामान और सभी सदस्य भी गीले हो जाते थे। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान बनाने की स्वीकृति के साथ ही एक लाख रूपए की प्रथम किस्त प्राप्त हुई है। अपने मकान को अन्य मजदूरों के साथ स्वयं भी मजदूरी कर बना रहे हैं। राजू का कहना है कि अब किसी भी परिस्थिति में मुझे और मेरे परिवार को कोई दिक्कत नहीं होगी। अब हमारा भी होगा स्वयं का आशियाना।
    श्री राजू नाथ ने बताया कि नगर निगम के जनमित्र केन्द्र पर जब प्रधानमंत्री आवास योजना का शिविर लगा तो गाँव के अन्य लोगों के साथ मैंने भी आवेदन पत्र भरा। आवेदन पत्र स्वीकृति के पश्चात 2 लाख 50 हजार रूपए की स्वीकृति का पत्र और एक लाख रूपए की प्रथम किस्त प्राप्त हुई है। इस राशि से अपने मकान का कार्य प्रारंभ किया है। उसने बताया कि घर में कमरा, किचन और शौचालय का निर्माण भी किया जा रहा है। अब हमारे घर के लोग भी शौचालय का उपयोग करेंगे और खुले में शौच नहीं जायेंगे। श्री राजू का कहना है कि नाथों के पुरा में ज्यादातर मकान कच्चे थे परंतु प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 28 परिवारों का चयन हुआ है, जिन्हें प्रथम किस्त के रूप में एक – एक लाख रूपए की राशि भी प्राप्त हुई है। सभी परिवार अपना-अपना मकान बना रहे हैं। अब हमारा पुरा भी झुग्गी झोंपड़ी वाला नहीं, पक्के मकानों वाला पुरा कहलायेगा।
(4 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer