समाचार
|| होशंगाबाद विधायक की विधायक निधि से एक निर्माण कार्य की प्रशासकीय स्वीकृति जारी || भारतीय प्रेस परिषद की जांच समिति की बैठक 24 जुलाई को || आर्थिक सहायता स्‍वीकृत || किसानों की आय दुगुनी कर म.प्र. को समृद्ध प्रदेश बनाएंगे - मुख्यमंत्री श्री चौहान || होशंगाबाद सामान्य वर्षा वाले जिले में शामिल || किसान भाई आज से उपज मण्‍डी में ना लाये || मुख्‍यमंत्री तीर्थदर्शन योजना तहत रामेश्‍वरम की यात्रा के लिए आवेदन आमंत्रित || वनाधिकार पट्टा पाकर प्रसन्न हैं बुधनलाल "सफलता की कहानी" || राज्य मंत्री श्री पटैल द्वारा भवन एवं सड़कों के 26 निर्माण कार्यों का भूमिपूजन व लोकार्पण || जिला योजना वर्ष 2018-19 तैयार करने हेतु उन्मुखीकरण सह कार्यशाला सम्पन्न
अन्य ख़बरें
बिल माफी प्रमाण पत्र से प्रभू बैगा को खुशियों का संसार मिला (सफलता की कहानी)
-
उमरिया | 12-जुलाई-2018
 
   
    उमरिया जिले के पाली जनपद पंचायत अंतर्गत ग्राम बेली निवासी प्रभू बैगा से बिजली विभाग के लाइनमेन जो सीधे मुंह बात नही करता था वह 2 जुलाई 2018 को घर पहुंचकर इस बात की सूचना दी कि तुम्हारा बिजली बिल सरकार ने माफ कर दिया है। भरोसा नही हुआ संशय बना था कि बिना अपराध किए भी बिजली बिल न भरने के कारण  जेल की रोटी खानी पड़ेगी। कई ग्रामीणों ने भी बिजली बिल माफी की बात कही तब थोड़ा भरोसा जगा, जरूर कोई बात है।
    उमरिया स्टेडियम ग्राउण्ड में विधायक बांधवगढ़ श्री शिवनारायण सिंह के हाथ से जब उसे 57242 रूपये का बिजली बिल माफी प्रमाण पत्र मिला तो वह सीने मे लगाकर यह मान बैठा कि अब कर्जा मुक्ति हुई है, दुबारा नही भरना पड़ेगा। वनोपज, लकड़ी बेचकर, चरवाहे का काम तथा मजदूरी कर जीविकोपार्जन करने वाले प्रभू बैगा ने बताया कि 17-18 साल पहले घर मे बिजली का कनेक्शन यह मानकर लगवाया था कि उजाले के लिए मिट्टी तेल की झंझट के बजाय 20-30 रूपये महीने बिजली का बिल भर दिया करूंगा, लेकिन आर्थिक तंगहाली के कारण बिजली देयक की राशि धीरे धीरे बढती गई और जमा करने से असमर्थ रहा। कई बार विभाग की धमकिया भी  मिली कि जेल भिजवा देंगे, डर बस तभी घर से बिजली कटवाने का आवेदन मेरे द्वारा दिया गया, परंतु न तो विभाग द्वारा कनेक्शन काटा गया, न ही बराबर बिजली मिली, और अंततः बिजली का देयक बढ़ते बढते  57 हजार को पार कर गया ।
    प्रभू बैगा ने बताया कि जीवन में एक साथ कभी 10 हजार रूपये हाथ में नही मिला, लेकिन 57 हजार रूपये का बिल मेरे एवं परिवार के लिए पहाड़ जैसा था। प्रभू बैगा ने बताया कि बिजली बिल के कारण मन मे सदैव चिंता बनी रही और चैन की नींद नही सो सका। धन्य है मध्यप्रदेश की सरकार और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जिन्होंने बिजली बिल माफ कर जीवन का सुकून वापस लौटा दिया, तब मुझे खुशियों का संसार मिला। प्रभू ने बताया कि इतना ही नही सरकार ने दिसंबर 2017 से पत्नी को एक हजार रूपये बिना काम काज के भुगतान कर रही है, इससे अब खाने पीने एवं बाजार से छोटी मोटी सामग्री लेने में भी सहूलियते बढी है।
    प्रभू बैगा ने बताया कि पुस्त दर पुस्त जंगलो पर आश्रित परिवार शहर की चमक दमक से कोसो दूर था। तिनहर एवं छप्पर छानी के मकान में गुजर बसर करने वाले प्रभू को अब प्रधानमंत्री आवास भी मिला है। अब वर्षा, जाड़ा या गर्मी की समस्याओं से भी निजात मिली है। सरकार ने एक रूपये किलो गेहूं, चावल एवं नमक देकर खाने पीने की चिंता को समाप्त किया है।  उसने कहा कि मुख्यमंत्री जी का आज भाषण सुनकर यह भी पता चला कि सरकार द्वारा गर्भ में बच्चा आने से लेकर अंतिम संस्कार तक की समस्त व्यवस्थाएं सरकार करेगी, इससे भारी प्रसन्नता एवं निश्चिंतता आ गई है कि अब विपत्ति के समय भी किसी के सामने हाथ नही फैलाना पड़े।
प्रस्तुति
सी एल पटेल
(11 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2018अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer