समाचार
|| भारी बारिश की चेतावनी || जिले में चलाया जा रहा है मतदाता जागरूकता अभियान || विधानसभा चुनाव के संबंध में मास्टर ट्रेनर्स को दिया गया प्रशिक्षण || लोक निर्माण मंत्री ने 6 करोड़ 22 लाख रूपए की लागत के सड़क मार्ग का किया भूमिपूजन || प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत गुलाब बाई को मिला गैस कनेक्शन (सफलता की कहानी) || ग्राम स्वराज अभियान में राजगढ को राष्ट्रीय पुरूस्कार || सुदृढ़ सूचना तंत्र से निर्वाचन व्यवस्था सुगम बनायें || छात्रावासों के विद्यार्थियों के लिए खाद्यान्न आवंटित || प्रदेश में मद्य निषेध सप्ताह 2 से 8 अक्टूबर तक || अनजान व्यक्ति की फ्रेंड रिक्वेस्ट कभी भी स्वीकार नहीं करें
अन्य ख़बरें
कलीम ने दी दुआ, अल्लाह मुख्यमंत्री को तौफीक दे (सफलता की कहानी)
-
जबलपुर | 12-जुलाई-2018
 
 
   मुख्यमंत्री का शुक्रिया, अल्लाह शिवराज सिंह चौहान को तौफीक दे और बरकत अता करे। ताकि वे प्रदेश के हम जैसे हजारों गरीब मजलूमों के लिए इमदाद की रहमत बरसाते रहें। यह कहना है जबलपुर जिले के पठानी मोहल्ला कटंगी निवासी 40 वर्षीय मेहनतकश श्रमिक कलीम खाँ का। जहां कलीम का प्रधानमंत्री आवास योजना से पक्का घर बन रहा है तो वहीं उनकी धर्मपत्नी 35 वर्षीय नजमा बी को उज्जवला योजना से नि:शुल्क रसोई गैस सिलेण्डर और चूल्हा मिला है।
   कटंगी के खाँ दम्पति इस समय दोहरी खुशी पाकर फूले नहीं समा रहे। पांच सदस्यीय परिवार का भरण-पोषण पति-पत्नी मेहनत मजदूरी से हुई कमाई से करते हैं। खाँ दम्पति के तीन बच्चों में 10 वर्षीय जुनैद खान और 12 वर्षीय फैजान खान स्कूल जाते हैं। जबकि तीसरा लड़का घर-गृहस्थी के काम-काज में हाथ बंटाता है। कलीम खाँ को प्रधानमंत्री आवास योजना से स्वीकृत पक्का घर बनाने के लिए दो किश्तें मिल चुकी हैं। घर की सभी दीवारें भी बनकर तैयार हो गई हैं। इसके निर्माण में वे खुद भी मजदूरी करते हैं, जल्दी ही पक्का घर तैयार होने की खुशी में कलीम का चेहरा दमक रहा है। वे कहते हैं बाप-दादा के जमाने का उनका एक कमरे का कच्चा खपरैल वाला घर और एक छोटी परछी है। अभी उसी में पूरा परिवार रहता है। जल्दी ही सभी शौचालय युक्त पक्के घर में रहने लगेंगे। उन्होंने इस योजना के लिए प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को दिली मुबारकबाद दी।
   उज्जवला योजना और खाना बनाने का जिक्र करने पर हंसते हुए खाँ दम्पति ने कहा कि यह भी अच्छा हुआ, खाना जल्दी बन जाता है, बर्तन भी नहीं जलते हैं और सबसे बड़ी बात यह कि खाना बनाते समय आंखों में धुआं नहीं लगता, धुंए की वजह से आने वाली खांसी से भी निजात मिल गई है। लकड़ी-कंडा जुटाने की चकल्लस भी खत्म हो गई है। अच्छा काम हो रहा है। सरकार की जितनी भी तारीफ की जाए कम है।
मनोज कुमार श्रीवास्तव
सहायक सूचना अधिकारी
(72 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अगस्तसितम्बर 2018अक्तूबर
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer