समाचार
|| मतदाता सूची प्रकाशन के संबंध में राजनैतिक दलों की बैठक आयोजित || शहरी युवाओं को वर्ष में 100 दिन की रोजगार गारंटी का शुभारंभ || प्रदेश में 50 लाख किसानों की फसल ऋण माफी योजना का क्रियान्वयन शुरू || पिछड़ा वर्ग पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति आवेदन की अंतिम तिथि 31 मार्च || वृत्तिकर जमा करने की अंतिम तिथि 31 मार्च || नेशनल लोक अदालत का आयोजन 9 मार्च 2019 को || मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन यात्रा हेतु आवेदन आमंत्रित यात्रा 28 फरवरी को वाराणसी प्रयागराज जायेगी || डीडीओ का प्रशिक्षण 26 को || शेष मतदाता निर्वाचक नामावली में नाम जुडवाएं : कलेक्टर || केन्द्रीय राज्यमंत्री डॉ. वीरेन्द्र कुमार का भ्रमण
अन्य ख़बरें
जब दिव्यांग मतदान दल के जज्बे से कायल हुए मतदाता (विधानसभा निर्वाचन-2018)
-
ग्वालियर | 06-दिसम्बर-2018
 
   
    शासकीय गजराराजा स्कूल में बने मतदान केन्द्र क्र.-75 पर जब मतदाताओं की कतार बढ़ी तो वहाँ के पीठासीन अधिकारी श्री राजबहादुर सिंह की चिंता बढ़ गई। इस मतदान केन्द्र पर उनके नेतृत्व में दिव्यांग दल द्वारा मतदान कराया जा रहा था। राजबहादुर को चिंतित देखकर उनके सहयोगी मतदान अधिकारी क्र.-1 श्री मुन्नीलाल चौरसिया, मतदान अधिकारी क्र.-2 श्री पारस जैन और मतदान अधिकारी क्र.-3 का दायित्व संभाल रहे श्री ओमप्रकाश शर्मा ने एक सुर में उन्हें भरोसा दिलाया कि आप चिंता न करें, हम सब दिव्यांग जरूर हैं पर काम करने का जज्बा किसी से कम नहीं।
    फिर क्या पीठासीन अधिकारी श्री राजबहादुर सिंह का हौसला बढ़ गया और उनकी पूरी टीम ने सफलतापूर्वक मतदान सम्पन्न कराया। वोट डालने आए किसी भी मतदाता को इस दिव्यांग मतदान दल ने यह एहसास नहीं होने दिया कि मतदान दल की दिव्यांगता की वजह से उसे वोट डालने में अनावश्यक देरी हुई हो। दिव्यांग दल के इस जज्बे से मतदाता कायल हुए बिना नहीं रह पाए।
    ग्वालियर जिले के विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र-17 ग्वालियर दक्षिण के इस सक्षम मतदान केन्द्र पर गत 28 नवम्बर को हुए मतदान में 69 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया जबकि पूरे विधानसभा क्षेत्र का औसत मतदान मात्र 59.82 रहा। इतना ही नहीं इस मतदान केन्द्र ने मतदान प्रतिशत के लिहाज से विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र ग्वालियर दक्षिण के प्रथम 20 मतदान केन्द्रों में अपना नाम शामिल कराया। इस मतदान केन्द्र पर कुल 311 पुरूष मतदाताओं में से 229 और 280 महिला मतदाताओं में से 178 महिलाओं ने वोट डाले। इस प्रकार कुल 551 मतदाताओं में से 407 मतदाताओं ने मताधिकार का उपयोग किया।
    राजबहादुर बताते हैं कि चुनाव के लिए सरकारी दफ्तरों से जब शासकीय सेवकों की सूचियां मंगाई जा रही थीं। तो स्वाभाविक तौर पर कुछ शासकीय सेवक वाजिब कारणों से तो कुछ बहाना बनाकर अपनी ड्यूटी कटवाने की जुगत में लग गए। मगर मैंने यह फैसला किया कि मैं मतदान अधिकारी की ड्यूटी कर अपने राष्ट्रीय दायित्व का निर्वहन करूँगा। कई दिव्यांग साथी मेरे विचार से सहमत थे। फिर भारत निर्वाचन आयोग ने भी इस बार सक्षम बूथ (दिव्यांग मतदान दल द्वारा संचालित केन्द्र) बनाने का फैसला किया था। हम सबने इसे चुनौती के रूप में स्वीकार किया।
    दिव्यांग मतदान अधिकारी श्री पारस जैन व मुन्नीलाल चौरसिया बताते हैं कि जब मतदान दलों की ट्रेनिंग चल रही थी तो कई शासकीय सेवकों ने खड़े होकर ड्यूटी कैंसिल करने की गुहार लगाई तो हम दिव्यांगों ने खड़े होकर कहा कि आप मेरी ड्यूटी जरूर लगाएं।
    ग्वालियर जिले के सभी 6 विधानसभा क्षेत्रों में कुल 18 सक्षम बूथ बनाए गए थे। इन बूथों पर कुल 15 हजार 159 मतदाता थे। जिनमें 93 दिव्यांग और 80 वर्ष से अधिक आयु के 258 मतदाता शामिल थे। दिव्यांग और बुजुर्ग मतदाता जब वोट डालने आए तो उन्हें दिव्यांग मतदान अधिकारी सहायता करते दिखे तो उनका उत्साह और बढ़ गया। सभी ने भारतीय लोकतंत्र की मजबूती के लिए खुशी-खुशी अपने-अपने मताधिकार का उपयोग किया।
(78 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2019मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer