समाचार
|| मध्यप्रदेश पर्यटन क्विज की प्रतियोगिता हेतु पंजीयन की अवधि बढ़ी || झण्डा दिवस हर नागरिक को है अपने घर पर झण्डा फहराने का अधिकार || एनीमिक बच्चो को ब्लड ट्रांसफ्यूजन (रक्त आधान) की सुविधा उपलब्ध कराएं - कलेक्टर || एक अगस्त से "आपकी सरकार आपके द्वार" योजना शुरू होगी || जिला स्वास्थ्य कार्यकारी समिति की बैठक 25 जुलाई को || स्वतंत्रता दिवस समारोह की तैयारियों संबंधी बैठक आज || नगरीय निकायों की प्रारूप मतदाता सूची का प्रकाशन 21 अगस्त को || नवोदय विद्यालय बड़वारा में आयोजित हुई संकुल स्तरीय खो खो प्रतियोगिता || सीएम हेल्पलाइन प्रकरणो का निराकरण नियमित रूप से करें || यूरिया जैसे घातक पदार्थ से दूध बनाने और बेचने वालों पर रासुका में करें कार्यवाही
अन्य ख़बरें
रुबेला-मीजल्स टीकाकरण अभियान 15 जनवरी से अनेक घातक बीमारियों से बच्चों की रक्षा करेगा यह टीका
-
दमोह | 21-दिसम्बर-2018
 
 
   प्रदेश के 9 माह से 15 वर्ष तक के बच्चों को मीजल्स और घातक बीमारियों से बचाने के लिये प्रदेश में 15 जनवरी से रुबेला-मीजल्स टीकाकरण (एमआर वैक्सीन) अभियान चलाया जायेगा। बच्चों का भविष्य स्वस्थ और सुरक्षित करने के लिये माता-पिता से आग्रह किया गया है कि वे नजदीक के स्वास्थ्य केन्द्र में सम्पर्क करें। अभियान में 9 से 15 वर्ष आयु के बालक-बालिकाओं को दाएँ बाजू में पीड़ारहित टीका लगाकर जानलेवा बीमारियों से बचाया जायेगा।
   रुबेला वायरस के संक्रमण से महिलाएँ बार-बार गर्भपात का शिकार होती हैं। यदि ये महिलाएँ गर्भवती हो भी जाती हैं, तो वे या तो मृत शिशु को जन्म देती हैं या गर्भस्थ शिशु अविकसित, कुछ न कुछ शारीरिक दोष जैसे दिल में छेद, शरीर का कोई भाग न होना या मानसिक अथवा शारीरिक रूप से बाधक होना होता है। शिशु के साथ माता-पिता का भी जीवन कष्टदायक हो जाता है। जिस बच्चे को बड़े होकर माता-पिता का सहारा बनना होता है, वही जीवनभर के लिये माता-पिता पर आश्रित हो जाता है।
   मीजल्स या खसरा भी घातक बीमारी है। मीजल्स स्वयं इतना खतरनाक नहीं है, जितने इसके दुष्परिणाम जैसे अंधापन, मस्तिष्क में सूजन, निमोनिया और डायरिया। पीड़ित बच्चा कुपोषण का शिकार हो जाता है। कई बार बच्चे की मृत्यु तक हो जाती है। पूरे विश्व में मीजल्स से होने वाली 30 प्रतिशत बाल मृत्यु भारत में होती है।
   राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. संतोष शुक्ला ने बताया कि इन दोनों घातक बीमारियों को एम.आर. वैक्सीन (मीजल्स-रुबेला टीका) से रोका जा सकता है। अभियान के लिये प्रदेश में जिलेवार प्रशिक्षण दिया जा रहा है। ब्लाॅक मेडिकल आफीसर को शत-प्रतिशत टीकाकरण के लिये संकल्प दिलाया जा रहा है।
 
(213 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2019अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
24252627282930
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer