समाचार
|| डीम्‍ड कर निर्धारण योजना हेतु विभिन्‍न तिथियों में केंप का आयोजन || अल्पकालीन फसल ऋण की देय तिथि में वृद्धि || जिला स्‍तरीय आपत्ति निराकरण समिति की बैठक 02 को || जिला स्तरीय जनसुनवाई में 167 आवेदकों द्वारा दिए गए आवेदन || साईकिल पाकर खिले छात्र-छात्राओं के चेहरे (खुशियों की दास्तां) || जनसुनवाई से चन्द्रपाल हुए संतुष्ट (सफलता की कहानी) || प्रवेशोत्सव में निःशुल्क पुस्तकें पाकर खिल उठे बच्चों के चेहरे (खुशियों की दास्तां) || राजस्व निरीक्षकों से सीमांकन के आवेदनों का निराकरण करावें, ना सुनें तो कार्रवाई प्रस्तावित करें- कलेक्टर || मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना अंतर्गत पमी का विवाह हुआ सम्पन्न "खुशियों की दांस्तान" || हृदय रोग से पीडित अंजली अब पूर्णतः स्वस्थ "सफलता की कहानी"
अन्य ख़बरें
15 जनवरी से प्रारम्भ होगा खसरा रूबेला टीकाकरण अभियान
जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक में कलेक्टर ने कार्ययोजना की समीक्षा की
अनुपपुर | 11-जनवरी-2019
 
 
   कलेक्टर श्री चंद्रमोहन ठाकुर ने खसरा तथा रूबेला के प्रति सुरक्षा प्रदान करने के लिए 15 जनवरी से प्रारम्भ किए जाने वाले टीकाकरण अभियान की कार्ययोजना की समीक्षा की आवश्यक तैयारियों एवं व्यवस्थाओं हेतु निर्देश दिए। जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक में आपने यह सुनिश्चित करने के लिए कहा खसरा रूबेला (एमआर) का टीका स्कूलों तथा आउटरीच सत्रो में एक राष्ट्रव्यापी अभियान के अंतर्गत प्रारम्भ हो जाए। इस हेतु आपने स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा विभाग एवं महिला एवं बाल विकास के मैदानी अमले को आपसी समन्वय के साथ शत प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य की प्राप्ति हेतु समेकित रूप से प्रयास करने के लिए कहा है। आपने अभियान के समस्त सदस्यों को विधिवत रूप से प्रशिक्षण दिए जाने हेतु स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए हैं।
9 माह से 15 वर्ष के समस्त आयु वर्ग के बच्चों को यह टीका लगाया जाएगा
    मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि इस अभियान के अंतर्गत 9 माह से 15 वर्ष तक के आयु वर्ग के समस्त बच्चों को यह टीका लगाया जाएगा, भले ही पहले उन्हें एमआर/एमएमआर का टीका दिया जा चुका हो।
   डॉ श्रीवास्तव ने बताया कि खसरा एक जानलेवा रोग है जो कि वाइरस द्वारा फैलता है। बच्चों में खसरे के कारण विकलांगता एवं असमय मृत्यु का भी खतरा रहता है। आपने रूबेला रोग के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि यह रोग वाइरस द्वारा फैलता है इसके लक्षण खसरा रोग जैसे ही होते हैं। लड़के एवं लड़कियों दोनो को इस रोग से बराबर खतरा है। यदि कोई महिला गर्भावस्था के शुरुआती चरण में इससे संक्रमित हो जाए तो कंजेनिटल रूबेला सिंड्रोम (सीआरएस) हो सकता है जो कि उसके भ्रूण तथा नवजात शिशु के लिए घातक हो सकता है।
   डॉ श्रीवास्तव ने बताया कि मीजल्स रूबेला अभियान 15 जनवरी से प्रारम्भ होगा, सभी स्कूलों सामुदायिक सत्रों आंगनवाड़ी केंद्रो और शासकीय स्वास्थ्य केंद्रो में टीकाकरण किया जाएगा। बच्चों को यह टीका प्रशिक्षित स्वास्थ्य कर्मी द्वारा लगाया जाएगा।
4 सप्ताह सघन टीकाकरण एवं 5 वे सप्ताह छूटे हुए समस्त बच्चों को लगाया जाएगा टीका
    विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि डॉ मो शरीफ ने बताया कि समस्त अभियान की नियमित रूप से निगरानी की जाएगी। आपने बताया टीकाकरण दल में एक प्रशिक्षित सदस्य जो टीकाकरण का कार्य करेगा एवं प्रशिक्षित सहायक रहेंगे। एक दल एक दिन में लगभग 150 बच्चों का टीकाकरण कार्य करेगा।
   बैठक में मुख्यकार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत डॉ सलोनी सिडाना, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग श्रीमती मंजूलता सिंह, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ एसबी चौधरी , डीपीसी श्री हेमंत खैरवार समेत स्वास्थ्य विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग एवं शिक्षा विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।
 
(165 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2019जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer