समाचार
|| जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा ने किया मैराथन सहभागियों का उत्साहवर्धन || 25 जनवरी तक होगा मूंग, उड़द, मूँगफली, तिल एवं रामतिल का उपार्जन || कृषकों को सिंचाई सुविधा हेतु विद्युत लाईन विस्तार के लिए आवेदन 31 जनवरी तक || पत्रकारों का सम्मान बरकरार रखा जाएगा -जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा || समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी हेतु जिला उपार्जन समिति का गठन || शैक्षणिक संस्था की 100 मीटर सीमा में गुटखा, तम्बाकू बेचने पर दो व्यक्तियों पर अर्थदण्ड || महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी शिवपुरी में आज || विद्युत विभाग की समीक्षा में मंत्री श्री पटेल ने दिए कड़े निर्देश || परिवहन एवं राजस्व मंत्री श्री गोविंद राजपूत ने किया कै. सिंधिया को नमन || प्रतिभा का खजाना है संगीत की नगरी इन्हें तराशना है जरूरी - तोमर
अन्य ख़बरें
विश्व पर्यटन रैकिंग में भारत तीसरे स्थान पर
भारत भवन में तीन दिनी भोपाल लिटरेचर एण्ड क्राफ्ट फेस्टिवल शुरू
नरसिंहपुर | 12-जनवरी-2019
 
 
    भरपूर प्राकृतिक सुन्दरता, सांस्कृतिक विविधता और किये गये प्रयासों से आज भारत विश्व पर्यटन में चीन और अमेरिका के बाद तीसरे पायदान पर पहुँच गया है। भोपाल बहुत सुन्दर शहर है। झील की सुन्दरता को नुकसान पहुँचाये बिना इसे पर्यटन के उच्च मापदंडों के अनुसार विकसित किया जायेगा। यह बात केन्द्रीय पर्यटन मंत्री श्री अल्फांस कन्ननथानम् आज भारत भवन में संस्कृति मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ के साथ भोपाल लिटरेचर एण्ड क्राफ्ट फेस्टिवल का शुभारंभ करते हुए कही। तीन दिवसीय फेस्टिवल में देश-विदेश के 70 प्रतिष्ठित साहित्यकार और कलाकार भाग ले रहे हैं।
    केन्द्रीय मंत्री श्री कन्ननथानम् और डॉ. साधौ ने इस अवसर पर सुप्रतिष्ठित लेखिका श्रीमती नमिता गोखले को सुशीला देवी अवार्ड से सम्मानित भी किया। उन्होंने श्री बिट्टू सहगल की पुस्तक बांधवगढ़ इनहेरिटेन्स एण्ड वाईल्ड मध्यप्रदेश का विमोचन भी किया।
    मंत्रीद्वय ने अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त लोक चित्रकार श्री भज्जू श्याम की पेन्टिंगस् की प्रदर्शनी का शुभारंभ भी किया। मंत्रीद्वय ने श्री श्याम की एक-एक पेन्टिंग को देखा और भरपूर सराहना की। संस्कृति मंत्री डॉ. साधौ ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्रीमती इंदिरा गाँधी ने भारत भवन का निर्माण भोपाल को सांस्कृतिक राजधानी बनाने के लिये करवाया था। गुजरात, पंजाब, बंगाल आदि अन्य राज्यों में एक ही संस्कृति होती है, परन्तु मध्यप्रदेश विभिन्न संस्कृतियों का गुलदस्ता है। राज्य की बुन्देलखंड, बघेलखंड, निमाड़ी, मालवी आदि संस्कृतियों का संरक्षण करते हुए विकास किया जायेगा।
    संस्था के अध्यक्ष श्री राघवचन्द्रा ने बताया कि यह आयोजन महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती के अवसर पर किया जा रहा है। इस अवसर पर अन्तर्राष्ट्रीय कला संग्राहक श्री जॉन बोल्स, नीति आयोग के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अमिताभ कांत रेरा अध्यक्ष श्री अंटोनी डिसा, संस्कृति सचिव श्रीमती रेनु तिवारी, श्री संतोष चौबे, श्री अभिलाष खांडेकर और देश-प्रदेश के गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। संस्था की सचिव श्रीमती मीरा दास ने आभार प्रकट किया।

 
(8 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2019फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
31123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer