समाचार
|| प्रधानमंत्री आवास योजना के चयनित हितग्राही के पंजीयन का कार्य शीघ्र पूरा करें || पात्र मतदाताओं के नामांकन के लिये 2 और 3 मार्च को लगेंगे विशेष कैम्प || सर्व शिक्षा अभियान की बैठक संपन्न || सात दिवसीय खजुराहो नृत्य महोत्सव का हुआ शुभारंभ || 22 एवं 23 फरवरी को विशेष कैम्प का आयोजन होगा || शेष रहे पात्र मतदाताओं के नाम जुड़वाने के लिए विशेष कैम्प 2 व 3 मार्च को || जर्मन स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी के साइंटिस्ट ने खेल प्रशिक्षकों को दी एडवांस ट्रेनिंग || सौर ऊर्जा से रौशन होंगे मेडिकल कॉलेज || एसीएस श्री रेड्डी को मंत्रालय में नवीन कक्ष आवंटित || शहरों में सिटी बसों का सुचारू संचालन सुनिश्चित करें
अन्य ख़बरें
नए विचार ही आगे चलकर अविष्कार को जन्म देते हैं -स्कूल शिक्षा मंत्री
-
रायसेन | 31-जनवरी-2019
 
   प्रदर्शनी में बच्चों को नए विचार प्रस्तुत करने का अवसर मिलता है और यही नए विचार आगे चलकर अविष्कार को जन्म देते हैं। यह बात स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने सांची में आयोजित तीन दिवसीय राज्य स्तरीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी के समापन अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में कही।
    उन्होंने कहा कि बच्चे देश का भविष्य हैं और भविष्य उज्जवल हो इसके लिए जरूरी है कि उन्हें प्रतिभा को प्रदर्शित करने का समुचित अवसर मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस प्रदर्शनी में बच्चों ने आकर्षक और वर्तमान तथा भविष्य को दृष्टिकोण में रखते हुए मॉडल प्रदर्शित किए हैं। सांची में इस प्रदर्शनी के आयोजन से रायसेन तथा विदिशा क्षेत्र के बच्चों को भी यह प्रदर्शनी देखने का अवसर मिला और निश्चित ही वह इससे प्रोत्साहित होंगे। उन्होंने कहा कि वर्तमान परिदृश्य को ध्यान में रखकर हमें कृषि क्षेत्र में वैज्ञानिक तरीके से न्यूनतम लागत में अधिकतम उत्पादन के लिए नई-नई खोज करनी चाहिए।
    स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि अभिभावकों तथा शिक्षकों को बच्चे की रूचि को पहचानकर उसी क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बच्चों को निरंतर नए विचारों के साथ आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करना चाहिए। हमारे प्रदेश के बच्चों में बहुत प्रतिभा हैं और उनमें आगे बढ़ने की जो ललक है हमें उसको प्रोत्साहित करना है। इस प्रदर्शनी में बच्चों ने अपनी मन की सोच को उभार कर मॉडल के रूप में सबके सामने प्रदर्शित किया है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने विभिन्न श्रेणियों में पुरस्कार के लिए चयनित मॉडलों, संगोष्ठियों, वाद-विवाद प्रतियोगिता के विजेता छात्र-छात्राओं को पुरस्कार भी वितरित किए।  
वैज्ञानिक सोच को विकसित करना होगा- कलेक्टर
    कलेक्टर श्रीमती एस प्रिया मिश्रा ने कहा कि छात्र अपने स्तर पर भी मॉडलों का परीक्षण करें और नए आईडिया दें। उन्होंने कहा कि विज्ञान को आगे बढ़ाने के लिए जरूरी है वैज्ञानिक सोच विकसित की जाए। उन्होंने कहा कि बच्चे जो भी उनके मन में प्रश्न उठते हैं उस पर वे सवाल करें और अपने शिक्षकों तथा अभिभावकों से इसका हल भी जानें। उन्होंने शिक्षकों से कहा कि छात्रों की प्रत्येक जिज्ञासा का समाधान किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के जिन छात्रों ने इस प्रदर्शनी को देखा होगा, वे निश्चित ही इससे प्रेरणा लेंगे।  
प्रदर्शित किए गए 196 मॉडल
    सांची में आयोजित इस तीन दिवसीय राज्य स्तरीय प्रदर्शनी में प्रदेश के 9 जोन से आए 425 छात्र-छात्राओं तथा शिक्षकों द्वारा 196 मॉडल प्रस्तुत किए गए। इस प्रदर्शनी में छात्र-छात्राओं ने कृषि एवं जैविक खेती, स्वास्थ्य एवं स्वच्छता, संसाधन प्रबंधन, अपशिष्ट प्रबंधन, परिवहन और संचार तथा गणितीय प्रतिरूपण विषय पर आधारित मॉडल प्रदर्शित किए। इस प्रदर्शनी को प्रदेश के 39 स्कूलों के 3700 बच्चों ने देखा। प्रदर्शनी के दौरान तीन दिनों तक विज्ञान संगोष्ठी आयोजित की गई जिसमें श्री अनिल दीक्षित, श्री मोनिका जैन तथा श्री सुधांशु ने अपने विचार प्रस्तुत किए।  
यह थे उपस्थित
    राज्य स्तरीय प्रदर्शनी के समापन कार्यक्रम में राज्य शिक्षा केन्द्र की संचालक आयरिन सिंथिया, राज्य शिक्षा संस्थान के संचालक श्री दिनेश अवस्थी, जिला शिक्षा अधिकारी श्री आरपी सेन, डीपीसी श्री विजय नेमा, श्री बृजेश चतुर्वेदी, श्री मनोज अग्रवाल भी उपस्थित थे।
(20 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2019मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer