समाचार
|| भोपाल में 26 से 28 फरवरी तक जश्न-ए-उर्दू || इलाज से मना करने वाले हॉस्पिटल की मान्यता रद्द होगी : स्वास्थ्य मंत्री श्री सिलावट || सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यमी ऋण सहायता एवं आउटरीच अभियान || मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ को प्रदेश पुलिस द्वारा पुलवामा के शहीदों के परिवारों के लिये 7.50 करोड़ का चेक भेंट || प्रदेश हित और नागरिकों की सुविधाओं के लिए नई संचार नीति लागू || रेरा प्राधिकरण को अपंजीकृत, प्रोजेक्ट/कालोनी निर्माण की जानकारी दे:- श्री अन्टोनी डिसा || अधिकारियों/ कर्मचारियों स्वल्पाहार वितरण हेतु निविदा 27 फरवरी तक आमंत्रित || ओला-पाला प्रभावित किसानों को राहत राशि के लिये 30 करोड़ रुपये स्वीकृत || स्वीप कैम्पस एम्बेसडर की कार्यशाला 23 फरवरी को || विपक्ष परेशान न हो, 15 दिन बाद इस प्रदेश का 25 लाख किसान खड़ा होकर बोलेगा मेरा कर्जा माफ हो गया
अन्य ख़बरें
4 लाख 6 हजार से अधिक बच्चों को टीकाकृत कर उनका भविष्य किया सुरक्षित (मीजल्स-रूबेला अभियान)
-
छतरपुर | 12-फरवरी-2019
 
   
    मीजल्स-रूबेला अभियान में छतरपुर जिले में 11 फरवरी तक 9 माह से 15 साल तक के 4 लाख 6 हजार 720 बच्चों को टीकाकृत किया जा चुका है।
    जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. सुरेश बौद्ध ने बताया कि टीकाकरण का अभियान 15 जनवरी से शुरू होकर 15 फरवरी तक चलेगा। उन्होंने बताया कि जिले को मिले लगभग 6 लाख बच्चों को टीकाकृत के लक्ष्य को शेष 3 दिन में लगभग 1 लाख 93 हजार बच्चों को टीकाकृत किया जाकर शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल कर लिया जाएगा।
अभिभावकों में टीका को लेकर निर्मूल आशंका है
    बच्चों के अभिभावकों के मन में मीजल्स-रूबेला को लेकर कई सवाल भी हैं कि पूरे टीके समय पर लगवा लिए हैं, तो फिर इस टीका को क्यों लगवाएं ? यह टीका नहीं लगवाएं तो क्या फर्क पड़ जाएगा ? बच्चे भी टीका को लेकर डरते हैं। पहले मीजल्स का टीका बस लगता था, अब रूबेला भी साथ में शामिल हुआ है, जिसे हर बच्चे को लगवाना जरूरी है।
घातक बीमारी के शिकार ऐसे हो जाते हैं
    अधिकतर महिलाएं बार-बार गर्भपात की शिकार हो जाती हैं। बाद में महिला गर्भवती हो जाती हैं, ऐसे में मृत शिशु को जन्म देती हैं या फिर गर्भस्थ शिशु अविकसित या कुछ न कुछ जन्मजात शारीरिक दोष के साथ बच्चों के जन्म होने पर दिल में छेद, शरीर का कोई भाग न होना या मानसिक या शारीरिक रूप से बाधित की स्थिति बनती है। इस तरह के शिशु के आने पर स्वाभाविक रूप से माता-पिता का जीवन दुष्कर बन जाता है।
    इस तरह बच्चों को एक और घातक बीमारी आमंत्रण देती है, जिसे मीजल्स या खसरा कहते हैं। मीजल्स यद्यपि इतना खतरनाक नहीं है पर इसके दुष्परिणाम भयानक हो सकते हैं, जिसमें अंधापन, मस्तिष्क में सूजन, न्यूमोनिया और डायरिया से पीड़ित बच्चे कुपोषण के शिकार होकर कई बच्चों की मृत्यु तक हो जाती है। सम्पूर्ण विश्व में मीजल्स से 30 फीसदी बाल मृत्यु केवल हमारे देश में होती है।
इन घातक बीमारियों को ऐसे रोका जा सकता है
    इन दोनों बीमारियों को एम.आर. वैक्सीन के एक ही टीके से रोका जा सकता है। इसलिए भारत के 23 से अधिक राज्य में 15 करोड़ से अधिक बच्चों को बीमारी से सुरक्षित कराए जाने के बाद मध्य प्रदेश में 9 साल से 15 साल तक के सभी बच्चों को निःशुल्क टीका लगवाकर भविष्य सुरक्षित कराया जा रहा है।
    जिला कलेक्टर मोहित बुंदस ने छतरपुर जिले के बच्चों के अभिभावकों से अपील की है कि मीजल्स-रूबेला का टीका अपने बच्चों को लगवाकर सर्वश्रेष्ठ माता-पिता और भारतीय होने का गर्व महसूस करें।
(9 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2019मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
28293031123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer