समाचार
|| अंतिम दिन तक भरे गए 25 व्यक्तियों द्वारा नाम निर्देशन पत्र || लोकसभा क्षेत्र टीकमगढ़ के लिए 20 अप्रैल को की जायेगी नामनिर्देशन पत्रों की संवीक्षा || मास्टर ट्रेनर्स का एक दिवसीय उन्मुखीकरण आज || टीकमगढ़ संसदीय क्षेत्र में आज 13 अभ्यर्थियों ने नाम निर्देशन पत्र जमा किये || अतिरिक्त बैलेट यूनिटों को स्ट्राँग रूम में रखा गया || सेक्टर एवं पुलिस अधिकारियों की संयुक्त बैठक सम्पन्न || एमएलबी में ईव्हीएम की कमीशनिंग आज से || नोडल अधिकारी अपना कार्य पूरी ईमानदारी, निष्ठा, सजगता एवं समन्वय के साथ करें कार्य - व्‍यय प्रेक्षक श्री तिवारी || पीठासीन अधिकारी को समस्‍या आने पर सहायता करने आवश्‍यक जानकारी रखें सेक्‍टर आफीसर - जिला निर्वाचन अधिकारी || नये वोटर आई.डी. कार्ड का 30 अप्रैल तक करायें वितरण
अन्य ख़बरें
मीडिया पर्सन्स को दी गई ईवीएम, वीवीपैट की हैण्ड्सऑन ट्रेनिंग
-
कटनी | 15-अप्रैल-2019
 
     मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मध्यप्रदेश, भोपाल के निर्देशानुसार लोकसभा निर्वाचन 2019 में प्रयुक्त होने वाली ईवीएम एवं वीवीपैट मशीनों की कार्यप्रणाली और संचालन संबंधी जानकारी देने सोमवार को जिला पंचायत सभाकक्ष में जिले के मीडिया प्रतिनिधियों की कार्यशाला आयोजित हुई। इस मौके पर प्रशिक्षण के नोडल अधिकारी डी.के. पासी, विजय भार, मास्टर ट्रेनर डॉ. सुनील बाजपेयी, राजेन्द्र असाटी, जनसम्पर्क अधिकारी राजेश सिंह, सहायक नोडल अधिकारी पेडन्यूज मृगेन्द्र सिंह भी उपस्थित थे।
   मडिया कार्यशाला में मीडिया प्रतिनिधियों को ईवीएम, वीवीपैट मशीनों की विश्वसनीयता, संचालन, कार्यप्रणाली की हैण्ड्सऑन ट्रेनिंग के साथ ही भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों, मतदान प्रक्रिया, एमसीएमसी के तहत पेडन्यूज और अभ्यर्थियों के खर्चे का आंकलन तथा निर्वाचन में मीडिया से संबंधित विभिन्न विषयों पर निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों की जानकारी दी गई।
   मास्टर ट्रेनर डॉ. सुनील बाजपेयी ने बताया कि ईवीएम, वीवीपैट का निर्माण भारत के श्रेष्ठ लोक उपक्रम ईसीआईएल और बीईएल द्वारा किया जाता है। उन्होने ईवीएम की शुचिता और विश्वसनीयता की जानकारी देते हुये बताया कि सभी मशीनों का ट्रैकिंग सॉफ्टवेयर होता है और प्रत्येक मशीन का लेखा-जोखा आयोग से लेकर अभ्यर्थी के मतदान एजेन्ट के पास तक होता है। मास्टर ट्रेनर राजेन्द्र असाटी ने बताया कि जितनी बार ये मशीनें उपयोग की जाती हैं, उनकी गणना मशीन में दर्ज होती है। पहली बार वीवीपैट प्रारंभ करने पर 7 पर्चियां मशीन से सेल्फ टेस्टिंग की निकलती हैं। मॉकपोल के बाद सीआरसी प्रक्रिया अपनाकर ईवीएम और वीवीपैट खालीकर पुनः सील कर वास्तविक मतदान के लिये तैयार की जाती हैं। इस दौरान मीडिया प्रतिनिधियों को ईवीएम पर मॉकपोल कराकर हैण्ड्सऑन ट्रेनिंग दी गई तथा उनके प्रश्नों का समाधान किया गया।
औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियों को भी दिया गया प्रशिक्षण
   लोकसभा निर्वाचन 2019 में मतदान के लिये प्रयुक्त होने वाली ईवीएम, वीवीपैट मशीनों की कार्यप्रणाली और संचालन संबंधी प्रशिक्षण औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियों को भी दिया गया। सोमवार को महाकौशल फैक्ट्री प्राईवेट लिमिटेड औद्योगिक क्षेत्र बरगवां के सभाकक्ष में प्रशिक्षक डॉ. सुनील बाजपेयी और राजेन्द्र असाटी ने वीवीपैट व ईवीएम की हैण्ड्सऑन ट्रेनिंग और भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों तथा मतदान प्रक्रिया की जानकारी दी।
 
(3 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2019मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer