समाचार
|| वित्तीय अनियमितता करने पर सचिव-सरपंचो को शोकाज नोटिस जारी || दो मुख्य कार्यपालन अधिकारी के खिलाफ कार्यपवाही के लिए प्रस्ताव भेजे || उपलब्ध जल का अपव्यय ना किया जाए || जिले में संचालित समस्त शैक्षणिक कोचिंग संस्थान की जांच हेतु दल गठित || पॉक्सो एक्ट : बच्चों को सुरक्षा की गारंटी || विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर जन-जागृति कार्यक्रम होंगे || पॉक्सो एक्ट : बच्चों को सुरक्षा की गारंटी || राजस्व अधिकारियों की बैठक 31 को || नगरीय निकायों एवं पंचायतों की मतदाता सूची के पुनरीक्षण के लिए प्रशिक्षण 3-4 जून को || आगामी नेशनल लोक अदालत 13 जुलाई को
अन्य ख़बरें
लू-तापघात से बचाव संबंधी सावधानियां रखने के लिए लोगों में जागरूकता फैलाएं – कमिश्नर रीवा संभाग डॉ. अशोक कुमार भार्गव
लू (तापघात) से लोगों को बचाने के लिए कमिश्नर ने ली संभागीय अधिकारियों की बैठक
रीवा | 15-अप्रैल-2019
 
   
 
   गर्मी के मौसम में बढ़ रहे लू (तापघात) के प्रकोप से लोगों को बचाने के उद्देश्य से कमिश्नर रीवा संभाग डॉ. अशोक कुमार भार्गव ने बैठक आयोजित कर संबंधित विभागों के संभागीय अधिकारियों को कार्य योजना बनाकर कार्य करने के निर्देश दिये हैं। कमिश्नर कार्यालय में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए कमिश्नर डॉ. भार्गव ने कहा कि संभाग के सभी जिलों में कलेक्टर के निर्देशन में जिला आपदा प्रबंधन कार्य योजना तैयार की जाये। जिला स्तर पर लू से बचाव एवं सावधानी रखने के लिए जन जागृति कार्यक्रमों का आयोजन किया जाये।
    कमिश्नर डॉ. भार्गव ने लू से बचाव के लिए बरती जाने वाली सावधानियों का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि लू-तापघात सभी उम्र के लोगों को होने की आशंका होती है। लू लगने से मौत होने का भी खतरा रहता है। बचाव के लिये विशेष सावधानी बरतना चाहिए। शिशु व बच्चों, 65 वर्ष आयु के महिला-पुरूषों, घर के बाहर काम करने वाले व मानसिक रोगियों और उच्च रक्तचाप वाले मरीजों को लू से बचने के लिए विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है। उन्होंने कहा कि घर के अंदर हवादार ठंडे स्थान पर रहें। धूप से बचें। धूप में जाने से पहले सिर को छाते अथवा टोपी से ढंकें। हल्के रंग के ढीले वस्त्रों को इस्तेमाल में लायें। कूलर व एयर कंडीशनर से निकलकर एकदम बाहर न जायें। खाली पेट बाहर जाने से परहेज करें। भोजन कर और पानी पीकर ही बाहर निकलें। अधिक से अधिक पेय पदार्थ जैसे नींबू पानी, छाछ, दही, लस्सी, पना, नारियल पानी इत्यादि का सेवन करें। एल्कोहल युक्त नशीले पदार्थ के सेवन से बचें। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी इन सभी उपायों को जनता तक पहुंचाने के लिए लगातार प्रचार-प्रसार करें। उन्होंने कहा कि लू से पीड़ित व्यक्ति का तुरंत प्राथमिक उपचार करें। शरीर का तापमान कम करने के लिए ठंडे पानी से स्नान करायें। शरीर पर ठंडे पानी की पट्टियां रखकर पूरे शरीर को ढक दें और तत्काल निकट के चिकित्सा संस्थान में उपचार कराने के लिए प्रेरित करें।
    कमिश्नर डॉ. भार्गव ने नगरीय प्रशासन विभाग को निर्देशित करते हुए कहा कि जन सामान्य के प्रतीक्षा स्थलों पर छाया के लिये शेड बनाये जायें। नगरीय निकायों में पेयजल के लिये सार्वजनिक प्याऊ, मटके आदि की व्यवस्था रहे एवं पेयजल वाले स्थानों पर पर्याप्त साफ-सफाई रहे। लू से बचाव एवं सावधानियों के लिए होर्डिंग्स भी लगाये जायें। स्कूल शिक्षा विभाग को उन्होंने लू से बचाव के लिये आवश्यकता अनुसार स्कूलों का समय बदलने के निर्देश दिए । स्कूलों में खिड़कियां और जालियां टूटी नहीं रहें। पेयजल एवं साफ-सफाई की पर्याप्त व्यवस्था हो। लोक स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित करते हुए लू से बचाव के लिए काम्बैट टीमें एवं स्वयं सेवी संगठन तैयार करने, एम्बुलेंस की व्यवस्वथा करने एवं पर्याप्त दवाओं का इंतजाम करने के निर्देश दिए। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग व श्रम विभाग को निर्देशित करते हुए कहा कि मजदूरों से दोपहर 12 बजे से अपरान्ह तीन बजे तक काम नहीं लिया जाये। उन्होंने कार्य स्थल पर प्राथमिक चिकित्सा एवं ओआरएस घोल की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। उन्होंने लू लगने पर उपचार के लिए आपात कालीन नम्बर का प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। सामाजिक न्याय विभाग को दिव्यांगजनों के बहुतायत वाले स्थलों को चिन्हित कर लू से बचाव के लिए आवश्यक उपयाय सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। वन विभाग को सार्वजनिक स्थानों पर पौधरोपण कराने एवं पर्यटन विभाग को पर्यटकों के लिए पर्यटन स्थलों पर छाया एवं उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने परिवहन विभाग को बस स्टैण्ड पर शौचालय, पानी, छाया आदि की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। पशुपालन विभाग को पशुओं के उपचार के लिए बनाए गए हेल्पलाइन नम्बर 1962 का प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी विभागों के अधिकारियों को पक्षियों के लिए पानी की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। उन्होंने पक्षियों के लिए नगरीय निकायों में काफी तादाद मे सकोरे रखवाने के निर्देश दिए।
    बैठक में आयुक्त नगर निगम सभाजीत यादव, मुख्य वन संरक्षक अतुल खेड़ा, क्षेत्रीय संचालक स्वास्थ्य सेवाएं डॉ. एसके सालम, संयुक्त आयुक्त (विकास) आरके शुक्ला, संयुक्त संचालक सामाजिक न्याय सुचिता तिर्की बेक, संयुक्त संचालक नगरीय निकाय आरपी सोनी, उप संचालक पंचायत सतीश निगम सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
(42 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2019जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer