समाचार
|| आरोपियों की गिरफ्तारी पर पुरस्कार घोषित || लेखा प्रशिक्षण सत्र 1 अगस्त से शुरू होगा || संत रविदास स्मृति पुरस्कार और श्री विष्णु कुमार पुरस्कार का नाम परिवर्तन || डीम्ड कर निर्धारण की सुविधा उपलब्ध || मुरम का अवैध उत्खनन करते हुए जेसीबी एवं ट्रैक्टर ट्राली जप्त || राज्य-स्तरीय समिति के सदस्य सचिव होंगे प्रमुख सचिव योजना || कलेक्टर ने की जनसुनवाई || यात्री वाहनों के अनुज्ञा-पत्रों की समीक्षा और सुझाव के लिये समिति गठित || अधिकारी क्षेत्र का नियमित रूप से भ्रमण करें- कलेक्टर || पास्‍को एक्‍ट और मासिक बैठक का हुआ आयोजन
अन्य ख़बरें
विदिशा संसदीय क्षेत्र के लिए आज अधिसूचना जारी होगी तदोपरांत
नाम निर्देशन पत्र आरो रायसेन के द्वारा प्राप्त किए जाएंगे
विदिशा | 15-अप्रैल-2019
 
     कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बताया कि लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र 05 सागर तथा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र 18 विदिशा के लिए निर्वाचन आयोग द्वारा जारी कार्यक्रम अनुसार 16 अपै्रल मंगलवार को अधिसूचना जारी उपरांत नाम निर्देशन पत्र प्राप्ति का कार्य संबंधित जिले के रिटर्निग आफीसर (आरो) के द्वारा जारी स्थल/कक्षो में नियत समयावधि में प्राप्त किए जाएंगे।
    लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र क्रमांक 18 विदिशा के रिटर्निंग आफीसर द्वारा मुहैया कराई गई जानकारी तदोनुसार, भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी लोकसभा निर्वाचन-2019 कार्यक्रम के अनुसार संसदीय क्षेत्र-18 विदिशा के लिए नाम निर्देशन पत्र 16 अप्रैल को प्रातः 11 बजे से 23 अप्रैल को अपरान्ह 03 बजे तक जिला कार्यालय के कक्ष क्रमांक-18 अपर कलेक्टर एवं अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी न्यायालय में प्राप्त किए जाएंगे। यह नाम निर्देशन पत्र 16, 18, 20, 22 तथा 23 अप्रैल 2019 को प्राप्त किए जाएंगे। नाम निर्देशन पत्र जमा करने हेतु अभ्यर्थी कलेक्ट्रेट कार्यालय परिसर के गेट क्रमांक-1 से प्रवेश करेंगे। इसके अतिरिक्त मीडियाकर्मी गेट क्रमांक-2 से प्रवेश करेंगे।
अभ्यर्थियों की सुविधा के लिए हेल्प डेस्क
    नाम निर्देशन पत्रों की पूर्ति करने में अभ्यर्थियों या उनके निर्वाचन अभिकर्ता को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो, इसके लिए कलेक्ट्रेट कार्यालय परिसर की 100 मीटर की परिधि में हेल्पडेस्क स्थापित की गई है। इस हेल्पडेस्क में डिप्टी कलेक्टर सुश्री प्रियंका मिमरोट सहित अन्य शासकीय सेवकों की ड्यूटी लगाई जाएगी जो नामांकन पत्र भरने से जुड़ी समस्त जानकारी प्रदान करेंगे।
प्रस्तावकों के अंगूठे के निशान का अभिप्रमाणीकरण
    भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार नाम निर्देश पत्र जमा करने के लिए अभ्यर्थियों के प्रस्तावको में से जो प्रस्तावक उम्मीदवार के साथ आते है, उन्हें हेल्प डेस्क में उपस्थित डिप्टी कलेक्टर के समक्ष अंगूठे का निशान लगाना होगा। नाम निर्देशन पत्र जमा करने उम्मीदवार के साथ नही आने वाले ऐसे प्रस्तावक जो अंगूठे का निशान लगाते है, वे अपने क्षेत्र के एसडीएम के समक्ष उपस्थित होकर अंगूठे का निशान लगाकर अभिप्रमाणिकरण के पश्चात भेज सकते है। कलेक्ट्रेट परिसर में वेरीकेट के पास स्थापित हेल्प डेस्क में अंगूठा निशान अभिप्रमाणित करने हेतु प्रभारी एवं आरओ तथा आठों एआरओ से समन्वय कर सूचनाओं के आदान-प्रदान का दायित्व डिप्टी कलेक्टर सुश्री प्रियंका मिमरोट को सौंपा गया है। साथ ही सहायकों की भी ड्यूटी लगाई गई है।
रिटर्निंग अधिकारी कक्ष में केवल पांच व्यक्ति ही कर सकेंगे प्रवेश
    भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार नाम निर्देशन पत्र प्राप्ति के दौरान आदर्श आचरण संहिता का पालन सुनिश्चित कराने के लिए नाम निर्देशन पत्र जमा करते समय किसी अभ्यर्थी के लिए रिटर्निंग अधिकारी कार्यालय के 100 मीटर की परिधि में केवल तीन वाहनों की संख्या को सीमित किया गया है तथा नामांकन के समय रिटर्निंग ऑफीसर कक्ष में अभ्यर्थी सहित केवल पांच व्यक्तियों को ही आने की अनुमति दी जाएगी।
अभ्यर्थी को बैंक में खुलवाना होगा नवीन खाता
   भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार लोकसभा निर्वाचन हेतु चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार को नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत करने की तारीख से एक दिन पूर्व नवीन खाता खोला जाकर खाता नम्बर की जानकारी नाम निर्देशन पत्र जमा करने के दौरान रिटर्निंग ऑफीसर को प्रस्तुत करना होगा। कलेक्टर श्रीमती एस प्रिया मिश्रा द्वारा जिले में संचालित सभी बैंकों के नोडल अधिकारी एवं शाखा प्रबंधकों को निर्देश दिए गए है कि अभ्यर्थी को निर्वाचन के संबंध में खाता खोलते समय किसी प्रकार की असुविधा न हो।
अभ्यर्थियों के छाया चित्र के संबंध में निर्देश
    भारत निर्वाचन आयोग द्वारा अभ्यर्थियों के लिए छायाचित्र संबंध में निर्देश दिए गए हैं। नाम निर्देशन भरने वाले अभ्यर्थी को निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार छायाचित्रों को उपयोग कर सकेंगे। प्रत्येक अभ्यर्थी को नाम निर्देशन पत्र के साथ छायाचित्र देना होगा। अभ्यर्थी के छायाचित्र 3 माह से अधिक पुराना नही होना चाहिए। छायाचित्र का आकार 2 सेमी चौडा एवं 1.25 सेमी लम्बा होना चाहिए। छायाचित्र का बेकग्राउण्ड सफेद हो और फोटो में पूरा चेहरा साफ, आंखे खुली होनी चाहिए। छायाचित्र सामान्य परिधान में हो तथा काले चस्मे का उपयोग नही होना चाहिए। छायाचित्र के साथ अभ्यर्थी अथवा एजेण्ट व प्रस्तावक को घोषणा पत्र देना होगा कि यह छायाचित्र अभ्यर्थी का ही है। अभ्यर्थी को नामनिर्देशन पत्र के साथ एक अतिरिक्त छाया चित्र जमा कराना होगा। इस छायाचित्र का उपयोग मतपत्र में किया जाएगा।
शपथ-पत्र के साथ निवेश और देनदारी की जानकारी देना होगी
   लोकसभा निर्वाचन-2019 में अभ्यर्थियों को नाम निर्देशन-पत्र के साथ दिये जाने वाले शपथ-पत्र (फार्म-26) में फरवरी माह में किये गए संशोधन के अनुसार विदेशी बैंकों एवं विदेश में किये गये निवेश की जानकारी देनी होगी। अभ्यर्थी को उसके पतिध्पत्नी और उस पर आश्रित व्यक्तियों के साथ-साथ अविभक्त परिवार की स्थावर आस्तियों, शासकीय देनदारियों और उसके साथ ही विगत 5 वर्षों के आयकर की जानकारी देनी होगी। इसके साथ ही शपथ-पत्र के प्रत्येक पृष्ठ पर अभ्यर्थी के हस्ताक्षर एवं नोटरी द्वारा सत्यापित होकर सील लगी होना अनिवार्य होगा।
अभ्यर्थी के नामांकन पत्रों की सुविधा एप पर भी होगी एंट्री
    लोकसभा निर्वाचन का चुनाव लड़ने वाले अभ्यर्थियों द्वारा भरे गये नाम-निर्देशन पत्रों की निर्वाचन आयोग द्वारा तैयार किये गये सुविधा एप्लीकेशन में जोड़े गए नामिनेशन के मॉड्यूल में एंट्री की जायेगी। रिटर्निंग अधिकारी उम्मीदवारों से प्राप्त नामांकन पत्रों में दर्ज प्रत्येक जानकारी को सुविधा एप में दर्ज करायेंगे। सुविधा एप्लीकेशन के मॉड्यूल को कुछ इस तरह बनाया गया है कि यदि नामांकन पत्र में कोई कमी रह जाती है या ऐसी कोई जानकारी जो नामांकन पत्र में दी जाना अनिवार्य है लेकिन अभ्यर्थी द्वारा उसे नहीं भरा गया है तो यह उस नामांकन पत्र को स्वीकार नहीं करेगा। ऐसी स्थिति में उम्मीदवार को रिटर्निंग अधिकारी द्वारा लिखित में सूचना देकर नामांकन पत्र की कमियों की समय रहते पूर्ति करने के लिए कहा जायेगा। ताकि सिर्फ लिपिकीय त्रुटि के कारण संवीक्षा के दौरान नामांकन पत्रों को निरस्त होने की स्थिति से बचा जा सकेगा।
आपराधिक प्रकरणों की जानकारी का कराना होगा प्रकाशन एवं प्रसारण
    भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार लोकसभा निर्वाचन-2019 लड़ने वाले अभ्यर्थी को आपराधिक प्रकरणों के संबंध में घोषणा करना अनिवार्य है। यदि अभ्यर्थी किसी राजनैतिक दल द्वारा टिकिट दिये जाने पर निर्वाचन लड़ रहा है, तो उसे स्वयं पर लंबित अपराधिक प्रकरण के संबंध में उस राजनैतिक दल को सूचना देना अनिवार्य है। निर्वाचन लड़ने वाले उम्मीदवारों को आपराधिक प्रकरण की जानकारी तीन समाचार पत्रों एवं तीन न्यूज चैनलों में अलग-अलग तिथियों में प्रसारित एवं प्रकाशित कराना होगी।
(71 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2019जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer