समाचार
|| आपदा प्रबंधन के अतिरिक्त महानिदेशक ने बाढ़ संभावित क्षेत्रों तथा तैयारियों की ली जानकारी || प्रभारी मंत्री का दौरा कार्यक्रम || प्रभारी मंत्री श्री सचिन यादव की पत्रकार वार्ता फेसबुक पर लाइव || पंचायत सचिवों के महंगाई भत्ते में 6 प्रतिशत की वृद्धि || घर-घर दस्तक देकर किया जा रहा है बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण || जय किसान फसल ऋण माफी योजना || चिकित्सकों की हड़ताल के कारण शासकीय अस्पतालों की  ओपीडी में विशेष इंतजाम || विशेष पिछड़ी जनजातियों को शासकीय सेवा में नियुक्ति के लिये विशेष प्रावधान || एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय में प्रवेश हेतु 20 तक आवेदन आमंत्रित || मतदाता सूची पुनरीक्षण-रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों की नियुक्ति (नगर पालिका निगम जबलपुर निर्वाचन)
अन्य ख़बरें
मतदान शुरू होने से लेकर समाप्ति तक नजर रखेंगे माईक्रो आब्जर्वर
माइक्रो आब्जर्वर आयोग के प्रेक्षक के अधीन रहकर कार्य करेंगे, 168 माइक्रो आब्जर्वरों को दिया गया प्रशिक्षण
देवास | 08-मई-2019
 
 
    लोकसभा निर्वाचन-2019 के मतदान में प्रारंभ होने से लेकर समाप्ति तक माईक्रो आब्जर्वर की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। माईक्रो आब्जर्वर मतदान में ही उपस्थित होकर वहां घटित होने वाली प्रत्येक गतिविधियां पर नजर रखेंगे और पल-पल की जानकारी भी संकलित करेंगे। निर्वाचन कार्य में माईक्रो आब्जर्वर की भूमिका को लेकर बुधवार को जिला पंचायत के सभाकक्ष में सामान्यक प्रेक्षक श्री सी. रविशंकर, कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ. श्रीकान्त पाण्डेय, पुलिस अधीक्षक चंद्रशेखर सोलंकी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत शीतला पटले की उपस्थिति में प्रशिक्षण संपन्न हुआ।
    प्रशिक्षण में सामान्य प्रेक्षक श्री सी. रविशंकर ने माईक्रो ऑब्जर्वरों से कहा कि  मतदान केंद्र पर सहयोगात्मक रवैया अपनाते हुए मतदान का कार्य सम्पन्न करवाना है। उन्होंने कहा कि यदि कही सुधार की जरूरत है तो पीठासीन अधिकारी के ध्यान में लाकर सुधार करवाना सुनिश्चित करेंगे।
   कलेक्टर डॉ. श्रीकान्त पाण्डेय ने कहा कि निर्वाचन में सभी कार्य आयोग के दिशा निर्देशों के अनुरूप नियम से करना है। आयोग के दिशा निर्देशों को अच्छी तरह से पढ़ ले तथा आयोग के दिशा निर्देशानुसार सभी कार्यवाहियां सुनिश्चित करें। पुलिस अधीक्षक चंद्रशेखर सोलंकी ने कहा कि प्रशिक्षण में अच्छी तरह से सभी प्रक्रियाओं को समझ ले और अपने मन में कोई शंका लेकर न जाएं। कहीं कोई शंका हो तो उसका अभी समाधान कर लें।    
   प्रशिक्षण में मास्टर ट्रेनरों ने बताया कि माईक्रो आब्जर्वर को आयोग के प्रेक्षक के अधीन रहते हुए कार्य करना है। माईक्रो आब्जर्वरों के प्रशिक्षण में देवास-शाजापुर संसदीय क्षेत्र अंतर्गत देवास, सोनकच्छ, हाटपीपल्या व खंडवा संसदीय क्षेत्र अंतर्गत बागली के 168 माइक्रो ऑब्जर्वरों का प्रशिक्षण हुआ। प्रशिक्षण मास्टर ट्रेनर डॉ. एसपीएस राणा, डॉ. अजय काले, डॉ. समीरा नईम द्वारा दिया गया। बैंकर्स अधिकारी, बैंक नोट प्रेस देवास, एलआईसी तथा नवोदय विद्यालय के अधिकारियों की ड्यूटी माईक्रो आब्जर्वर के लिए लगाई गई है।
निर्धारित प्रारूप में हां या नहीं में करेंगे रिपोर्ट प्रस्तुत
    मास्टर ट्रेनरों ने मतदान केंद्रों पर तैनात होने वाले माईक्रो आब्जर्वरों से कहा कि मतदान प्रारंभ होने से समाप्ति तक नजर रखने के साथ-साथ 39 बिंदुओं वाले निर्धारित प्रारूप में हां या नहीं में जानकारी प्रस्तुत करना होगी। माइक्रो ऑब्जर्वर के कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए प्रशिक्षण में बताया कि माइक्रो ऑब्जर्वर मतदान केंद्र पर यह देखेंगे कि मॉकपोल किया गया या नहीं, मॉकपोल के बाद कंट्रोल यूनिट का डाटा क्लियर किया गया है कि नहीं, मॉक पोल के दौरान कितने पोलिंग एजेंट उपस्थित थे, किसी एक अभ्यर्थी के एक से अधिक पोलिंग  एजेंट मतदान केंद्र में तो नहीं है, कोई अनाधिकृत व्यक्ति मतदान केंद्र के अंदर तो नहीं आ गया है, मतदाता की अंगुली पर अमिट स्याही लगाई जा रही है या नहीं, मतदाता के पहचान के दस्तावेज देखे जा रहे हैं या नहीं, पीठासीन अधिकारी डायरी में गतिविधियों को नोट कर रहे हैं या नहीं। डाकमत पत्र/ईडीसी से मतदान आदि पर निगाह रखेंगे तथा निर्वाचन प्रेक्षक को सीधे रिपोर्ट करेंगे।
   प्रशिक्षण में बताया गया कि माईक्रो ऑब्जर्वरों को मतदान प्रारंभ से लेकर समाप्ति तक प्रत्येक घंटे में हुए मतदान के प्रतिशत की जानकारी भी लेनी होगी। वहीं मतदान के अंत में पंक्ति में कितने मतदाता खड़े थे और 6 बजे कितने मतदाताओं को टोकन दिया गया, 6 बजे के बाद कितने मतदाताओं ने मतदान किया और मतदान कब समाप्त हुआ, आदि की जानकारी माईक्रों ऑब्जर्वर द्वारा रखी जाएगी। माईक्रों ऑब्जर्वर की उपस्थिति में ही मतदान होना जरूरी है। कोई भी दल मतदान केंद्र पर अपने 3 अभिकर्ता नियुक्त कर सकता है किंतु एक समय में एक ही एजेंट संबंधित मतदान केंद्र पर उपस्थित रहेंगे, अन्य दो एजेंट रिलीवर के रूप में कार्य करेंगे।
वीवीपेट की 7 और मोक पॉल की पर्चियां होगी काले लिफाफे में
   मास्टर ट्रेनरों ने बताया कि जैसे ही ईव्हीएम मशीनें आपस में एक-दूसरे में कनेक्ट होगी और कनेक्ट करने के बाद ऑन करने पर वीवीपेट से 7 पर्चियां स्वतः ही निकलेगी। इसके अलावा मोक पॉल में जितने भी मतदान किए जाते है, यह पर्चियां निकालकर पीठासीन अधिकारी द्वारा काले लिफाफे में बंद की जाएगी। मोक पॉल के दौरान प्रत्येक अभिकर्ता को मतदान करने का अवसर दिया जाए। माईक्रों ऑब्जर्वर द्वारा मतदान के एक दिन पूर्व ही मतदान केंद्र का अच्छी तरह से अवलोकन कर लेना चाहिए। खास तौर पर यह ध्यान रखे कि वोटर्स की गोपनीयता तो भंग नहीं हो रही है। मतदान केंद्र को अच्छी तरह से देख लें। इसके अलावा मतदान समाप्ति के बाद पीठासीन अधिकारी द्वारा मतदान अभिकर्ता को 17 (सी) फार्म देना जरूरी है। प्रशिक्षण के अंत‍ में प्रश्नोत्तर सत्र हुआ जिसमें माइक्रो आब्जर्वर की शंकाओं का समाधान किया गया। ईवीएम मशीन का हैन्ड्स-ऑन प्रशिक्षण दिया गया, विभिन्न प्रकार की इरर व उनको ठीक करना, मशीन को सील करना आदि के संबंध में बताया गया। यह भी बताया गया कि मतदान के अंत में वीवीपेट की बैटरी को निकालना है तथा सर्टिफिकेट पर एजेंटों के हस्ताक्षर लिए जाएंगे।
 
(40 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2019जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer