समाचार
|| वृद्धाश्रम के बुजुर्ग व नि:शक्तों द्वारा उत्साहपूर्वक मतदान || कुल्हे की हड्डी टूटने के बाद भी नहीं टूटा मतदान करने का जज्बा || दोनों हाथों से विकलांग आमीन खान दूसरे मतदाताओं के लिए बने प्रेरणा स्त्रोत || जिले में सायं 6.00 बजे तक अनंतिम स्थिति में लगभग 79.70 प्रतिशत मतदान होने की खबर || दो व्यक्तियों के विरूद्ध एफ.आई.आर दर्ज कराई गई (लोकसभा निर्वाचन-2019) || रतलाम जिले में शांतिपूर्ण मतदान की खबर || मतदान शांतिपूर्ण संपन्न || क्या युवा, क्या वृद्ध और क्या दिव्यांग लोकतंत्र के महापर्व पर सभी ने बढ़-चढ़कर लिया हिस्सा (मतदान सुविधाओं की कहानियां) || कलेक्टर ने लिया मतगणना की तैयारियों का जायजा "लोकसभा निर्वाचन- 2019" || मतदान दलो का पोलेटेक्निक कॉलेज पर कलेक्टर एवं सीईओ जिला पंचायत ने पुष्पहार पहनाकर किया आत्मीय स्वागत
अन्य ख़बरें
राष्ट्रीय डेंगू दिवस पर कार्यशाला आयोजित की गई
-
रतलाम | 16-मई-2019
 
   
    रतलाम जिले के विरियाखेडी स्थित प्रशिक्षण केन्द्र पर डेंगू से बचाव, उपचार और रोकथाम विषय पर कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला को संबोधित करते हुए सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर ननावरे ने निर्देशित किया कि डेंगू दिवस के अवसर पर जिले में डेगूं से बचाव हेतु कार्ययोजना तैयार की जाए।उन्होंने कहा कि जिले के वाटरबाडी क्षेत्रों की पहले से पहचान कर ली जाए एवं आगामी मौसम में वाटर बाडी क्षेत्रों में सर्वेलेंस कार्यकर्ता टेमोफास दवाई का छिडकाव करें तथा इसकी नियमित मानिटरिंग की जाए।
    जिला मलेरिया अधिकारी श्री दौलत पटेल ने बताया कि डेंगू एडीज नामक मच्छर के काटने से होने वाला वाहक जनित रोग है यह मच्छर साफ पानी में पनपता है और दिन के समय काटता है। डेंगू के प्रमुख लक्षणों में तेज बुखार, सिर में दर्द, पीठ में दर्द, उल्टी , मितली , आंखों में दर्द, और त्वचा में चकते बनना इत्यादि मुख्य है। डेंगू के विषाणु के कारण रक्त वाहिकाएं फूल जाती है और इनमें से रिसाव होता है  जिसके कारण त्वचा पर बैंगनी रंग के धब्बे पड जाते हैं। डेंगू से बचाव के लिए ओवर हेड टेकों में मास्कीटो प्रूफ कवरिंग हो।कूलरों को सप्ताह में दो बार साफ करें। मास्कीटो क्वाईल, वेपर मच्छर निरोधक क्रीम का उपयोग करना चाहिए। मच्छरदानी लगाकर सोना चाहिए।जल एकत्रित करने वाले बर्तनों को ढंककर रखना चाहिए। टायरों को ढंककर रखना चाहिए या शेड में अलग रखना चाहिए। अपने शरीर को ढंकने के लिए पूरी बांह के कपडे पहनना चाहिए।भवन निर्माण के समय ऐसी सभी आंतरिक एवं बाहय संरचनाओं को न बनने दें जिनमें बारिश का पानी इकटठा हो सकता है।रोगी को तीव्र ज्वर ,सिर दर्द, शरीर दर्द से ग्रसित होने की स्थिति में तत्काल अस्पताल ले जाएं और डाक्टर की सलाह के अनुसार ही दवाई लें।कार्यशाला में डीएचओ डा जी.आर.गौड,मीडिया अधिकारी आशीष चौरसिया,डिप्टी मीडिया अधिकारी श्रीमती सरला कुरील,सहायक मलेरिया अधिकारी श्री वसुनिया सहित जिले के मलेरिया विभाग के कर्मचारी,एएनएम,आशा कार्यकर्ता आदि उपस्थित रहे कार्यक्रम के अंत में आभार श्री वसुनिया ने माना।
(4 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
अप्रैलमई 2019जून
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
293012345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer