समाचार
|| निपाह वायरस से बचाव के लिये स्वास्थ्य विभाग ने जारी की एडवाइजरी || प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़कों के संधारण कार्य 30 जून तक पूर्ण करें- मंत्री श्री पटेल || वर्षा संबंधी गतिविधियों पर सतत निगरानी रखने नियंत्रण कक्ष स्थापित || मण्डी बोर्ड द्वारा छ: माह में 1155 हितग्राही को 9.56 करोड़ की राशि का प्रदाय || अल्पकालीन फसल ऋण की देय तिथि में वृद्धि || सप्ताह में दो दिन ग्राम पंचायत मुख्यालय में बैठेंगे पटवारी || म.प्र. अधिवक्ता सुरक्षा अध्यादेश राष्ट्रपति को प्रेषित || ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया में शिकायत पर 10 कियोस्क सेंटर के विरुद्ध कार्यवाही || पाँचवा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को || पीईवी द्वारा आयोजित परीक्षा के लिये निःशुल्क परीक्षा पूर्व प्रशिक्षण हेतु आवेदन आमंत्रित
अन्य ख़बरें
तंबाकू नियंत्रण एवं कोट्पा अधिनियम 2003 के संबंध में कार्यशाला का आयोजन
-
छिन्दवाड़ा | 27-मई-2019
 
    जिला अध्यक्ष श्री भरत यादव की अध्यक्षता में तंबाकू नियंत्रण एवं कोट्पा अधिनियम 2003 के संबंध में कलेक्टोरेट सभाकक्ष में कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें अतिरिक्त कलेक्टर श्रीमती कविता बाटला, एस.डी.एम.श्री अतुल सिंह, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.जे.एस.गोगिया सहित सभी विभागों के प्रमुख अधिकारी एवं प्रभारी प्रशासनिकगण उपस्थित थे। इस बैठक एवं कार्यशाला में जिला नोडल अधिकारी डॉ.राहुल श्रीवास्तव ने तंबाकू से होने वाले स्वास्थ्य दुष्परिणामों तथा भारत सरकार द्वारा लागू तंबाकू नियंत्रण अधिनियम 2003 पर परिचर्चा की गई।  
    जिला अध्यक्ष ने कोट्पा एक्ट 2003 के तहत सभी शासकीय, अशासकीय दफ्तरों एवं प्रशासनिक क्षेत्रों, विद्यालयों तथा महाविद्यालयों में धूम्रपान निषेधता संबंधित बोर्ड लगाने पर बल दिया और नियमों का उल्लंघन करने वालो पर चालानी कार्यवाही कर व्यापक मीडिया प्रसार करने पर बल दिया तथा आगामी 31 मई को विश्व तंबाकू निषेधता दिवस पर आयोजित की जाने वाली गतिविधियों के व्यापक प्रचार-प्रसार पर जोर दिया। कार्यशाला में तंबाकू निषेधता अधिनियम (कोट्पा एक्ट) 2003 के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए डॉ. श्रीवास्तव ने बताया कि सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम (कोट्पा) 2003 की धारा  4 के अंतर्गत सभी सार्वजनिक स्थान जैसे शासकीय कार्यालय, मनोरंजन केंद्र, पुस्तकालय, अस्पताल, स्टेडियम, होटल, शॉपिंग मॉल, कॉफी हाउस, निजी कार्यालय, न्यायालय परिसर, रेल्वे स्टेशन, सिनेमा हॉल, रेस्टोरेंट छविगृह, एयरपोर्ट, प्रतीक्षालय, बस स्टॉप, लोक परिवहन, शिक्षण संस्थान, टी-स्टॉल, मिष्ठान भंडार, ढाबा एवं अन्य सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान प्रतिबंधित है और इन स्थानों पर धूम्रपान करने वाले लोगो पर 200 रूपये तक जुर्माने का प्रावधान है।  धारा 5 के अंतर्गत तंबाकू उत्पादों के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष विज्ञापनों पर पूर्णत: रोक है जिनमें आकर्षित करने वाली योजनाऐं, मुफ्त नमूनों का वितरण, तंबाकू के ब्रांड के नाम पर किसी दूसरे उत्पाद को बेचना आदि शामिल है। (किसी भी प्रकार के तंबाकू उत्पाद-सिगरेट, बीड़ी, डिस्प्ले बोर्ड इत्यादि लगाना निषेध है।) यदि कोई धारा 5 के प्रावधानों का उल्लंधन करता है, तो धारा 22 के तहत अर्थदंड एवं कारावास का प्रावधान है।
   जिला अध्यक्ष ने निर्देश दिये कि धारा 4 और 5 का उल्लंघन करने पर वैधानिक कार्यवाही करना सुनिश्चित करें एवं अपनी मासिक बैठकों के दौरान धारा 5 के उल्लंघनों की समीक्षा करें और समय-समय पर अभियान चलाकर तंबाकू उत्पाद की दुकानों एवं अन्य जगहों पर तंबाकू उत्पादों के विज्ञापनों को हटाने की कार्यवाही करें।  इसी प्रकार धारा 6-अ के अनुसार 18 वर्ष से कम उम्र के व्यक्ति द्वारा अथवा 18 वर्ष उम्र के व्यक्ति को तंबाकू उत्पाद बेचना प्रतिबंधित है।  धारा 6-ब के अनुसार शैक्षणिक संस्थान के 100 गज के दायरे में तंबाकू उत्पाद विक्रय प्रतिबंधित है। उन्होंने निर्देश दिये कि तंबाकू उत्पाद बेचने वाली दुकानों पर नियमानुसार चेतावनी बोर्ड लगाना सुनिश्चित करें। धारा 6 का कड़ाई से पालन कर इस दायरे में आने वाली सभी दुकाने/गुमठियों/स्थायी-अस्थायी तंबाकू बिक्री केंद्रों को हटाना सुनिश्चित करें एवं समय-समय पर बैठकों के दौरान समीक्षा करें। उल्लंघन करने वालो लोगो पर 200 रूपये तक जुर्माना का प्रावधान है।  तंबाकू नियंत्रण अधिनियम 2003 की धारा 7 के अनुसार प्रत्येक तंबाकू उत्पादों पर चित्रात्मक स्वास्थ्य चेतावनी होना आवश्यक है। कोई भी तंबाकू उत्पाद तब तक नहीं बेचा जा सकता जब तक कि उस पैकेज पर निर्धारित चित्रमय स्वास्थ्य चेतावनी प्रदर्शित न हो। यह स्वास्थ्य चेतावनी पैकेट के सामने के मुख्य क्षेत्र के न्यूनतम 95 प्रतिशत हिस्से पर होनी चाहिये एवं पैकेट के ऊपरी किनारे के समानांतर होनी चाहिये। तंबाकू उत्पादों के लिये भ्रामक भाषा जैसे हल्का माध्यम अथवा वर्णात्मक शब्दों के प्रयोग पर प्रतिबंध है। धारा 7 के उल्लंघन पर धारा 20 के तहत जुर्माना एवं कारावास का प्रावधान है। उन्होंने निर्देश दिये है कि यह सुनिश्चित करें कि तंबाकू उत्पाद थोक एवं खुदरा विक्रेताओं द्वारा भारतीय तंबाकू नियंत्रण कानून 2003 की धारा 7 का पूर्ण परिपालन करें एवं उल्लंघन करने पर तत्काल वैधानिक कार्यवाही की जाये।
(23 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2019जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer