समाचार
|| शासन की योजनाओं का ठीक ढंग से हो क्रियान्वयन जिससे जनता को मिले ज्यादा से ज्यादा लाभ - मंत्री श्री सिंह || नेशनल लोक अदालत में मोटर दुर्घटना क्षतिपूर्ति दावा प्रकरणों का राजीनामा से निराकरण करने के लिये प्री-सिटिंग बैठकों का आयोजन आज और 20 जून को || खरीफ 2018 में वितरित अल्पकालीन फसल ऋण की देय तिथि में वृद्धि || चौरई में कानूनी साक्षरता शिविर संपन्न || नगर पालिका भिण्ड क्षेत्र अंतर्गत 197.18 करोड़ की लागत से बनने वाली वित्तपोषित पेयजल योजना का मंत्री श्री जयवर्धन सिंह ने किया भूमिपूजन || प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत पात्र कृषक परिवारों की सूची पी.एम.-किसान पोर्टल पर अपलोड करने के निर्देश || जिले में 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्याखेट, मत्स्य विक्रय और परिवहन प्रतिबंधित || निर्वाचन संबंधी ईआरओ नेट पोर्टल पुनः प्रारंभ || विद्युत बिल जमा करने की एटीपी मशीन अब जय स्तंभ पार्क के पास || जिला पंचायत की सामान्य सभा एवं सामान्य प्रशासन समिति की बैठक 21 को
अन्य ख़बरें
पॉक्सो एक्ट एमएलबी स्कूल में कार्यशाला का हुआ आयोजन
लैंगिक दुरूपयोग व असुरक्षित स्पर्श पर है कड़ी सजा का प्रावधान
बालाघाट | 29-मई-2019
 
  
  पाक्सो एक्ट के बारे में जानकारी देने एवं आम नागरिकों में इसके प्रति जागरूकता लाने के मकसद से आलज 29 मई को शासकीय महारानी लक्ष्मी बाई कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में प्राचार्यों एवं शिक्षकों की कार्यशाला का आयोजन किया गया था।
   कार्यशाला में बताया गया कि लैंगिक अपराधों से संरक्षण अधिनियम पॉक्सो एक्ट 2012 के तहत 0 से 18 वर्ष तक के बालक और बालिकाओं का लैंगिक दुरूपयोग जघन्य अपराध है, इसके लिए कठोर सजा का प्रावधान है। असुरक्षित स्पर्श को पहचानें और इसका विरोध करें। यदि किसी को कोई शरीर की चार जगहों मुंह, छाती, टांगों के बीच में एवं पीछे नितम्ब में स्पर्श करता है, जिससे असुरक्षित होने का भाव आए और गंदा महसूस हो तो ये असुरक्षित स्पर्श है, इसका खुलकर विरोध करें। चाइल्ड लाइन 1098 पर शिकायत करें। साथ ही जिला महिला सशक्तिकरण या बाल संरक्षण अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग के दूरभाष नंबर 07632-241637 पर मदद के लिए संपर्क करें।
     स्कूल में इस प्रकार की घटना होने पर शिक्षकों और अपने माता-पिता को अवगत कराएं। साथ ही आसपास के लोगों को शोर मचाकर इकट्ठा करना चाहिए। ताकि इस प्रकार के कृत्य में लिप्त रहने वाले की पहचान हो सके और उसके विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जा सके। बालक-बालिकाओं को समझाईश दी गई है कि असुरक्षित स्पर्श करने वाला जान-पहचान वाला या रिश्तेदार, पड़ोसी, टीचर कोई भी हो सकता है। ऐसा भी हो सकता है कि वो आपको लालच देकर या डरा, धमकाकर ऐसा कर रहा हो, यदि ऐसा है तो तुरंत इसका विरोध करें। पॉक्सो एक्ट के तहत असुरक्षित स्पर्श करना दण्डनीय अपराध है।
(19 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2019जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
1234567

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer