समाचार
|| अंतर्राष्ट्रीय-राष्ट्रीय खिलाड़ियों को निजी अकादमी खोलने के लिये मिलेगी मदद || मतदाता जागरूकता अभियान के लिये नोडल अधिकारी नियुक्त || शासकीय योजनाओं के माध्यम से बेरोजगार युवा स्थापित कर सकते हैं स्वयं का रोजगार || सांची में स्वरोजगार जागरूकता शिविर 25 जुलाई को || मतदाता जागरूकता अभियान के लिये नोडल अधिकारी नियुक्त || संवेदनशीलता से हो जन समस्याओं का निराकरण-कलेक्टर || सोयाबीन कृषको के लिये उपयोगी सलाह || डिजिटल इंडिया एवं एक भारत एक थीम के तहत एनआईसी द्वारा जिले की नई वेबसाइट विकसित || आरूल गांव की दुर्गा अलोने का हुआ नि:शुल्क कूल्हा प्रत्यारोपण (खुशियों की दास्तां) || यूरिया आदि घातक पदार्थों से दूध बनाने वालों और व्यापार करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई
अन्य ख़बरें
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया
-
हरदा | 21-जून-2019
 
   स्थानीय कृषि उपज मण्डी में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जिला स्तरीय सामूहिक योगाभ्यास प्रसारित कार्यक्रम के साथ सम्पन्न हुआ। पंचम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर पूरे विश्व के साथ-साथ जिले में भी अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया। यहाँ कलेक्टर श्री एस. विश्वनाथन, पुलिस अधीक्षक श्री भगवतसिंह बिरदे, जिला पंचायत सीईओ श्री लोकेशकुमार जांगिड़, डिप्टी कलेक्टर सुश्री अंकिता त्रिपाठी, विधायक हरदा श्री कमल पटेल, पूर्व विधायक हरदा डॉ. आर.के. दोगने, नगर पालिका उपाध्यक्ष श्री दीपक शर्मा, योग संस्थानों के साधकों, शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों, स्वयं सेवी संस्थाओं के प्रतिनिधियों, विद्यार्थियों, शिक्षक शिक्षिकाओं और समाज के हर वर्ग के लोगों ने योग परम्परा को आगे बढ़ाने के लिये योगाभ्यास किया।
   कार्यक्रम में झारखण्ड रांची से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के उद्बोधन का सीधा प्रसारण किया गया। सभी उपस्थित लोगों ने योग के आसन-ताड़ासन, वृक्षासन, पादहस्तासन, त्रिकोण आसन, दंड आसन, बज्रासन, शवासन का अभ्यास किया। इन आसनों को करने से मनुष्य की रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाया जा सकता है, मनुष्य की पाचन शक्ति में सुधार होता है। श्वसन क्रिया में भी यह सहायक है। इन आसनों को करने से सरवाईकल की समस्या से छुटकारा मिलता है। यह शरीर और मन को धैर्य रखने में सहायक है। इन आसनों को करने से तनाव व क्रोध से मुक्ति मिलती है। योगाभ्यास में पेट के बल लेटकर करने वाले आसन-मकर आसन, भुजंग आसन, सलभ आसन आदि का अभ्यास कराया गया। पेट के बल करने वाले आसनों से मनुष्य को तनाव से मुक्ति मिलती है, सायटिका की पीड़ा से छुटकारा मिलता है और यह अभ्यास मन व शरीर को संतुलित बनाता है। कपाल भारती के तीन चक्रों का भी योगाभ्यास किया गया तथा प्राणायाम का भी अभ्यास किया गया। प्राणायाम के अंतर्गत अनुलोम विलोम, भ्रामरी प्राणायाम का अभ्यास सामूहिक रूप से किया गया इनके अभ्यास से मन शांत रहता है।
(33 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2019अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
24252627282930
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer