समाचार
|| किसान भाईयों को अल्पवर्षा की वर्तमान स्थिति में सम सामयिक सलाह || बीस वर्ष की सेवा या पचास वर्ष की आयु पूरी कर चुके, अक्षम कर्मचारियों की अनिवार्य सेवानिवृत्ति के प्रस्ताव भेजें || स्वतंत्रता दिवस की तैयारियों को लेकर बैठक संपन्न || संभागायुक्त ने महिला उद्यमियों के लिए स्वीप आयोजन की तैयारियों की समीक्षा की || पत्रकारिता विश्वविद्यालय द्वारा पाठ्यक्रमों के उन्नयन के प्रयास सराहनीय - मंत्री श्री शर्मा || राजनैतिक मामलों की मंत्रि-परिषद समिति पुनर्गठित || जिले में 267 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड || अशासकीय व्यक्तियों को शासकीय आवास आवंटन की समीक्षा होगी || बच्चों के लिए खून की व्यवस्था करने कलेक्टर ने ली सामाजिक संस्थाओं की बैठक || सभी विभागाध्यक्ष एवं जिला कार्यालय में ई-ऑफिस कार्य-प्रणाली क्रियान्वयन के निर्देश
अन्य ख़बरें
पात्रता न होने पर दोपहिया वाहन स्वयं नहीं चलाएं, मोटरयान अधिनियम का करें पालन - सीजेएम श्री बहरावत
बिना वैध दस्तावेज के दोपहिया वाहन से स्कूल आने-जाने वाले छात्रों के वाहन जप्त कर की चालानी कार्रवाई, अन्य साधन से संबंधित छात्रों को भेजा स्कूल
गुना | 12-जुलाई-2019
 
   
    जिला एवं सत्र न्यायाधीश के मार्गदर्शन में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री हर्षसिंह बहरावत द्वारा ट्राफिक सूबेदार श्री दीपक साहू एवं उनकी टीम के साथ एवं स्कूल के छात्र एवं छात्राओं को जोकि दोपहिया वाहन से स्कूल आना-जाना करते है और जिनके पास लायसेंस या अन्य वैध दस्तावेज नहीं हैं, के विरूद्ध कार्रवाई की गई और ऐसे छात्रों के माता-पिता को समझाइश दी जाकर संबंधित वाहन स्वामी के विरूद्ध चालानी कार्रवाई के निर्देश दिए। यह कार्रवाई उन्होंने आज प्रात: 7.00 बजे केन्द्रीय विद्यालय एवं इसके उपरांत वंदना स्कूल एवं क्राइस्ट स्कूल के बाहर दोपहिया वाहन से स्कूल आने-जाने वाले छात्र-छात्राओं को रोककर उनके वाहन जप्त कर उन्हें सुविधापूर्ण तरीके से स्कूल भेजा और वाहन जप्त कर चालानी कार्रवाई की। साथ ही उन्होंने संबंधितों को पात्रता न होने पर दोपहिया वाहन स्वयं चलाकर नहीं आने कि कडी समझाइश भी दी।  
    इस अवसर पर संबंधित स्कूलों के प्राचार्या को मौके पर बुलाकर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री बहरावत द्वारा सख्त हिदायत भी दी कि कोई विद्यार्थी  किसी विधि का उल्लंघन करते हुए अर्थात पात्रता न होते हुए दोपहिया वाहन स्वयं चलाकर नहीं आए। ऐसा करके न केवल उस विद्यार्थी के भविष्य को सुरक्षित किया जा सकेगा बल्कि मोटर यान अधिनियम से संबंधित कानून का पालन सुनिश्चित हो सकेगा।  
    उन्होंने कहा कि यदि कोई छात्र विद्यालय आने में किसी विधि का उल्लंघन करता है और यह तथ्य प्राचार्य अथवा विद्यालय प्रबन्धन की जानकारी में है तब प्राचार्य या विद्यालय प्रबन्धन का यह दायित्व है कि उक्त विद्यार्थी ऐसा नहीं करे। यदि प्राचार्य अथवा विद्यालय प्रबन्धन द्वारा इस संबंध में कार्रवाई नहीं की जाती है तो इसका अर्थ यह होगा कि विद्यार्थी द्वारा विधि के उल्लंघन को उनके द्वारा प्रोत्साहित किया जा रहा है।
    उन्होंने कहा कि इस कार्रवाई का मकसद बच्चों माता-पिता को इस संबंध में जागरूक करना भी है कि वे अपने बच्चों को जिनके पास वैध दस्तावेज नहीं हैं, दोपहिया वाहन से स्कूल नहीं भेजें और वाहन का विधित चालन करें। साथ ही उन्होंने चेतावनी भी दी है कि यदि भविष्य में पुनरावृत्ति की जाती है तो ऐसे माता-पिता अथवा वाहन मालिक के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।
    इस मौके पर कुछ अभिभावकों ने उक्त कार्रवाई को उचित और प्रशंसनीय बताया तो कुछ अभिभावकों ने माफी भी मांगी लेकिन सभी के विरूद्ध विधिवत कार्यवाही की गई।
(10 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2019अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
24252627282930
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer