समाचार
|| किसान भाईयों को अल्पवर्षा की वर्तमान स्थिति में सम सामयिक सलाह || बीस वर्ष की सेवा या पचास वर्ष की आयु पूरी कर चुके, अक्षम कर्मचारियों की अनिवार्य सेवानिवृत्ति के प्रस्ताव भेजें || स्वतंत्रता दिवस की तैयारियों को लेकर बैठक संपन्न || संभागायुक्त ने महिला उद्यमियों के लिए स्वीप आयोजन की तैयारियों की समीक्षा की || पत्रकारिता विश्वविद्यालय द्वारा पाठ्यक्रमों के उन्नयन के प्रयास सराहनीय - मंत्री श्री शर्मा || राजनैतिक मामलों की मंत्रि-परिषद समिति पुनर्गठित || जिले में 267 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड || अशासकीय व्यक्तियों को शासकीय आवास आवंटन की समीक्षा होगी || बच्चों के लिए खून की व्यवस्था करने कलेक्टर ने ली सामाजिक संस्थाओं की बैठक || सभी विभागाध्यक्ष एवं जिला कार्यालय में ई-ऑफिस कार्य-प्रणाली क्रियान्वयन के निर्देश
अन्य ख़बरें
पानी और पर्यावरण संरक्षण की बड़ी पहल
कोलांस नदी और भोपाल झील का पुनर्जीवन होगा, भोपाल के 63 और सीहोर के 24 गांवों में होंगे कईं काम -कमिश्नर श्रीमती श्रीवास्तव
भोपाल | 12-जुलाई-2019
 
   
    राज्य शासन की मंशा अनुरूप कमिश्नर श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव ने पानी और पर्यावरण संरक्षण के लिए फिर से एक बड़ा कार्यक्रम प्रारंभ किया है। कोलांस नदी के पुनर्जीवन के साथ ही भोपाल के बड़े तालाब को अपने पुराने स्वरूप में लौटाने के लिए जल्दी ही भोपाल के 63 और सीहोर के 24 गांवों में समन्वित कई कार्य कराए जाएंगे। आज सम्पन्न हुई बैठक में ग्राम एवं नगर निवेश द्वारा तैयार किए गए प्रजेंटेशन पर गंभीर चर्चा के बाद कार्यवाही के बिन्दु निर्धारित किए गए हैं।
    बैठक में कलेक्टर भोपाल श्री तरूण पिथोड़े, सीहोर कलेक्टर श्री अजय गुप्ता, मुख्य वन संरक्षक श्री एस.के.तिवारी सहित आयुक्त नगर निगम भोपाल श्री विजय दत्ता तथा जिला पंचायत भोपाल के सीईओ श्री सतीश कुमार एस, सीहोर के सीईओ श्री अरूण विश्वकर्मा और ग्राम एवं नगर निवेश की संयुक्त संचालक श्रीमती सुनीता सिंह और अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में कोलांस नदी की लगातार कम होती जा रही जलधारा पर गंभीर चिंता तो व्यक्त की ही भोपाल की प्यास बुझाने वाले बड़े तालाब के जल भराव एरिया में आई कमी को भी गंभीरता से लिया गया। कमिश्नर ने दोनों कलेक्टर्स से कहा है कि वे लघु और दीर्घकालीन दो योजनाएं बनाएं।
    कमिश्‍नर ने इन दोनों स्त्रोतों से जुड़े सीहोर और भोपाल के 87 ग्रामों के लिए प्रत्येक गांव का अलग अलग प्लान बनाने के कलेक्टर्स को निर्देश दिए। नदी और तालाब से ग्रामों और आबादी की सीमा यानि हदबंदी, वाटर रिचार्जिंग के लिए किए जाने वाले कार्य और सघन वन क्षेत्र तैयार करने पर तत्काल काम प्रारंभ किया जाएगा। हदबंदी कर कोलांस और तालाब को बचाने के लिए ग्रामीणों के साथ बैठकर और विशेषज्ञों के साथ मौका मुआयना कर प्लानिंग की जाएगी। हरियाली से हदबंदी का काम शीघ्र शुरू किया जाएगा।
   कृषि- उद्यानिकी और वन विभाग के समन्वय से एक दो वर्षीय कार्य योजना बनाकर कार्य प्रारंभ किया जाएगा। बैठक में तय किया गया है कि तालाब के किनारों को हरा-भरा बनाकर यानि हरियाली से हदबंदी की जाएगी। यह भी तय किया गया कि किसानों को रासायनिक खेती की जगह जैविक खेती करने पर जोर दिया जाएगा। उस दौरान प्रवासी पक्षियों की आमन बढ़ाने के लिए पर्यावरण संरक्षण किये जाने पर बल दिया गया। इस एरिया में जो भी निर्माण कार्य किए जाएंगें वे ऐसी तकनीक से होंगे कि कहीं भी जलधारा को क्षति नहीं   पहुंचे। कोशिश होगी कि नदी और झील में जाने वाली मिट्टी को कटाव एरिया में ही रोका जाए।
    बैठक में विगत वर्षों से नदी संरक्षण की दिशा में कार्यरत आईटीसी और महिन्द्रा कंपनियों के कार्यों की समीक्षा की तथा कलेक्टर को भौतिक स्थिति जानने के लिए कहा है।  सीहोर और भोपाल के 87 ग्रामों के नागरिकों की कार्यशाला आयोजित की जाएगी और उनसे भी सहयोग लेने को कहा  है। अभियान की अगली बैठक 3 सप्ताह बाद होगी और इसमें लघु तथा दीर्घकालीन कार्ययोजना को अंतिम रूप दिया जाएगा।
(10 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जूनजुलाई 2019अगस्त
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
24252627282930
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930311234

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer