समाचार
|| एम.पी. विजन-टू-डिलीवरी रोड मैप-2020-25 || दावोस में वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम की वार्षिक बैठक || आँगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका अन्य कार्यों से सम्बद्ध नहीं होंगे || राष्ट्रीय बालिका दिवस की थीम होगी "जागरुक बालिका-समर्थ मध्यप्रदेश" || रोगी कल्याण समिति की बैठक में लिए गए कई निर्णय || वन एमपी.वन आयडिया प्रतियोगिता के लिये दस फरवरी तक सुझाव/समाधान आमंत्रित || उपार्जन के दौरान खरीदी केन्द्र पर अस्थाई भण्डारण व्यवस्था सुव्यवस्थित होगी || अब कम्प्यूटराइज्ड जारी होंगे पीपीओ || इंदौर जिले में किसानों के सहयोग के लिये 300 से अधिक कृषक बंधुओं की नियुक्ति होगी || पंचायतों से राष्ट्रीय पुरस्कारों के लिए प्रविष्टियाँ आमंत्रित
अन्य ख़बरें
पुलिस अधीक्षक ने ली सडक सुरक्षा समिति की बैठक
स्कूल वाहनों में लगे सीसी टीवी एवं जीपीएस सिस्टम को चेक करें परिवहन अधिकारी-एसपी
भिण्ड | 14-जनवरी-2020
 
    पुलिस अधीक्षक श्री रूडोल्फ अल्वारेस की अध्यक्षता में सडक सुरक्षा समिति की बैठक आज कलेक्टर कार्यालय भिण्ड के सभागार में आयोजित की गई। बैठक में जिला परिवहन अधिकारी श्रीमती अर्चना परिहार से कहा कि स्कूल वाहनो में लगे सीसी टीवी एवं जीपीएस सिस्टम को अभियान के तहत चैक करें।
    बैठक में अपर कलेक्टर श्री अनिल कुमार चांदिल, सीईओ जिला पंचायत श्री आईएस ठाकुर, एसडीएम भिण्ड श्री इकबाल मोहम्मद, जिला परिवहन अधिकारी श्रीमती अर्चना परिहार, ट्रेफिक प्रभारी श्री नीरज शर्मा समिति सदस्य सहित बस ऑपरेटर, स्कूल संचालक उपस्थित थे।
    पुलिस अधीक्षक श्री रूडोल्फ अल्वारेस ने कहा कि स्कूल बसो में लगे सीसी टीवी कैमरे एवं जीपीएस सिस्टम को जिला परिवहन अधिकारी एवं ट्रेफिक प्रभारी मिलकर चैक करें कि सीसी टीवी कैमरे चालू है अथवा नहीं। उन्होंने कहा कि स्कूलो में लगी बसे एवं मैजिक में क्षमता से अधिक बच्चो को नहीं बिठाला जाए। यदि क्षमता से अधिक बच्चे बैठे पाए जाते है तो संबंधित स्कूलो संचालको के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। उन्हांेने यह भी कहा कि स्कूल की बसो में एक अतिरिक्त व्यक्ति को रखना चाहिए, जो बच्चो को उतारने एवं चढाने का कार्य करें।
    एसपी ने बैठक में कहा कि स्कूल की बसो में जो वाहन चालक है, वे आपराधिक प्रवृति के ना हो इस बात की जांच बस मालिक करें। बिना परमिट/ फिटनिस के वाहन नहीं चलाए जाए। साथ ही बसो में स्पीड गर्वनर होना अति आवष्यक है। इसके अलावा पुलिस अधीक्षक ने कहा कि जहां पर ज्यादा एक्सीडेंट होते है, वहां पर साईन बोर्ड लगाए जाए। बैठक में मानक के अनुसार स्पीड ब्रेक नहीं होने पर भी चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि बसो एवं स्कूल मैजिको को चलाने वाले वाहन चालको का मेडीकल परीक्षण एवं नेत्र परीक्षण कराया जाए। एक्सीडेंट होने पर बस मालिको की जिम्मेदारी होगी, वे इस बात का शपथ पत्र देंगे कि वाहन चालको का परीक्षण करा लिया गया हैं। उक्त सभी कार्यवाही करने के लिए बैठक में सात दिवस का समय दिया गया है।
    इसके साथ ही पुलिस अधीक्षक ने जिला परिवहन अधिकारी श्रीमती अर्चना परिहार को निर्देशित किया कि शहर में जितने भी ऑटो एवं ई-रिक्षा चल रहे है, उनकी नम्बरिंग कराई जाए एवं ई-रिक्षो का रजिस्ट्रेशन की कार्यवाही की जाए। ई-रिक्षा एवं ऑटो रिक्षा के लिए रूटचार्ट उपलब्ध कराया जाए एवं उनको खडे होने के लिए जगह चिन्हित कराई जाए। बैठक में नपा सीएमओ को निर्देशित किया गया कि शहर में ट्राफिक सिंगल एवं डिजीटल बोर्ड लगाए जाए। एसपी ने कहा कि सीएमओ एक छोटी सी क्रेन की व्यवस्था कराए, जिससे ट्रेफिक प्रभारी शहर में अनियत्रित खडे वाहनो को उठवाकर थाने में रखवाया जा सके। बैठक में उपस्थित सदस्यों एवं अधिकारियों ने अपने-अपने सुझाव दिए।
(8 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
दिसम्बरजनवरी 2020फरवरी
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
272829303112
3456789

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer