समाचार
|| कलाकारों की प्रस्तुति से भोजपुर मंदिर प्रांगण हुआ भक्तिमय || प्रवर समिति की बैठक 23 फरवरी को || महाविद्यालयों में अध्ययनरत छात्र छात्राओं को उपयोगी जानकारी प्रदान करने हेतु ई-दिशा का शुभारंभ (खुशियों की दास्तां) || दिव्यांग पुनर्वास केन्द्र (उड़ान) में दिव्यांग बच्चों के लिये कम्प्यूटर का बेसिक प्रशिक्षण प्रारंभ (खुशियों की दास्तां) || माताओं-बेटियों की जिन्दगी संवारने के लिये ग्राम पंचायत कन्नपुर में हुआ स्वास्थ्य संवाद (खुशियों की दास्तां) || अब शासकीय विभागों में बनाए जा रहे हैं आधार कार्ड (खुशियों की दास्तां) || श्रीराम के ओरछा आगमन की कथा से शुरू होगा महोत्सव (खुशियों की दास्तां) || हिन्दू-मुस्लिम सद्भाव का प्रतीक बना, नर्मदा गौ-कुंभ का शिवलिंग"खुशियों की दास्तां"" || वित्त मंत्री श्री तरूण भनोत ने किया नर्मदा गौ-कुंभ आयोजन स्थल का निरीक्षण || कुंभ के दौरान नर्मदा तट को रखेंगे साफ-सुथरा
अन्य ख़बरें
प्रदेश में 68 वर्ग किलोमीटर से अधिक बढ़ा वन क्षेत्र
-
धार | 14-जनवरी-2020
    भारतीय वन स्थिति प्रतिवेदन 2017-19 के अनुसार मध्यप्रदेश में 68.49 वर्ग किलोमीटर में वन आवरण बढ़ा है। अति सघन वन 113 वर्ग किलोमीटर और खुले वन 185 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में बढ़े हैं। सामान्य सघन वन 230 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में कम हुए हैं। वन मंत्री श्री उमंग सिंघार ने मंत्रालय में विभागीय समीक्षा के दौरान सघन वन क्षेत्र कम होने वाले जिलों की रिपोर्ट एक सप्ताह में प्रस्तुत करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कार्बन स्टॉक बढ़ाया जाए।
    प्रदेश में वर्ष 2017 में 77 हजार 414 वर्ग किलोमीटर वन आवरण था, जो वर्ष 2019 में बढ़कर 77 हजार 482 वर्ग किलोमीटर हो गया है। इस दौरान प्रदेश के चार जिलों में वनावरण बढ़ा है। इनमें से पन्ना जिले में 75.71 वर्ग किलोमीटर, खंडवा में 57.12, शहडोल में 48.71 और सीधी जिले में 37.16 वर्ग किलोमीटर वनावरण की वृद्धि हुई है। प्रदेश के कुछ जिलों में वनावरण में जीरो से 50 वर्ग किलोमीटर की कमी आई है, जिसमें बड़े भाग पर राजस्व क्षेत्र भी शामिल है। बैठक में प्रदेश में कार्बन स्टॉक बढ़ाने के भी निर्देश दिये।
     बैठक में बताया गया कि अरूणाचल प्रदेश के बाद कार्बन स्टॉक में प्रदेश देश में 110 मिलियन स्टॉक के साथ दूसरे स्थान पर है। वन मंत्री ने वन्य प्राणी, उत्पादन, विकास, वानिकी, कार्य आयोजना, विभाग की भावी योजनाओं, बाँस उत्पादन, ईको पर्यटन से स्थानीय लोगों को रोजगार, सूचना प्रौद्योगिकी के माध्यम से वन संरक्षण आदि की समीक्षा की। बैठक में अपर मुख्य सचिव वन श्री ए. पी. श्रीवास्तव और प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन बल प्रमुख श्री यू. प्रकाशम्, प्रधान मुख्य वन संरक्षक, अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
 
(38 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2020मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
2425262728291
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer