समाचार
|| आकांक्षा योजना का आवेदन विभागीय वेबसाइट पर उपलब्ध || विश्व सामाजिक न्याय दिवस सहित अध्यात्म विभाग फरवरी से दिसम्बर तक हर महिना एक दिवस मनायेगा || बिगड़े वनों, पड़त भूमि एवं खेतों में बांस उत्पादन की कार्य-योजना बनाएं || उज्ज्वला गैस ने दिलाई धुएं से मुक्ति (सफलता की कहानी) || आपकी सरकार आपके द्वार दिव्यांगो के लिए बनी सहारा (खुशियों की दास्तान) || क्षेत्रीय विधायक श्री भूरिया तथा कलेक्टर श्री सिपाहा द्वारा ग्राम भीम फलिया का आकस्मिक भ्रमण || क्षेत्र की समस्याओ के निराकरण के लिए हर संभव प्रयास किये जावेगे- श्री भूरिया || 25 तक कर लें स्वरोजगार योजना के शत-प्रतिशत प्रकरणों में ऋण का वितरण || न्यायालयों में शासकीय भूमि व संपत्तियों के लम्बित प्रकरणों में तथ्य एवं जानकारियां तत्परता से प्रस्तुत करें || दुर्घटना रहित सुगम यातायात के लिए महासंकल्प कार्यक्रम में हजारों लोगों ने ली यातायात नियमों का पालन करने की शपथ
अन्य ख़बरें
नेशनल लोक अदालत का आयोजन 8 फरवरी को
सुलह-समझौते से निपटेंगे हजारों प्रकरण
इन्दौर | 02-फरवरी-2020
      मध्यप्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के आदेशानुसार वर्ष-2020 की प्रथम नेशनल लोक अदालत जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण  श्री सुशील कुमार शर्मा के मार्गदर्शन में अगामी 8 फरवरी 2020 को जिला न्यायालय/तहसील न्यायालयों, श्रम न्यायालय व कुटुम्ब न्यायालय में आयोजित की जा रही है।
      जिला प्राधिकरण के सचिव एवं अपर जिला न्यायाधीश श्री मनीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि आगामी 8 फरवरी को आयोजित नेशनल लोक अदालत में सिविल  प्रकरण, क्लेम प्रकरण, बैंक  रिकवरी प्रकरण, धारा-138 चेक अनादरण प्रकरण, राजीनामा योग्य दाण्डिक प्रकरण, वैवाहिक प्रकरण, भरण-पोषण प्रकरण, श्रम मामले, विद्युत व जलकर के मामले, भू-अर्जन प्रकरण, सर्विस मेंटर, जिला न्यायालय में लम्बित राजस्व मामलों के साथ प्रस्तुत होने वाले प्रीलिटिगेशन मामलों को आपसी  समझौते हेतु रखा जाना है।
    विधिक सेवा सचिव मनीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि चेक अनादरण से संबंधित धारा-138 के मामलों में यदि अभियुक्त द्वारा न्यायालय में उपस्थित होने के पश्चात प्रथम अवसर पर राजीनामा नहीं किया जाता है और कई पेशी तारीखों के बाद राजीनामा किया जाता है, तो ऐसी स्थिति में अभियुक्त को चेक में उल्लेखित राशि का 10 प्रतिशत रूपये राजीनामा शुल्क के रूप में जमा करने पर ही न्यायालय से प्रकरण में राजीनामा करने की अनुमति मिल पाती है परंतु यदि अभियुक्त न्यायालय का नोटिस प्राप्ति उपरांत प्रथम बार न्यायालय में उपस्थित हो रहा है या न्यायालय से उसे प्रथम बार उपस्थित होकर प्रथम अवसर पर लोक अदालत में राजीनामा किया जाता है तो ऐसी स्थिति में जहां परिवादी के प्रकरण प्रस्तुत करने समय न्यायालय में दी गई कोर्ट फीस पूरी की पूरी वापस प्राप्त होती है, वहीं मामले के अभियुक्त को राजीनामा हेतु समन शुल्क की राशि जो कि कई हजारों रूपयें में होती है, से छूट की पात्रता होती है।
    इस प्रकार लोक अदालत में चेक अनादरण संबंधी मामलों में राजीनामा करने पर परिवादी एवं अभियुक्त दोनों को ही फायदा होता है। इसके अलावा दीवानी प्रकरणों विशेषकर संविदा के विशिष्ट पालन के दावों में लोक अदालत में राजीनामा किये जाने की दशा में दी गई कोर्ट फीस जो कि हजारों या लाखों में होती है वह पूरी वापस की जाता है।
 
(17 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2020मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
2425262728291
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer