समाचार
|| कलेक्टर ने बाघ प्रिन्ट साड़ी प्रशिक्षण केन्द्र का किया निरीक्षण || इन्दौर की प्राचार्य और प्राध्यापक ने किया कॅरियर सेल का अवलोकन || दो दिवसीय स्नेह सम्मेलन की रंगारंग शुरूआत || जनगणना एवं चार्ज जनगणना अधिकारी नियुक्त || अवैध उत्खनन  के खिलाफ जिला प्रशासन ने की कार्यवाही || बेटी बचाओं बेटी पढाओं के तहत ’’संकल्प अभियान’’ || प्रत्येक शासकीय सेवक अपना डाटाबेस 29 फरवरी तक अनिवार्य रूप से अद्यतन करे - कलेक्टर डॉ. रावत || दूरभाष अटेण्ड करने के लिए कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई || विधानसभा प्रश्नों के उत्तर भिजवाने के लिए प्रकोष्ठ कायम || विधानसभा प्रश्नों के उत्तर समयावधि में भिजवाने के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त
अन्य ख़बरें
पहली बार बनेगा ड्रोन तकनीक से प्रदेश का मानचित्र
राजस्व विभाग का सर्वे ऑफ इण्डिया और एम.पी. ऑनलाईन से एमओयू
हरदा | 07-फरवरी-2020
    राजस्व मंत्री श्री गोविन्द सिंह राजपूत की मौजूदगी में राजस्व विभाग ने भारत सरकार के सर्वे ऑफ इण्डिया से आबादी सर्वे और सीमांकन एक्यूरेसी के लिए कन्टीन्यूसली ऑपरेटिंग रिफरेंस स्टेशन (कोर्स) एमओयू साईन किया। आमजन को खसरे एवं नक्शे की नकल सहजता से उपलब्ध कराने के लिये राजस्व विभाग ने एमपीऑनलाईन के साथ एमओयू साईन किया। मंत्री श्री राजपूत ने बताया कि नक्शे बनाने के लिए सर्वे ऑफ इण्डिया प्रदेश में पहली बार ड्रोन तकनीक का उपयोग करेगा। इसके लिए प्रदेश के 55 हजार गाँव का चयन किया गया है।
      राजस्व मंत्री ने बताया कि आम आदमी के पास भूमि स्वामित्व संबंधी दस्तावेज, आबादी क्षेत्र का नक्शा एवं अधिकार अभिलेख नहीं होने से अवैध निर्माण, बिक्री एवं सीमांकन के विवाद तथा शासकीय पर अतिक्रमण जैसी समस्याओं को दूर करने के लिए आबादी क्षेत्रों का नक्शा तैयार कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि घनी आबादी के कारण वर्तमान स्केल स्पष्ट रूप से दर्शाना संभव नहीं होता। इस समस्या से निजात पाने के लिये अब आबादी क्षेत्र का नक्शा 1:500 स्केल पर बनवाया जायेगा, जिससे आबादी क्षेत्र की तस्वीर और अधिक स्पष्ट नजर आयेगी।
    श्री राजपूत ने बताया कि मुख्यमंत्री हेल्पलाईन में सबसे अधिक आवेदन सीमांकन से संबंधित होते हैं। उन्होंने कहा कि खड़ी फसल, खराब मौसम एवं कुशल चैनमेनों के अभाव में भूमि का मूल्य निर्धारण और सीमांकन के लिए हाई एक्यूरेसी की आवश्यकता होती है। श्री राजपूत ने बताया कि अभी तक चाँदा/पत्थर नहीं होने से सीमांकन में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता था। उन्होने कहा कि अब राजस्व विभाग द्वारा सीमांकन के कार्य को आधुनिक तरीके से किये जाने के उद्देश्य से कोर्स प्रणाली के क्रियान्वयन के लिए एमओयू साईन किया गया है। श्री राजपूत ने कहा कि सर्वे ऑफ इण्डिया देश के सभी जियोडेटिक कन्ट्रोल का प्रबंधन करता है। सीमांकन के लिए प्रदेश में कोर्स का नेटवर्क स्थापित किया गया है।
 
(20 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
जनवरीफरवरी 2020मार्च
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
272829303112
3456789
10111213141516
17181920212223
2425262728291
2345678

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer