समाचार
|| कोविड-19 संक्रमण नियंत्रण के लिये ग्राम तथा वार्ड स्तर तक होगी निगरानी || कोविड-19 से निपटने युद्ध स्तर पर काम कर रहा राज्य-स्तरीय कंट्रोल रूम || कोविड-19 की निगरानी के लिये जिला-स्तर पर सौपी गई जिम्मेदारियाँ || एक अप्रैल से रेडियो पर शैक्षिक प्रसारण || आठ हजार बंदियों को इमरजेंसी पैरोल और अंतरिम जमानत || मुख्यमंत्री ने निर्माण श्रमिकों के खातों में ट्रांसफर की अठासी करोड़ से अधिक सहायता राशि || घर से कार्य कर सामाजिक दायित्व के निर्वहन का माडल बनाएं कुलपति || पूर्ण परिश्रम एवं कर्तव्यनिष्ठा से करें कोरोना संकट का सामना || अब घर बैठे करें बिजली बिल का ऑनलाईन भुगतान || पीडीएस में राशन वितरण की शिकायत 181 पर ही करें
अन्य ख़बरें
कोरोना वायरस के संबंध में श्रमायुक्त द्वारा दिशा-निर्देश जारी
-
कटनी | 20-मार्च-2020
    कोरोना वायरस रोग के फैलने की गंभीर स्थिति को दृष्टिगत रखते हुये इसे महामारी घोषित किया गया है। इस संबंध में श्रमायुक्त मध्यप्रदेश शासन द्वारा आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं। जिसके तहत जिले अन्तर्गत समस्त कारखानों, संस्थानों, स्थापनाओं के मालिकों एवं प्रबंधकों को निर्देशित किया गया है कि उनके यहां कार्यरत श्रमिकों में नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के एवं बचाव के लिये आवश्यक सुरक्षा के रक्षित कार्यों को अपनाया जाये। श्रमिकगणों के लिये कारखानों में नियमित रुप से दिन में कई बार हाथों को साबुन से धोने की व्यवस्था रखा जाये। कारखानों में श्रमिकों को इससे बचाव व रोकथाम में अपनायी जाने वाली जानकारी प्रसारित करने के लिये भी निर्देशित किया गया है। जिसमें नियमित रुप से दिन में कई बार हाथों को साबुन व सेनेटाईजर्स से धोने, बिना हाथ धोने मुंह, आंख या नाक नहीं छूने, संक्रमित सामग्रियों के संपर्क में आने के बाद आंख या नाक छूने से बचने की समझाईश दी गई है। सीधे संपर्क में न आने वाली गतिविधियों का अनुसरण करने व अभिवादन हेतु हाथ मिलाने की जगह नमस्ते करने के लिये कहा गया है। साथ ही इस बीमारी के संबंध में अधिक जानकारी के लिये टोल फ्री नंबर 104 पर संपर्क किया जा सकता है। बीमारी के लक्षण दिखाई देने पर नजदीकी चिकित्सालय में संपर्क करने के लिये कहा गया है। बीमारी के संक्रमण से बचाव हेतु मानक स्तर के मास्क का उपयोग सुनिश्चित करने के लिये कहा गया है। जिन कारखानों में महिला श्रमिकों का नियोजन 30 से कम होने पर नियमानुसार क्रेस की व्यवस्था नहीं है, उन कारखानों में नियोजित महिलाओं के 6 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिये बीमारी से बचाव हेतु पुथक से विशेष व्यवस्था के निर्देश दिये गये हैं।
   कारखानों मे क्रेच की व्यवस्था मौजूद होने पर क्रेच स्थल पर ही साबुन से हाथ धोने की व्यवस्था व सेनेटाईजर की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिये कहा गया है। जिन कारखानों में मेडिकल ऑफीसर नियुक्त है, वहां इस संबंध में सतत् निगरानी रखने के निर्देश दिये गये हैं। इसके साथ ही इस बीमारी से बचाव एवं रोकथाम हेतु जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग द्वारा समय-समय पर जारी सूचनाओं व उपायों के संबंध में श्रमिकों को नियमित रुप से अवगत कराने के लिये भी श्रमायुक्त द्वारा निर्देश जारी किये गये हैं।
 
(12 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मार्चअप्रैल 2020मई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
303112345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930123
45678910

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer