समाचार
|| बालाघाट में पुल-पुलियाओ के लिये 12 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत || मास्क न लगाने पर दस व्यक्तियों पर जुर्माना || कलेक्टर ने किया नये बने कण्टेनमेंट जोन का भ्रमण || आवागमन के लिए नहीं होगी पास की जरूरत || ऑनलाइन आवेदन पर फिंगर प्रिंट के स्थान पर ओटीपी की सुविधा मिलेगी-मंत्री श्री पटेल || मत्स्य प्रजनन काल 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्याखेट निषेध || मत्स्य प्रजनन काल 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्याखेट निषेध || हायर सेकण्डरी और हायर सेकण्डरी व्यवसायिक के शेष विषयों की परीक्षा 9 जून से || श्रम-सिद्धि अभियान दे सकता है श्रमिकों को रोजगार के संकट से बड़ी राहत || डीएलसीसी की बैठक 6 जून को
अन्य ख़बरें
कोरोना वायरस - पब्लिक ओरिऐंटेशन एण्ड मास अवेयरनेस पर होमगार्ड एवं एसडीईआरएफ का प्रशिक्षण आयोजित
-
बैतूल | 20-मार्च-2020
 
 
   नोवल कोरोना वायरस कोविड-19 पर पब्लिक ओरिऐंटेशन एंड मास अवेयरनेस हेतु शुक्रवार 20 मार्च को पुराना कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में प्रशिक्षण प्रदाय किया गया। यह प्रशिक्षण जिला स्तर के मास्टर ट्रेनर्स द्वारा होमगार्ड एवं एसडीईआरएफ (स्टेट डिजास्टर इमरजेंसी रेसपांस फोर्स राज्य आपदा आपातकालीन मोचन दल) को प्रदाय किया गया। प्रशिक्षण में डिस्ट्रिक्ट कमाण्डेंट श्री एसआर आजमी, प्लाटून कमांडर श्री महेन्द्र वर्मा एवं एम एण्ड ई आफिसर श्री मनोज चढ़ोकार भी उपस्थित रहे।
    प्रशिक्षण में बताया गया कि कोविड-19 एक संक्रमण है जो सीधे या संक्रमित व्यक्ति/वस्तु के संपर्क में आने से फैलता है। यह संक्रमण सांस/श्वसन तंत्र को प्रभावित करता है, जैसे-नाक, गला, फेफड़े आदि। कोरोना वायरस में उच्च संक्रामकता परंतु निम्न घातकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिवेदन के अनुसार भारत में कोविड-19 की घातकता दर केवल 2.1 है। सिद्ध तथ्यों की कमी एवं अफवाहों के कारण समुदाय में खलबली है। वायरस के नवीन होने के कारण लोगों में पडऩे वाले प्रभाव के बारे में संपूर्ण जानकारी का भी अभाव है। लगभग 80 प्रतिशत रोगियों में केवल इस वायरस के हल्के लक्षण होते हैं और वे दो सप्ताह में ठीक हो जाते हैं। अधिकतर समय पर की गई चिकित्सकीय देखभाल से ही लक्षणों का उपचार किया जा सकता है।
    नोबल कोरोना वायरस के प्रारंभिक लक्षणों में सर्दी जुकाम, तेज बुखार, सूखी खांसी एवं सांस लेने में तकलीफ है। बुजुर्ग लोगों में कोविड-19 का गंभीर संक्रमण होने की दुगनी संभावना होती है। जबकि प्राय: बच्चों एवं युवा वयस्कों में कोरोना वायरस से संभावित बीमारी हल्की होती है। 18 वर्ष से कम उम्र में केवल 2 प्रतिशत प्रकरण ही प्रतिवेदित है। एक संक्रमित व्यक्ति, एक स्वस्थ व्यक्ति को संक्रमण फैला सकता है। कोरोना वायरस का संक्रमण संक्रमित व्यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति तक आंख नाक एवं मुंह के रास्ते से छींक, खांसी की बूंदों के द्वारा फैलता है। संक्रमित वस्तु सतहों जैसे-टेबल, कुर्सी, पेन, सेलफोन, बर्तन आदि के संपर्क से भी कोरोना वायरस फैल सकता है। शाकाहारी या मांसाहारी खाने की वस्तुओं से आमतौर पर कोरोना संक्रमण नहीं फैलता। हालांकि खुली खाद्य वस्तुओं पर संक्रमित बूंदे पडऩे के बाद उपयोग करने से संक्रमण की संभावना हो सकती है। नोबल कोरोना वायरस का प्रसार पोल्ट्री पदार्थो से सीधे तौर पर होने की कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। विशेषज्ञों की राय के अनुसार भोज्य पदार्थो को धोकर व स्वच्छ रूप से अच्छी तरह पकाकर ही खाना चाहिये।
    प्रशिक्षण में बताया गया कि 16 मार्च 2020 की स्थिति में नोबल कोरोना वायरस का संक्रमण केवल इन परिस्थितियों में संभव है-यदि बुखार, खांसी, सांस की तकलीफ  के साथ यह इतिहास रहा हो कि करोना वायरस प्रभावित क्षेत्रों में भ्रमण किया हो, ऐसे किसी व्यक्ति के निकट संपर्क में आये हो या कोरोना वायरस के उपचार रोगियों के लिये चिन्हित स्वास्थ्य केन्द्र/प्रयोगशाला में जाने से।
    नोबल कोरोना वायरस के बचने के उपायों में संक्रमित व्यक्ति से कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाये रखें। खांसते व छींकते समय नाक मुंह ढंकें, प्रयोग किये गये टिशू को बंद डब्बे में फेंके, खांसते समय कोहनी मोडक़र मुख के सामने रखें, नियमित रूप से साबुन व पानी से अच्छी तरह से हाथ धोयें, भीड़भाड़ वाली जगह में जाने से बचे, अनावश्यक यात्रा से परहेज करें।
    कोरोना की जांच केवल संदिग्ध प्रकरण में चिकित्सकीय अनुशंसा के आधार पर ही की जाना है। प्रदेश में वर्तमान में कोरोना वायरस की जांच हेतु एम्स भोपाल एवं एनआईआरटीएच जबलपुर की प्रयोगशालाओं को चिन्हित किया गया है। कोरोना वायरस से संक्रमित मंद लक्षण वाले रोगी बिना किसी विशेष उपचार के ही ठीक हो सकते हैं। फिलहाल नोबल कोरोना वायरस का कोई विशिष्ट उपचार या वेक्सिन उपलब्ध नहीं है। अभी तक पालतू या अन्य जानवरों में कोरोना से बीमारी नहीं है, फिर भी जानवरों से संपर्क के पहले एवं बाद में हाथ धोना उचित है। कोरोना से बचाव के तीन महत्वपूर्ण सूत्र हैं- खुद की सुरक्षा, आपके प्रियजन की सुरक्षा एवं आपके समुदाय की सुरक्षा।
(75 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer