समाचार
|| बालाघाट में पुल-पुलियाओ के लिये 12 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत || मास्क न लगाने पर दस व्यक्तियों पर जुर्माना || कलेक्टर ने किया नये बने कण्टेनमेंट जोन का भ्रमण || आवागमन के लिए नहीं होगी पास की जरूरत || ऑनलाइन आवेदन पर फिंगर प्रिंट के स्थान पर ओटीपी की सुविधा मिलेगी-मंत्री श्री पटेल || मत्स्य प्रजनन काल 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्याखेट निषेध || मत्स्य प्रजनन काल 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्याखेट निषेध || हायर सेकण्डरी और हायर सेकण्डरी व्यवसायिक के शेष विषयों की परीक्षा 9 जून से || श्रम-सिद्धि अभियान दे सकता है श्रमिकों को रोजगार के संकट से बड़ी राहत || डीएलसीसी की बैठक 6 जून को
अन्य ख़बरें
वायरस के संक्रमण पर प्रभावी रोक लगाने निजी दो पहिया-चार पहिया वाहनों के परिवहन पर पूर्ण रोक
निराश्रित-बुजुर्गों-पेंशनरों को पेंशन राशि बैंक घर पहुंचाएंगें, संभागायुक्त श्री मिश्रा की अध्यक्षता में संपन्न बैठक में अनेक सख्त निर्णय
जबलपुर | 30-मार्च-2020
    कोरोना वायरस के संक्रमण को प्रभावी ढंग से पूरी तरह से रोकने और जन समुदाय के व्यापक हितों और जनजीवन की सुरक्षा के लिए निर्णय लिया गया है कि शहर में निजी दो पहिया और चार पहिया वाहनों द्वारा परिवहन पर पूर्ण रोक लगा दी गई है। अब बाजार से सामग्री लाने एवं भ्रमण आदि उद्देश्य से निजी वाहनों का उपयोग नहीं किया जा सकेगा। केवल कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए शासकीय प्रयोजन से उपयोग आने वाले वाहन, शासकीय वाहन और जन स्वास्थ्य के लिए उपयोग में आने वाले वाहनों को ही छूट मिलेगी। इस निर्णय का उल्लंघन की श्रेणी में आने वाले वाहनों को जप्त कर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
    संभागायुक्त रवीन्द्र कुमार मिश्रा की अध्यक्षता में पुलिस कंट्रोल रूम में आयोजित बैठक में कोरोना वायरस के संक्रमण को पूर्ण रूप से रोकने के लिए और कड़े निर्णय लिए गए। बैठक में निर्णय लिया गया कि बुजुर्गों-निराश्रितों, पीड़ितों आदि को मिलने वाली पेंशन राशि सभी पेंशनरों को बैंक द्वारा उनके घर पहुंचाई जाएगी। ताकि बुजुर्ग-बीमार, कमजोर व्यक्ति घर से बाहर नहीं निकलें और कोरोना संक्रमण से प्रभावित होने से बचे रहें। साथ ही बैंक में भीड का माहौल निर्मित नहीं होने पाए यह निर्णय पूरे संभाग में सभी शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में लागू होगा। शहरी क्षेत्र में लीड बैंक अधिकारी, बैंकों के मैनेजर के सहयोग से बैंक एजेंट के माध्यम से पेंशन राशि पेंशनर के घर समय पर पहुंचाएंगे। बैंक में प्रत्येक पेंशनर के घर का पता, टेलीफोन नंबर उपलब्ध रहता है। ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम पंचायतों के सहयोग में बैंक द्वारा यह व्यवस्था बनाई जाएगी।
    बैठक में पुलिस महानिरीक्षक भगवत सिंह चौहान, पुलिस उप महानिरीक्षक मनोहर वर्मा, कलेक्टर भरत यादव, पुलिस अधीक्षक अमित सिंह, नगर निगम कमिश्नर आशीष कुमार, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी प्रियंक मिश्रा, अपर कलेक्टर संदीप जीआर, अपर कलेक्टर हर्ष दीक्षित, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, सभी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस तथा प्रशासन-पुलिस के व्यवस्थाओं से जुड़े अन्य अधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी, डीन मेडिकल कालेज मौजूद थे।
    संभागायुक्त ने कहा कि वायरस नहीं फैले इसके लिए अभी तक पाए गए कोरोना पाजिटिव केस से संबंधित व्यक्ति के घर के आसपास के कम से कम तीन किलोमीटर क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया जा चुका है। इस क्षेत्र से किसी भी व्यक्ति को ना तो अंदर से बाहर आने दें और ना ही किसी को अंदर जाने दें। इस क्षेत्र के अंदर यदि दवा, किराना, सब्जी आदि की दुकानें हैं तो वे खुले। लोग वहीं से सामग्री लें। सोशल डिस्टेसिंग का सख्ती से पालन कराया जाए। संभागायुक्त ने निर्देश दिए कि ऐसे क्षेत्रों में ड्रोन के माध्यम से भी निगरानी रखी जाए तथा प्लास्टिक की झण्डी आदि लगाकर इन क्षेत्रों की सीमा को सभी की जानकारी में लाया जाए।
    संभागायुक्त श्री मिश्रा ने कहा कि जहां भी पुलिस द्वारा बैरियर-पिकेट लगाए गए हैं वहां एक वक्त में दो ही पुलिस कर्मी रहें, शेष पुलिस जवान भ्रमण पर रहें। संकरी गलियों में जाएं। लोगों को घर के अंदर रहने की समझाइश दें। उन्हें चेतावनी दी जाए कि यदि वे बार-बार घर से बाहर निकलेंगे तो बाहर से ताला लगाकर उन्हें घरों में रखा जाएगा। चौपाल के रूप में भीड़ एकत्र मत होने दें। पुलिस जवान सीटी तथा सायरन आदि से चेतावनी देने का कार्य बार-बार करें। कहीं ज्यादा व्यक्ति दिखने पर उन्हें लाउड स्पीकर से समझाइश व चेतावनी दी जाए। नागरिकों को सुबह शाम की वॉक, कुत्ता घुमाने, चौपाल लगाकर बातचीत करने से रोका जाए।
    संभागायुक्त ने कहा कि जो भी व्यक्ति और संस्था द्वारा गरीबों, मजदूरों, निराश्रितों, पीड़ितों और पीड़ित मानवता के लिए दान देना चाहते हैं। वे भारतीय रेडक्रास सोसायटी को राशि प्रदान कर सकते हैं। भोजन दान देने  वाले व्यक्ति व संस्था को भोजन सामग्री नगर निगम को देनी होगी। नगर निगम के अधिकारी सहयोगी, कर्मचारी और वालेन्टियर्स के माध्यम से चिन्हित निर्धारित स्थानों से भोजन का अपनी देखरेख में वितरण कराएंगे। इस सारी प्रक्रिया में किसी भी स्थिति में सोशल डिस्टेसिंग के नियम का उल्लंघन नहीं होने पाए तथा दानदाता कई लोगों को लेकर भीड़ के रूप में दान देने नहीं आए। ना ही भोजन वितरण का श्रेय लेने के लिए फोटो आदि खिचाने की प्रक्रिया अपनाई जाए। संभागायुक्त ने कहा कि कुछ निजी संस्थाएं स्वयं ही भोजन वितरण का कार्य कर रही हैं इन्हें रोका जाए। संभागायुक्त ने निर्देश दिए कि भोजन के पैकेट भी तैयार कराए जाएं, जिन्हें मंदिरों, घाटों के समीप और अन्य स्थानों पर विश्राम करने वाले लाचार, गरीबों को वितरित कराया जाए। क्योंकि ये लोग भोजन वितरण केन्द्रों तक पहुंचने में भी असमर्थ रहते हैं। बाहर से आने वाले श्रमिकों और अन्य लोगों को भी राशन सामग्री के स्थान पर भोजन के पैकेट वितरित कराए जाएं। भोजन कहां कहां बन कर वितरित हो रहा है ऐसे स्थानों की सूची प्रत्येक पुलिस थानों और संबंधित व्यक्तियों को उपलब्ध कराई जाए। सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचारित की जाए। भीडभाड वाले इलाकों, स्लम एरिया आदि की निगरानी कैमरे तथा ड्रोन के माध्यम से भी कराई जाए। दान स्वरूप दी जाने वाले अन्य सामग्री जैसे मास्क, सेनेटाइजर व अन्य सामग्री नगर निगम, कलेक्टर कार्यालय, कमिश्नर कार्यालय भी पहुंचाई जा सकती है।
    संभागायुक्त ने कहा कि एमआरपी से अधिक कीमत पर आवश्यक वस्तु की बिक्री करने वाले व्यवसायियों पर कार्रवाई की जाए। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि आप सब जिम्मेदार अधिकारी हैं। अत: जो भी कार्य करें और निर्णय करें वह आमजन, समुदाय और शासन के हित में हो।
    आईजी पुलिस ने सभी पुलिस अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए तथा निर्देशों का पालन कड़ाई से कराने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि होम क्वारेंटाइन व्यक्ति यदि घर के बाहर घूमता है तथा सावधानियों का पालन नहीं करता है तो उसके विरूद्ध एफआईआर दर्ज की जाए। गलियों में चल रही चाय समोसे की दुकानें पूरी तरह से बंद कराई जाएं।
    आईजी पुलिस ने कहा कि चेक प्वाइंट बढ़ाए जाएं। घरों के बाहर चौपाल लगाना रोके। सार्वजनिक पूजा-पाठ पर रोक लगाई जाए। लोगों को घरों में पूजा करने समझाइश दी जाए।
    संभागायुक्त ने कहा कि प्रत्येक कार्यालय के मुख्य गेट पर सेनेटाइजर रखा जाए। एक व्यक्ति की सेनेटाइज करने के लिए ड्यूटी लगाई जाए। कलेक्टर ने कहा कि बैंक सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक सामान्य जन के लिए खुलें। एटीएम तथा बैंकों को समय-समय पर प्रतिदिन सेनेटाइज किया जाए। एटीएम के हैण्डल तथा की पैड सेनेटाइज किया जाए। उन्होंने बताया कि अब कर्फ्यू पास केवल इलाज, मृत्यु, गमी आदि पर परिवहन के लिए मिलेगा। अन्य प्रयोजन से कर्फ्यू पास जारी नहीं होंगे। निर्णय लिया गया है कि जो मजदूर जहां हैं वहीं रहेगा। कलेक्टर ने छात्रावास, आश्रम, शालाओं को आश्रय स्थल के रूप में उपयोग करने के निर्देश दिए। ग्रामीण क्षेत्र में भी वहीं मजदूर रहेंगे। उनके लिए आवश्यक इंतजाम होंगे। दुकानदार, सब्जी विक्रेता सेनेटाइज पर विशेष ध्यान दें।
    कलेक्टर ने कहा कि सोशल डिस्टेसिंग बहुत महत्वपूर्ण है। कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों की पहचान के लिए निर्धारित मापदण्ड के आधार पर सैम्पल लेकर पैथालाजी जांच का कार्य लगातार किया जा रहा है। विभिन्न रोगों के इलाज के लिए निजी चिकित्सालयों को चिन्हित किया गया है। आवश्यक वस्तुओं की होम डिलेवरी व्यवस्था को मजबूत किया जा रहा है। गरीबों-मजदूरों से मकान मालिक किराया नहीं लेंगे। निजी स्कूलों को फीस नहीं लेने के निर्देश दिए गए हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में फसल कटाई के लिए हार्वेस्टर की फीस तय कर दी गई है। आवश्यक वस्तुओं के परिवहन पर रोक नहीं है।
    कलेक्टर ने बताया कि बाहर से आने वाले मजदूरों का पहले हैल्थ चैक अप होगा। फिर उन्हें 15 दिन होम आइसोलेशन में रहना होगा। इस संबंध में ग्रामीण क्षेत्रों में मैदानी अधिकारी-कर्मचारियों को निर्देश जारी कर दिए गए हैं। इन्हें रोज रिपोर्ट जिला मुख्यालय भेजनी होगी। ठेकेदारों को उनके लिए कार्य करने वाले मजदूरों की जिम्मेदारी लेनी होगी। 

 
(66 days ago)
डाउनलोड करे क्रुतीदेव फोन्ट में.
डाउनलोड करे चाणक्य फोन्ट में.
पाठकों की पसंद

संग्रह
मईजून 2020जुलाई
सोम.मंगल.बुध.गुरु.शुक्र.शनि.रवि.
25262728293031
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293012345

© 2012 सर्वाधिकार सुरक्षित जनसम्पर्क विभाग भोपाल, मध्यप्रदेश             Best viewed in IE 7.0 and above with monitor resolution 1024x768.
Onder's Computer